Skip Navigation Links
दिवाली बड़ा बचत पैक


दिवाली बड़ा बचत पैक

इस दीपावली के शुभ अवसर पर क्यों न अपने प्रियजनों को ऍस्ट्रोयोगी डॉट कॉम के बड़े बचत पैक के रूप में खुशहाली एवं सकुशलता के यंत्र उपहार में देकर उन्हें आश्चर्यचकित व भावभिवोर कर दें।!

हमारे पराद लक्ष्मी-गणेश और सम्पूर्ण महालक्ष्मी यंत्र आपके जीवन को धन-धान्य एवं खुशहाली से सम्पन्न कर देंगे साथ ही आपकी सफलता के रास्ते से सभी प्रकार की बाधाओँ का अन्त करके आपके सौभाग्य को जगा देंगे। ये सभी मंगलकारी उत्पाद हमारे ही ज्योतिषाचार्यों द्वारा अभिमन्त्रित किए जाते हैं। इससे अधिक प्रसन्नता की बात क्या होगी कि दिवाली के शुभ अवसर पर आप इन की खरीदारी पर भारी छुट पा रहे हैं!


उत्पाद:
पराद (पारा) एक दैविक पदार्थ है। पराद से बनाई गई चीजों में बेहद चमत्कारिक गुण होते हैं। पारे से बनीं देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश आपको धन-संपत्ति तथा व्यापार एवं धंधे में सफलता प्रदान करते हैं और आपके जीवन को बाधाओं एवं समस्याओं से मुक्त करते हैं।

बड़ा बचत पैक दिवाली के अवसर पर इस विशेष बड़े बचत पैक में आप तीन प्रकार की सामग्री पाएंगे जिनका ब्यौर इस तरह है:

पराद गणेश:माना जाता है कि भगवान गणेश प्राणीमात्र के जीवन से बाधाओं को हरते हैं और आपके जीवन के सभी कार्यों में सफलता प्रदान करते हैं इसीलिए तो इन्हें विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। सभी प्रकार के हवन-पूजन एवं पुण्य संस्कारों में विघ्नहर्ता गणेश का ही सर्वप्रथम आहवाहन किया जाता है। इनका पूजन सिद्धि (कार्यों में सफलता) तथा बुद्धि (विलक्ष्णता) की प्राप्ति के लिए किया जाता है। किसी भी प्रकार के शुभ कार्य को करने से पहले गणपति जी की ही पूजा की जाती है। वे विधा, ज्ञान, बुद्धि, साहित्य एवं ललित कलाओँ के भी अधिदेव हैं। भगवान गणेश के पूजन से आपके जीवन में सम्पूर्णता एवं संतुलन की वृद्धि होगी।

गणेश मन्त्र – “ओम श्री गणेशाय नमः ओम” (गणेश पूजन के समय इसी मन्त्र का जाप करें)

पराद लक्ष्मी:
लक्ष्मी जी हर प्रकार की धन-संपत्ति, समृद्धि एवं खुशहाली की देवी हैं फिर चाहे यह भौतिक हो अथवा अध्यात्मिक। लक्ष्मी जी एक सुन्दर कलम पर विराजमान हैं तथा समृद्धि एवं धन-धान्यता का प्रतीक हैं। अपने जीवन से धन-संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए लक्ष्मी जी का नित्य पूजन करें। यदि आप किसी कानूनी झगड़े अथवा संपत्ति विवाद में उलझे हैं तो पराद लक्ष्मी जी के पूजन से आपको शीघ्र ही इन समस्याओँ से राहत मिलेगी।

लक्ष्मी मन्त्र – “ओम श्री महालक्ष्मेए नमः” अथवा “ओम श्रीन् ह्रीन् श्रीन् कमले कमलाए प्रसीद् प्रसीद् श्रीन् ह्रीन् श्रीन् महालक्ष्मे नमः” (लक्ष्मी पूजन के समय इसी मन्त्र का जाप करें)

सम्पूर्ण महालक्ष्मी यंत्र:
महालक्ष्मी यंत्र धन-संपत्ति, वैभव एवं सुख-सुविधाओँ की प्राप्ति के लिए बहुत ही शुभ यंत्र है। यह यंत्र दिवाली पूजन के पश्चात आपके गल्ले, अलमारी, बटुए या पर्स अथवा घर के मन्दिर में भी रखा जा सकता है। महालक्ष्मी यंत्र को ताँबे के पत्तर पर 24 कैरेट सोने की नक्काशी से जड़कर बनाया गया है। ध्यान रहे कि जब भी आप महालक्ष्मी यंत्र का पूजन करें तो शांतचित्त एवं दृढ़ होकर ही करें। महालक्ष्मी यंत्र के नित्य-पूजन तथा मन्त्रोच्चारण से सफलता तथा सम्पन्नता की निश्चित प्राप्ति होती है।

यह यन्त्र  24 कैरेट सोने की नक्काशी  नक्काशी से शुद्ध ताँबे के पत्तर पर जड़ित है।

इन सभी शक्तिशाली तथा अतिमंगलकारी वस्तुओं के पैक की वास्तविक कीमत 2600/- रुपये है किन्तु दिवाली के पावन अवसर पर विशेष छुट के चलते आप इन सभी मंगलकारी वस्तुओं को मात्र 2100/- रुपये में पा सकते हैं। ध्यान दें – यह विशेष दिवाली प्रस्ताव केवल 21 अक्तूबर 2009 तक के ऑर्डरों पर ही मान्य है।







एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या 2018 – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्या भी कहा जाता है। वैसे त...

और पढ़ें...
उत्पन्ना एकादशी 2018 - जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

उत्पन्ना एकादशी 20...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा...

और पढ़ें...
काल भैरव जयंती – जानें शंकर के भयंकर रूप काल भैरव की कहानी

काल भैरव जयंती – ज...

भगवान शिव शंकर, भोलेनाथ, सब के भोले बाबा हैं। सृष्टि के कल्याण के लिये विष को अपने कंठ में धारण कर लेते हैं तो वहीं इनके तांडव से सृष्टि में हाहाकार भी मच जाता है और...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...