ईद - इंसानियत का पैगाम देता है ईद-उल-फ़ितर

भारत में ईद-उल-फ़ितर 5 जून 2019 को मनाया जाएगा। इस्लामी कैलेंडर के नौवें महीने को रमदान का महीना कहते हैं और इस महीने में अल्लाह के सभी बंदे रोज़े रखते हैं। इसके बाद दसवें महीने की ‘शव्वाल रात’ पहली चाँद रात में ईद-उल-फ़ितर मनाया जाता है। इस रात चाँद को देखने के बाद ही ईद-उल-फ़ितर का ऐलान किया जाता है।

ईद-उल-फ़ितर ऐसा त्यौहार है जो सभी ओर इंसानियत की बात करता है। इस दिन सबको एक समान समझना चाहिए और गरीबों को खुशियाँ देनी चाहिए। कहते है कि रमदान के इस महीने में जो नेकी करेगा और रोज़ा के दौरान अपने दिल को साफ़-पाक रखता है, अल्लाह उसे ख़ुशीयां ज़रूर देता है। रमदान महीने में रोज़े रखना हर मुसलमान के लिए एक फ़र्ज़ कहा गया है। भूखा-प्यासा रहकर इंसान को किसी भी प्रकार के लालच से दूर रहने और सही रास्ते पर चलने की हिम्मत मिलती है।

शव्वाल महीने के पहले दिन सभी मुसलमान इबादत करने के बाद ख़ुतबा (उपदेश) सुनते हैं और रमदान के महीने के दौरान ज़कात-उल-फ़ितर देते हैं। इसमें गरीबों को खान-पान की सुविधा दी जाती है। अगर कोई किसी वजह से ज़कात-उल-फ़ितर नहीं दे पाया हो, तो वह ईद--उल-फ़ितर पर यह दान कर सकता है। सभी मुस्लिम इस ख़ास दिन में एक-दूसरें को ‘ईद मुबारक’ कहकर गले मिलते हैं। सेवइयों और शीर-खुरमें से एक दूसरें का मूंह मीठा किया जाता है।

कब दिखेगा ईद का चांद

पूरी दुनिया के मुसलमानों द्वारा ईद-उल-फ़ितर चाँद रात में नये चाँद के दिखने के बाद ही मनाया जाता है। चूंकि दुनिया में जगह-जगह चाँद अलग-अलग वक़्त पर दिखाई देता है, इसलिए ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार ईद-उल-फ़ितर की तारीख भी ऊपर-नीचे हो जाती है। भारत में देश की राजधानी दिल्ली के समयानुसार नया चांद 4 जून को 19:12 से लेकर 20:12 बजे तक दिखाई देगा।

ईद-उल-फ़ितर का एक ही मकसद होता है कि हर आदमी एक दूसरे को बराबर समझे और इंसानियत का पैगाम फैलाए। भाईचारे के इस पर्व पर एस्ट्रोयोगी की ओर से आप सबको ईद मुबारक।

यह भी पढ़ें

रमदान क्या है   |   रमदान 2019  |  रमदान का महत्व

 

एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜