बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: बंगिस्तान

‘दुनिया के कोने में एक ऐसी जगह भी है जहां कभी भी गोली चल सकती है कभी भी बम फट सकता है और उस जगह का नाम है ‘बंगिस्तान’। जी हाँ, फ़िल्म का एक डायलोग तो कुछ ऐसी ही जानकारी दे रहा है। करण अंशुमन द्वारा निर्देशित फिल्म ‘बंगिस्तान’ 31 जुलाई 2015 को रिलीज़ हो रही है।


फ़िल्म की कहानी दो धर्मों के लोगों के बीच चल रही तनातनी पर आधारित है। जैसा की फिल्म के नाम से पता चलता है, यह एक काल्पनिक देश की कहानी है। बंगिस्तान दो भागों उत्तर और दक्षिण में बंटा हुआ है। एक्टर रितेश देशमुख और पुलकित सम्राट फ़िल्म में मुख्य किरदार में हैं। बंगिस्तान के दोनो ही कलाकार एक अंडरकवर मिशन पर हैं जिनका उद्देश्य विश्व सम्मेलनों में बाधा उत्पन्न करना है। फिल्म के निर्माता, मशहूर अभिनेता एवं निर्देशक फरहान अख्तर और रितेश सिदवानी हैं।


फ़िल्म रिलीज़ के मौके पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों की राय के अनुसार, यह फ़िल्म ‘बॉक्स ऑफिस’ पर अपने बजट का पैसा वसूल करने में तो कामयाब हो सकती है किन्तु ग्रहों की चाल के अनुसार फ़िल्म शायद बहुत अच्छा ना कर पाए। ज्योतिष के अनुसार, 31 जुलाई 2015 को कन्या लग्न में फ़िल्म रिलीज़ हो रही है। कन्या लग्न ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से द्वि-स्वभाव वाली लग्न मानी जाती है और इस लग्न में कार्यों की गति भी धीमी ही रहती है।  


फिल्म में मुख्य किरदार में मौजूद अभिनेता रितेश देशमुख की कुंडली पर नजर डालें तो इनका जन्म, कुंभ-लग्न, कर्क-राशि, बुध-महादशा, शनि-अंतरदशा और चंद्रमा-प्रत्यांतर, दशा में हुआ है। लग्नेश का सप्तम में शत्रु के घर में बैठने के कारण, कार्यों के बहुत अच्छे परिणाम प्राप्त नहीं हो पाते हैं। व्यापार से संबंधित ‘कुंडली घर’ में शनि और राहू का एक साथ उपस्थित रहना एक नकारात्मक योग बनाता है और अभी अभिनेता रितेश देशमुख की कुंडली में यही योग बना हुआ है इसलिए शायद इनको काम-काज में बहुत अच्छी सफलता प्राप्त ना हो पाए। इस आकलन से भी एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों को यही लगता है कि इनकी आगामी फ़िल्म ‘बंगिस्तान’ एक मध्यम दर्जे का ही व्यवसाय शायद बॉक्स ऑफिस पर करे।


फ़िल्म के निर्देशक करण अंशुमन का कोई जन्म विवरण प्राप्त नहीं होने की वजह से इनका ज्योतिष आंकलन नहीं हो पाया है।


फ़िल्म के निर्माता फरहान अख्तर की कुंडली में अभी शुक्र की महादशा चल रही है जिसे ज्योतिष शास्त्र में बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है। शुक्र और ब्रहस्पति जब एकादश में विराजमान होते हैं तब पैसा-फाइनेंस के लिए भी समय अनुकूल नहीं माना जाता है।


ज्योतिष के नजरिये से तो यही लग रहा है कि शायद फ़िल्म ‘बंगिस्तान’ कमाई के नजरिये से एक औसत दर्जे की ही फ़िल्म साबित हो पायेगी।


एस्ट्रोयोगी.कॉम ‘बंगिस्तान’ की पूरी टीम को फ़िल्म की रिलीज़ के लिए बधाई देता है और हम उम्मीद करते हैं कि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कामयाब होने में सफल साबित होगी।

एस्ट्रो लेख

घर पर रहकर करें...

मेडिटेशन(meditation) यानि ध्यान भारतीय संस्कृति की एक पुरातन परंपरा है। इसे योग साधना भी कहा जाता है, जिसे पौराणिक काल में ऋषि, मुनिया और तपस्वी अपने मन और मस्तिष्क को शांत और एकाग...

और पढ़ें ➜

कामदा एकादशी 20...

एकादशी व्रत की हिंदू धर्म में बहुत मान्यता है। प्रत्येक मास के कृष्ण और शुक्ल पक्ष में आने वाली दोनों एकादशियों का अपना विशेष महत्व होता है। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तो और...

और पढ़ें ➜

महामारी से बचन...

इस समय पूरी दुनिया जिस भयंकर महामारी के दौर से गुजर रही है। उसका समाधान अभी विज्ञान नहीं निकाल पाया है ऐसे में लोग दुआएं और बताई गई सावधानियां ही बरत रहे हैं। आमतौर पर यह महामारी उ...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के बारे में तो सभी जानते हैं। यह भी वे स्वयं भगवान विष्णु के अवतार थे। श्री राम भगवान शिव को अपना आराध्य देव भी मानते थे। लेकिन क्या आप जानते हैं ...

और पढ़ें ➜