भविष्य की महँगी वस्तुएँ

आप यह जानकर हैरान होंगे कि आज जिन वस्तुओं को हम तुच्छ जानकर उनका दुरुपयोग कर रहे हैं उन्हीं चीजों के लिए भविष्य में हमारी अगली पीढ़ियों को बहुत ऊँचा मूल्य चुकाना होगा।


ऐसा उस समय होगा “जब संसार में प्रकृति लगभग विलुप्त होने की कगार पर होगी। उस समय पेड़-पौधे, जीव-जन्तु, नदी-नाले, मैदान-पहाड़ इत्यादि सब कुछ नष्ट हो चुके होंगे। बचा होगा तो एक विशाल कंक्रीट का जंगल जिसमें कि दूर-दूर तक ऊँची-ऊँची गगनचुँबी इमारतें होंगी और उनमें बसा हुआ होगा विशाल जनसैलाब। उस समय तक वातावरण में गर्मी 100o सैल्सियस पार कर चुकी होगी। तब तक समुन्द्रों के किनारे बसे कितने ही शहर समुद्र का जलस्तर बढ़ने से समुद्र की अथाह गहराइयों में समा चुके होंगे। जहाँ लोगों का वातानुकूलित इमारतों से बाहर खुली हवा में निकल पाना भी असंभव होगा।


यधपि वह समय आने में अभी हजारों वर्ष लगेंगे किन्तु आज से आने वाले एक-दो दशक में ही भविष्य में होने वाले इस परिवर्तन के संकेत स्पष्ट आने शुरु हो जाएँगे। परिणामस्वरूप इन वस्तुओं के मूल्यों में भी अभूतपूर्व वृद्धि होगी। धीरे-धीरे ये वस्तुएँ या तो अप्रचलित या बहुत दुर्लभ हो चुकी होंगी और न ही इनका कोई विकल्प ही होगा। इन वस्तुओं में आज भी कुछ चीजें तो इतनी तुच्छ एवं बेकार समझी जाती हैं कि हम उन्हें बस यूँ ही बेकार जान उठाकर बाहर कबाड़ में फेंक देते हैं या नष्ट-भ्रष्ट कर देते हैं। वैसी कुछ वस्तुएँ इस प्रकार हैं:


  • भूमि (जमीन एवं रेत-मिट्टी)
  • जल
  • वायु
  • स्वर्ण-आभूषण
  • परम्परागत धातुएँ
  • अन्न एवं खाधान्न
  • फल-फूल एवं सब्जियाँ
  • माँस-मच्छी-अन्डे
  • दूध एवं दुग्ध-उत्पाद
  • परम्परागत ऊर्जा स्त्रोत एवं ईंघन
  • मानव श्रम
  • चॉकलेट
  • शराब
  • प्राकृतिक मादक पदार्थ
  • संगमर्मर आदि पत्थर
 
  • लकड़ी
  • चिकित्सा सेवाएँ
  • हस्तशिल्प एवं अन्य कलाकृतियाँ
  • सुरक्षा सेवाएँ
  • घरेलु मदद एवं सेवाएँ
  • यूरेनियम
  • प्लूटोनियम
  • जीव-जन्तु एवं उनसे प्राप्त उत्पाद
  • वृक्ष एवं उनके उत्पाद
  • जड़ी-बूटियाँ
  • जीवनरक्षक दवाइयाँ
  • शहद
  • सूखे मेवे
  • मिठाई
  • आधुनिक यंत्र


कुछ ऐसी भी हैं चीजें जो यधपि आज तो बहुत महँगी हैं किन्तु आने वाले समय में वही वस्तुएँ बेहद सस्ती, अप्रचलित अथवा लुप्तप्रायः हो चुकी होंगी अन्यथा विज्ञान एवं प्रौधोगिकी की सहायता से इन वस्तुओं का कोई नया विकल्प निकाला जा चुका होगा। भविष्य में सस्ती होने वाली वस्तुएँ इस प्रकार हैं:

 
  • विधुत उपकरण
  • भोग-विलास के साधन
  • गैजेट्स
  • सतही वाहन एवं परिवहन
  • हथियार एवं औजार
  • मानव जीवन
 
  • यातायात एवं परिवहन
  • शिक्षा सेवाएँ
  • गैर- परम्परागत ईंधन एवं ऊर्जा
  • पैट्रोलियम पदार्थ
  • संचार सेवाएँ
  • हवाई एवं अंतरिक्ष यात्रा


एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜