Skip Navigation Links
छोटा राजन - सितारों ने छोड़ा साथ, वक़्त है अध्यात्म की ओर मुड़ने का


छोटा राजन - सितारों ने छोड़ा साथ, वक़्त है अध्यात्म की ओर मुड़ने का

डॉन की तलाश पुलिस सालों से कर रही थी और अंत में डॉन कानून की गिरफ्त में है। सन 1995  में इंटरपोल ने छोटा राजन को मोस्ट वॉन्टेड घोषित कर दिया था। तभी से छोटा राजन की तलाश में मुंबई पुलिस हाथ पैर मार रही थी।


राजेन्द्र सदाशिव निखलजे यानि छोटा राजन का जन्म 1956  में मुंबई के पूर्व उपनगर चेंबूर में एक मध्यम वर्गीय दलित परिवार में हुआ था। उसके पिता नगर निगम में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी थे। राजेन्द्र निखलजे बचपन से ही दादागिरी और बुरी संगत का शौकीन था।  समय की मार और हालातों के चलते राजेन्द्र सदाशिव निखलजे, सिनेमा टिकट ब्लैक करने लगा और धीरे-धीरे छोटा राजन के नाम से विख्यात हो गया।


अभी हाल ही में इंडोनेशिया के बाली में राजन को गिरफ्ताकर कर भारत लाया गया है। ज्ञात हो कि छोटा राजन हत्या के कई मामलों में अभियुक्त हैं। छोटा राजन बीस साल से फरार थे। सितारों के हिसाब से आइये एक नजर डालते हैं कैसा रहेगा इनका आगामी समय-


यह आंकलन, छोटा राजन के जन्म साल और गिरफ्तारी कि तारीख के आधार पर किया गया है। जन्म महीना ज्ञात ना होने कि वजह से इनके जीवन की विभिन्न गतिविधियों की तारीखों को भी आधार बनाया गया है।

  

नाम- सदाशिव निखलजे उर्फ़ छोटा राजन

जन्म- 1956

जन्म-स्थान- मुंबई

समय- ज्ञात नहीं।

गिरफ्तारी तारीख- 25 अक्टूबर 2015

लग्न-कन्या, चन्द्र राशि- मीन, नक्षत्र- रेवती, चौथा चरण, महादशा- राहू, अंतरदशा- शनि, प्रत्यांतर- मंगल।


वर्तमान में छोटा राजन की कुंडली में राहू की दशा चल रही है। कुंडली के अनुसार राहू अभी नीचस्थ है जिसे अच्छा नहीं कहा जा सकता है। शनि अभी अंतरदशा में है जो कन्या लग्न में अच्छे परिणाम नहीं देता है। इस लग्न में शनि छठे घर का स्वामी होता है जो फसने-फसाने का और कोर्ट-कचहरी के मामलों में जातक को ले जाता है। शनि के साथ प्रत्यांतर दशा में मंगल चल रहा है और यह दोनों 4 दिसंबर तक साथ चलने वाले हैं। इसलिए इस समय तक राजन को परेशानियों से गुजरना पड़ेगा। दोस्त कम और दुश्मन ज्यादा सक्रीय रहेंगे। वैसे इसे नियति भी बोला जा सकता है जो शनि 80 के दशक में छोटा राजन की मदद कर रहा था वही शनि अब इनके के लिए परेशानी बन चुका है। मंगल का शनि के घर में आना, शास्त्रों के अनुसार सही नहीं माना जाता है। 4 अक्टूबर 2015 से शुरू होकर 4 दिसंबर 2015 तक का समय बिलकुल भी सही नहीं कहा जा सकता है। इस समय में छोटा राजन बहुत से लोगों को अपना दुश्मन बनाने का कार्य करेंगे।


छोटा राजन अगर पिछले कुछ समय में मंगल को शक्ति प्रदान करने के कुछ कार्य करते तो हो सकता था कि इनको इतनी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता। अभी इनकी कुंडली में बारहवें स्थान पर ब्रहस्पति विराजमान है तो आगामी समय व्यवसाय और आर्थिक हानियों से भरा हुआ रहेगा। आने वाले समय में इनको फिजूलखर्ची और घाटों से परेशान रहना पड़ सकता है।


अब अगर बात करें, राहत वाली तो अभी अगले एक साल तक इनको कोई राहत नजर नहीं आ रही है किन्तु आगामी साल 2016 में 23 सितम्बर के बाद जरुर कुछ राहत राजन को प्राप्त हो सकती हैं। तब राहू के साथ बुध अंतर में आ जायेगा और कुछ राहत का अनुमान तब लगाया जा सकता है।


ज्योतिषाचार्यों के अनुसार अभी राजन को खुद के स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहने की आवश्यकता है। आने वाले समय में इनको जोड़ों में दर्द, ब्लड सम्बंधित समस्या और किडनी से जुड़े रोग परेशान कर सकते हैं।


एस्ट्रोयोगी इनको मुख्य सलाह देता है कि अभी इनको अपने दुश्मनों से सचेत रहना चाहिए। किसी को कमजोर आंकना सही नहीं होता है। मंगल का छठे घर में बैठना और शनि का कुंडली में वक्रीय होना, दुश्मनों की संख्या बढ़ाता है।


एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की मानें तो छोटा राजन को अभी तक की अपनी जिंदगी का आंकलन करना शुरू कर देना चाहिए। अगर मुमकिन हो तो अध्यात्म की ओर ध्यान लगाना, इनके लिए उपयोगी साबित हो सकता है। 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...