Skip Navigation Links
वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा


वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा

वैसे तो नया साल जनवरी से शुरु होता है लेकिन साल की सही मायने में शुरूआत तो वित्तीय वर्ष के साथ होती है। हो सकता है गत वित्तीय वर्ष में नोटबंदी से आपका आर्थिक जीवन प्रभावित हुआ हो। अब तक वित्तीय वर्ष 2016-17 के लेन-देन की जांच-परख के साथ ही लाभ-हानि का हिसाब भी आपने लगा लिया होगा। ऐसे में आने वाले वित्तीय साल 2017-18 में आपकी आर्थिक स्थिति कैसी रहेगी? क्या व्यवसाय में तेजी आयेगी? नौकरी के नये अवसर उपलब्ध होंगे? एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार सभी 12 राशियों के लिये वित्तीय वर्ष 2017-18 का राशिफल क्या कहता है? ज्योतिषाचार्यों से परामर्श पर आधारित आपका राशिफल आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि वालों के लिये वित्तीय वर्ष 2017-18 काफ़ी अच्छा रहने के आसार हैं। राशि स्वामी मंगल स्वराशि के हैं और वित्त मंत्री माने जाने वाले बुध का भी उन्हें साथ मिल रहा है। ऐसे में आपके लिये समय काफी अच्छा रहने के आसार हैं। आपके लिये एक और शुभ योग नव स्वंत्सर के कारण भी बन रहा है। 28 मार्च से शुरु होने वाले नव संवत्सर के राजा भी इस बार आपके राशि स्वामी मंगल ही हैं। हालांकि कई बार ऐसा भी होता है कि समय तो अच्छा होता है लेकिन हम अवसरों का लाभ उठाने में चूक कर जाते हैं। आपसे यह चूक न हो और ग्रहों के शुभ प्रभाव आप पर बने रहें इसके लिये हमारी सलाह है कि आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श लें।

वृषभ – वृषभ राशि वालों के लिये भी वित्तीय साल 2017-18 राशिफल अच्छा रहने के आसार हैं। राशि स्वामी शुक्र के उच्च होने से धन प्राप्ति के योग हैं। हालांकि कार्यों को अंजाम देने के लिये आपको ऋण की आवश्यकता पड़ सकती है लेकिन शुक्र के प्रभाव से आपको आसानी से यह मिल सकता है। या फिर अपनी किसी संपत्ती को बेचकर भी आपको पैसे जुटाने पड़ सकते हैं। हालांक ऐसे उपाय भी हो सकते हैं जिन्हें अपनाने के बाद हो सकता है आपको किसी तरह के कर्ज अथवा अपनी संपत्ती की बिक्री की जरूरत न पड़े, इसके लिये आप अपनी कुंडली के बारे में एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं।

मिथुन – मिथुन जातकों के लिये वित्तीय वर्ष 2017-18 बहुत अच्छा रहने के आसार हैं। इस वित्तीय साल में आपको धन प्राप्ति के कई अवसर प्राप्त हो सकते हैं। आपके जीवन में कुछ नवीन परिवर्तन भी हो सकते हैं। व्यवसाय नौकरी में परिवर्तन भी आप कर सकते हैं जो कि आपके लिये वित्तीय रूप से लाभकारी रहने की उम्मीद है। धन के साथ-साथ मन की शांति भी आपको प्राप्त होगी। हालांकि खर्च बढ़ने के आसार हैं लेकिन चिंता की जरूरत नहीं है यह शुभ कार्यों में ही खर्च होने की संभावना है। यदि आपको लगता है कि परिस्थितियां आपके अनुकूल नहीं हैं तो अधिक जानकारी के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं।

कर्क – आपके लिये बुध व मंगल का योग कर्मक्षेत्र में होने से वित्तीय वर्ष 2017-18 का राशिफल मिलाजुले परिणाम लाने वाला हो सकता है। वर्ष का शुरुआती समय अच्छा रहने के आसार हैं। यदि आप किसी नये कार्य की शुरुआत करना चाहते हैं और धन की कमी आड़े आ रही है तो उसका समाधान निकल सकता है। कोई आपकी मदद के लिये हाथ आगे बढ़ा सकता है। थोड़ा सा प्रयास करने पर ऋण भी आपको मिल सकता है। लेकिन वर्ष के उतर्राध में आपको थोड़ा सावधान रहने की आवश्यकता होगी। इस समय आपके कार्यों में बाधाएं पैदा हो सकती हैं। यह बाधाएं धन में हानि होने के कारण खड़ी हो सकती हैं। इन बाधाओं को दूर करने के ज्योतिषीय उपाय आप देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर जान सकते हैं।

सिंह – राशिफल के अनुसार वित्तीय वर्ष 2017-18 की शुरुआत में सिंह जातकों के लिये धन के योग में कमी रहने के आसार हैं। हालांकि इसका आभास जरूर रहेगा कि पैसा आ रहा है लेकिन वह आयेगा देरी से। वहीं सिंह जातकों के लिये वित्तीय वर्ष में स्वास्थ्य पर होने वाले खर्च में बढ़ोतरी हो सकती है। कुछ सरल ज्योतिष उपाय अपना कर आप अपने आर्थिक हालातों को दुरूस्त कर सकते हैं। ये उपाय आप एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से जान सकते हैं।

कन्या – कन्या जातकों को वित्तीय वर्ष 2017-18 में राशिफल के अनुसार फिजूल खर्ची से बचकर रहने की आवश्यकता होगी। आपके लिये धन योग कम बन रहे हैं। हालांकि यह स्थिति वित्तीय साल के आरंभ में होगी वर्षांत में आपकी आर्थिक स्थिति बेहतर रहने के आसार हैं। आपके कार्यों में किसी प्रकार की बाधा खड़ी हो और समय अनुकूल बना रहे इसके लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सरल ज्योतिषीय समाधान जान सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

तुला – राशि स्वामी शुक्र के उच्च स्थान में विराजमान होने के कारण धन आगमन के योग तो बन रहे हैं। लेकिन आपको अपने कार्यों को संपन्न करने के लिये कर्ज लेने की आवश्यकता पड़ सकती है। हालांकि शुक्र के प्रभाव से ही ऋण लेना भी आपके लिये आसान रहेगा। बाहरी क्षेत्रों से धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये इस वित्तीय साल में बनेंगें। वर्षांत पर समय आपके अनुकूल रहने के आसार हैं। ग्रहों का सकारात्मक रूप से आपको साथ मिलता रहे इसके लिये आप एस्ट्रोयोगी पर भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से सलाह ले सकते हैं। 

वृश्चिक – आपके लिये वित्तीय साल 2017-18 में खर्च बढ़ने के संकेत हैं। आपके बचत करने के स्त्रोत भी कम होने की संभावना है। हालांकि कुछ पुराने कर्जों से आपको मुक्ति मिल सकती है। लेकिन नये कार्यों के लिये नये कर्ज भी आपको लेने पड़ सकते हैं। साल का अंत आपके आर्थिक जीवन के लिये सुखद रहने के आसार हैं। यदि आप चाहते हैं कि पूरे साल शुभ ग्रहों की कृपा आप पर बनी रहे और क्रूर ग्रहों की दृष्टि से बचे रहें इसके लिये सरल ज्योतिषीय उपाय जानने हेतु आप एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिष के विद्वानों से परामर्श ले सकते हैं।

धनु – धनु जातकों को वित्तीय वर्ष 2017-18 में काफ़ी लाभ होने के आसार हैं। आपके लिये ऐसा राशि स्वामी बृहस्पति के प्रभाव से होगा। आपको धन कमाने के नये-नये अवसर प्राप्त होने के आसार हैं। आपके व्यापार में भी वृद्धि होने के संकेत हैं। हालांकि बचत की दृष्टि से देखा जाये तो कुछ कमी आ सकती है। इस वित्तीय वर्ष में नया काम शुरु करने के लिये आपके लिये कौनसा समय सबसे भाग्यशाली है? और किस समय आपको थोड़ा सावधान रहने की जरूरत पड़ेगी? जानने के लिये परामर्श करें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से।

मकर – आपको अपनी जेब थोड़ा संभाल कर रखने की जरूरत है क्योंकि इस वित्तीय साल में आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने के आसार हैं। इस वर्ष आप अपना खुद का घर जुटाने का प्रयास कर सकते हैं। एक विलासी और उच्च स्तरीय जीवन जीने की इच्छा आपको हो सकती है। हो सकता है आप कोई वाहन खरीदना चाहें। हालांकि आपको इसके लिये ऋण लेना पड़ सकता है। आपके लिये सलाह है कि क्षमता से अधिक कर्ज लेने से बचें। आपकी आर्थिक स्थिति बेहतर बनाने के लिये किन ग्रहों की कृपा कैसे प्राप्त होगी? इस बारे में हमारे ज्योतिषाचार्यों से सलाह ले सकते हैं।

कुंभ – इस वित्तीय साल में राशि स्वामी आपके लाभ क्षेत्र को प्रभावित कर सकते हैं जिससे आपके लिये धन प्राप्ति के नये साधन विकसित हो सकते हैं। अपनी कार्य योजना के लिये भी आपको धन की कमी का संभवत: सामना न करना पड़े। शुरूआती समय थोड़ा धीमा भले रहे लेकिन धीरे-धीरे हालत सुधरने व समय आपके अनुकूल होते चले जाने के आसार भी हैं। यदि आप चाहते हैं कि आपके कार्यों में किसी तरह की रूकावट न आये तो इसके लिये ग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को दूर करने हेतु सरल ज्योतिषीय उपाय आप अपना सकते हैं।

मीन – आपके लिये इस वित्तीय वर्ष में उन्नति के योग प्रबल हो रहे हैं। हालांकि धन के योग भी बन रहे हैं। लेकिन स्वास्थ्य समस्याओं के कारण आपके खर्च भी बढ़ सकते हैं। काम-काज में सावधानी रखें, धोखा मिलने के आसार भी नजर आ रहे हैं। शेयर मार्किट, सट्टे बाजी आदि में पैसे लगाने का जोखिम न ही उठायें तो बेहतर रहेगा। वर्ष की शुरुआत आपके लिये अच्छी कही जा सकती है और वर्षांत पर भी हालात ठीक होने के आसार हैं। आपके लिये वित्तीय साल में कौनसा समय ज्यादा जोखिम वाला रहेगा इसके लिये आप हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...