Skip Navigation Links
फिर चमकेंगे धोनी के सितारे


फिर चमकेंगे धोनी के सितारे

नाम- महेंद्र सिंह धोनी

जन्म स्थान- रांची

जन्म समय- 11:50:00

राशि- सूर्य राशि कर्क


आपका जन्म दिन अगर 7 जुलाई को है तो आप बहुत खुशनसीब हैं कि आप टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ अपना जन्मदिन मना रहे हैं। किस्मत के धनी, महेंद्र सिंह धोनी ने अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरूआत, सन 2004 से की थी। इनकी सूर्य राशि कर्क होने के कारण, यह संवेदनशील और भावनात्मक हैं। सन 2007 में आईसीसी ट्वेंटी-20, सन 2011 में आईसीसी विश्व कप और 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्राफी, भारतीय क्रिकेट टीम ने इन्हीं की कप्तानी में अपने नाम किया है। प्रारंभ में कुछ ख़ास नहीं कर पा रहे, धोनी को इनकी असली पहचान सन 2005 में मिली, जब इन्होनें पाकिस्तान के ख़िलाफ़ खेलते हुए 123 गेंदों पर 148 रनों की तूफानी पारी खेली थी। इसके बाद श्रीलंका के ख़िलाफ़ धोनी की 183 रनों की धमाकेदार पारी खेलकर, इन्होनें सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। एस्ट्रोयोगी ज्योतिष के अनुसार उस समय, इनकी कुंडली के अन्दर लक्ष्मीनारायण योग बना था जो सिर्फ और सिर्फ सौभाग्य का सूचक होता है। लग्न में कहीं भी सूर्य, गुरू और बुध के इस त्रिकोण मिलन से इस योग का उदय होता है।

महेंद्र सिंह धोनी के जन्मदिन के मौके पर, आइये एक नजर डालते हैं कि इनका आने वाला साल इनके लिए कैसा रहेगा। एस्ट्रोयोगी ज्योतिष के अनुसार अभी इन दिनों इनकी कुंडली में शनि ग्रहण योग बना हुआ है। भाग्य का स्थान 9 वां होता है और इस वक़्त 9 वें स्थान पर शनि है। इस कारण से अभी इनका मन विचलित चल रहा है और इनके सभी फैसले गलत सिद्ध हो रहे हैं।

अगर इनकी निजी ज़िन्दगी पर भी निगाह डालें तो राहू की महादशा होने के कारण पर्सनल जिंदगी में भी कुछ समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिष के अनुसार जुलाई माह के प्रथम सप्ताह में केतु कुंडली के पंचम भाग में आ जाएगा और फिर से इनका अच्छा समय शुरू होने के आसार हैं। इस जगह से केतु की नज़र सीधे कार्य पर होगी और यह योग धोनी के लिए अत्यंत लाभदायी हो सकता है।

एस्ट्रोयोगी महेंद्र सिंह धोनी को उनके जन्मदिवस की बधाई देता है और उम्मीद करता है कि आगामी समय इनके लिए काफी अच्छा रहेगा।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...