Skip Navigation Links
दीपा करमाकर क्या कहते हैं इस जिमनास्ट के सितारे


दीपा करमाकर क्या कहते हैं इस जिमनास्ट के सितारे

पूर्वोत्तर भारत के छोटे से राज्य त्रिपुरा से बहुत ही गरीब परिवार से निकल कर आज एक इतिहास को रचकर दूसरा इतिहास रचने की दहलीज पर रियो ओलिंपिक में एक खिलाड़ी खड़ी है। नाम है दीपा कर्माकर। विपरीत परिस्थितियों से निकलकर बुलंदी के आसमान पर पहुंच कर दीपा दूसरों के लिये प्रेरणा बन चुकी हैं। ज्योतिषशास्त्र कहता है कि जातक की कुंडली में ग्रहों की दशा ही जमीन से फलक तक और फर्श से अर्श तक पंहुचाती हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने दीपा करमाकर की कुंडली का अध्ययन किया है। आइये जानते हैं क्या कहते हैं जिमानास्टिक की दुनिया में चमकते इस सितारे के सितारे। यदि आप अपने सितारों के बारे में जानने के इच्छुक हैं तो डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप और परामर्श करें अपने पसंदीदा ज्योतिषाचार्यों से। अभी बात करने के लिये लिंक पर क्लिक करें।



नाम : दीपा करमाकर

जन्म तिथि9 अगस्त 1993

जन्म समय: 12:00

जन्म स्थानअगरतला, त्रिपुरा


उपरोक्त विवरण के अनुसार दीपा करमाकर की कुंडली तुला लग्न की बनती है। इसके अनुसार इनकी चंद्रराशि मेष है। वर्तमान में इनकी कुंडली में महादशा और अंतर्दशा सूर्य की है एवं प्रत्यंतर में राहू विराजमान हैं।

दीपा करमाकर की कुंडली में इस समय कर्म के क्षेत्र में बहुत ही शुभ बुधादित्योग बन रहा हैं। चंद्रमा भी पहले से मंगल की राशि में बैठा है। पूर्ण सुख देने वाला एवं शत्रु को प्राजित करने वाला हर्ष योग भी इनकी कुंडली में है जो कि इन्हें दृढ़ निश्चयी भी बना रहा है। सूर्य की दशा वर्तमान में इन पर चल रही है जो कि जल्द ही सिंह राशि में गोचर करने वाला है। वहीं त्रिकोण में शनि का अपनी राशि का होना भी मान सम्मान की वृद्धि करने वाला है लेकिन कभी कभार यदि शनि की दृष्टि राशि पर पड़ती है तो उससे निराशा भी घेरने लगती है। वर्ष कुंडली के अनुसार भी फिलहाल मुंथा चल रही है और मंगल भी पराक्रम का है जो कि लाभकारी है।


क्या हो सकती है परेशानी की वजह

हालांकि दीपा की कुंडली में फिलहाल सबकुछ अच्छा है लेकिन शनि की ढैया और वर्ष कुंडली में ग्रहों का केंद्र से बाहर होना थोड़ी चिंता का विषय बन सकता है लेकिन दीपा यदि एकाग्रता और निर्भिकता के साथ यानि पूरे आत्मविश्वास के साथ अपना करतब दिखाएं तो कामयाबी मिल सकती है।


1964 के बाद भारत की ओर से पहली बार कोई जिमनास्ट फाइनल तक पंहुच पाया है, उस पर बतौर महिला जिमनास्ट तो यह उन्हीं की उपलब्धि है जिससे एक इतिहास दीपा रच ही चुकी हैं यदि वे पदक हासिल करने में कामयाब होती हैं तो यह एक और इतिहास बनाने में कामयाब होंगी। 9 अगस्त के दिन जन्मी इस होनहार भारतीय जिमनास्ट को उनके जन्मदिन की एस्ट्रोयोगी की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं इसी उम्मीद के साथ की ओलिंपिक पदक हासिल कर वे खुद का सपना और देश की उम्मीद पूरी करें, यही उनके  लिये जन्मदिनक का श्रेष्ठ उपहार भी होगा।


यह भी पढ़ें

राहू है बलवान छा सकते हैं नरसिंह पहलवान

रियो ओलिंपिक 2016 - क्या भारतीय खिलाड़ियों को मिलेगा सितारों का साथ

युवाओं के लिए कुछ खास है 2016

2016 - क्या खेलों में चमकेगा भारत

2016 - क्या कहते हैं भारत के सितारे

2016 - क्या कहते हैं आपके सितारे




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...
गंगा दशहरा – इस दिन गंगा स्नान से कटेंगें दस पाप

गंगा दशहरा – इस दि...

दुनिया की सबसे पवित्र नदियों में एक है गंगा। गंगा के निर्मल जल पर लगातार हुए शोधों से भी गंगा विज्ञान की हर कसौटी पर भी खरी उतरी विज्ञान भी मानता है कि गंगाजल में कि...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
वृषभ संक्रांति – वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल

वृषभ संक्रांति – व...

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन ...

और पढ़ें...
शुक्र का मिथुन राशि में परिवर्तन – जानें किसे मिलेगा प्यार तो किसका बढ़ेगा कारोबार!

शुक्र का मिथुन राश...

शुक्र का राशि परिवर्तन 14 मई को वृषभ राशि से मिथुन राशि में हो रहा है। शुक्र को प्रेम व लाभ का कारक भी माना जाता है। शुक्र राशि चक्र की दूसरी राशि वृषभ व सातवीं राशि...

और पढ़ें...