Skip Navigation Links
दीपा करमाकर क्या कहते हैं इस जिमनास्ट के सितारे


दीपा करमाकर क्या कहते हैं इस जिमनास्ट के सितारे

पूर्वोत्तर भारत के छोटे से राज्य त्रिपुरा से बहुत ही गरीब परिवार से निकल कर आज एक इतिहास को रचकर दूसरा इतिहास रचने की दहलीज पर रियो ओलिंपिक में एक खिलाड़ी खड़ी है। नाम है दीपा कर्माकर। विपरीत परिस्थितियों से निकलकर बुलंदी के आसमान पर पहुंच कर दीपा दूसरों के लिये प्रेरणा बन चुकी हैं। ज्योतिषशास्त्र कहता है कि जातक की कुंडली में ग्रहों की दशा ही जमीन से फलक तक और फर्श से अर्श तक पंहुचाती हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने दीपा करमाकर की कुंडली का अध्ययन किया है। आइये जानते हैं क्या कहते हैं जिमानास्टिक की दुनिया में चमकते इस सितारे के सितारे। यदि आप अपने सितारों के बारे में जानने के इच्छुक हैं तो डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप और परामर्श करें अपने पसंदीदा ज्योतिषाचार्यों से। अभी बात करने के लिये लिंक पर क्लिक करें।



नाम : दीपा करमाकर

जन्म तिथि9 अगस्त 1993

जन्म समय: 12:00

जन्म स्थानअगरतला, त्रिपुरा


उपरोक्त विवरण के अनुसार दीपा करमाकर की कुंडली तुला लग्न की बनती है। इसके अनुसार इनकी चंद्रराशि मेष है। वर्तमान में इनकी कुंडली में महादशा और अंतर्दशा सूर्य की है एवं प्रत्यंतर में राहू विराजमान हैं।

दीपा करमाकर की कुंडली में इस समय कर्म के क्षेत्र में बहुत ही शुभ बुधादित्योग बन रहा हैं। चंद्रमा भी पहले से मंगल की राशि में बैठा है। पूर्ण सुख देने वाला एवं शत्रु को प्राजित करने वाला हर्ष योग भी इनकी कुंडली में है जो कि इन्हें दृढ़ निश्चयी भी बना रहा है। सूर्य की दशा वर्तमान में इन पर चल रही है जो कि जल्द ही सिंह राशि में गोचर करने वाला है। वहीं त्रिकोण में शनि का अपनी राशि का होना भी मान सम्मान की वृद्धि करने वाला है लेकिन कभी कभार यदि शनि की दृष्टि राशि पर पड़ती है तो उससे निराशा भी घेरने लगती है। वर्ष कुंडली के अनुसार भी फिलहाल मुंथा चल रही है और मंगल भी पराक्रम का है जो कि लाभकारी है।


क्या हो सकती है परेशानी की वजह

हालांकि दीपा की कुंडली में फिलहाल सबकुछ अच्छा है लेकिन शनि की ढैया और वर्ष कुंडली में ग्रहों का केंद्र से बाहर होना थोड़ी चिंता का विषय बन सकता है लेकिन दीपा यदि एकाग्रता और निर्भिकता के साथ यानि पूरे आत्मविश्वास के साथ अपना करतब दिखाएं तो कामयाबी मिल सकती है।


1964 के बाद भारत की ओर से पहली बार कोई जिमनास्ट फाइनल तक पंहुच पाया है, उस पर बतौर महिला जिमनास्ट तो यह उन्हीं की उपलब्धि है जिससे एक इतिहास दीपा रच ही चुकी हैं यदि वे पदक हासिल करने में कामयाब होती हैं तो यह एक और इतिहास बनाने में कामयाब होंगी। 9 अगस्त के दिन जन्मी इस होनहार भारतीय जिमनास्ट को उनके जन्मदिन की एस्ट्रोयोगी की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं इसी उम्मीद के साथ की ओलिंपिक पदक हासिल कर वे खुद का सपना और देश की उम्मीद पूरी करें, यही उनके  लिये जन्मदिनक का श्रेष्ठ उपहार भी होगा।


यह भी पढ़ें

राहू है बलवान छा सकते हैं नरसिंह पहलवान

रियो ओलिंपिक 2016 - क्या भारतीय खिलाड़ियों को मिलेगा सितारों का साथ

युवाओं के लिए कुछ खास है 2016

2016 - क्या खेलों में चमकेगा भारत

2016 - क्या कहते हैं भारत के सितारे

2016 - क्या कहते हैं आपके सितारे




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कुम्भ मेला 2019 - जानें कुम्भ की कहानी

कुम्भ मेला 2019 - ...

कुंभ मेला भारत में लगने वाला एक ऐसा मेला है जिसका आध्यात्मिक व ज्योतिषीय महत्व तो है ही इसके साथ-साथ यह सामाजिक-सांस्कृतिक और वर्तमान में आर्थिक-राजनैतिक रूप से भी म...

और पढ़ें...
कुम्भ मेले का ज्योतिषीय महत्व

कुम्भ मेले का ज्यो...

भारत में कुम्भ मेले का सामाजिक-सांस्कृतिक, पौराणिक व आध्यात्मिक महत्व तो है ही साथ ही ज्योतिष के नज़रिये से भी यह मेला बहुत अहमियत रखता है। दरअसल इस मेले का निर्धारण...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2018 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जाते हैं। यदि आप इन पापकर्...

और पढ़ें...
गीता जयंती 2018 - कब मनाई जाती है गीता जयंती?

गीता जयंती 2018 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2018 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2018 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-...

और पढ़ें...