आपका पार्टनर होगा रोमांटिक ? जाने उसके नाम के पहले अक्षर से

वैदिक ज्योतिष हो या पाश्चात्य ज्योतिष दोनों में मान्यता है कि व्यक्ति के नाम का उसके जीवन पर बहुत ज्यादा प्रभाव होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में नाम का पहला अक्षर ही लगभग ज्योतिषीय गाइडेन्स लेकर तय किया जाता है। वहीं पाश्चात्य ज्योतिष में भी अंकों के अनुसार नाम तय किया जाता है। ऐसे में नाम का काफी महत्व हो जाता है, जिससे हम व्यक्ति के बारे में बहुत कुछ जान सकते हैं। आइए जानते हैं कि आपके पार्टनर के नाम का पहला अक्षर उसके बारे में क्या कहता है।

A से Z नाम के जातको के स्वभाव एवं गुण

A अक्षर

A अक्षर वाले जातक देखने में आकर्षक व्यक्तित्व के धनि होते हैं। इनके आस-पास लोगों की भीड़ लगी रहती है। लोग इनके सम्मोहक व्यवहार से बंधे रहते हैं। A अक्षर वाले अपने जीवन में प्रेम और रिश्तों को काफी महत्व देते हैं, परंतु स्वभाव से ये कम रोमांटिक होते हैं। सार्वजनिक जगहों पर ये साथी के संग प्रेम को प्रदर्शित करने में असहज महसूस करते हैं। परंतु ये जातक निर्णय बड़े आसानी से और सही लेते हैं।

B अक्षर

B अक्षर के जातक प्रेम विवाह में ज्यादा विश्वास रखते हैं। ये स्वभाव से मूडी तथा हिम्मती होते हैं। B अक्षर वाले लोग काफी रोमांटिक होते हैं और किशोरावस्था में ही लड़कियों से फ्लर्ट करना शुरु कर देते हैं। ये आत्मविश्वास से भरे होते हैं।

C अक्षर

C अक्षर वालों को दोस्ती करना बेहद पसंद होता है। ये जातक अपने पहले प्यार को हमेशा याद रखना चाहते हैं। बिना लाग लपेट के बोलना इनकी आदत होती है। ये बड़े ही भावुक होते हैं। भावुक होने के कारण इन्हें अक्सर प्रेम  संबंध में धोखा खाना पड़ता है। ये अपने साथी के प्रति बेहद ईमानदार होते हें।

D अक्षर

D अक्षर वाले जातक अपने आप पर अधिक भरोसा करते हैं। ये दूसरों पर कम ऐतबार करते हैं। जिससे ये अपने साथी पर पूरी तरह से विश्वास नहीं कर पाते। इनके पास जाना अक्सर आपको कुछ न कुछ नया सिखाता है। एक बार ये जिस चीज को पाने की ठान लें तो किसी भी तरह से उसे पा ही लेते हैं। एक हद तक इन्हें जिद्दी भी कहा जा सकता है। क्योंकि ये किसी की नहीं सुनते।

E अक्षर

E अक्षर वाले लोगों स्मार्ट और गुड लुकिंग होते हैं। इनका स्वभाव फ्लर्ट करने वाला होता है, क्योंकि ये बड़े मजाकिया स्वभाव होते हैं। ये थोड़ा ज्यादा बोलते हैं, परंतु इनका यह स्वभाव इन्हें कई मुश्किलों से बचाता भी है। ये जिंदगी को जिंदादिली के साथ जीने की चाहत रखते हैं और समस्याओं का डट के सामना करते हैं। ये अपने साथी का साथ नहीं छड़ते।

F अक्षर

F अक्षर से जिन जातको का नाम शुरु होता है वे सख्त मिजाजी होते हैं। ये अपनी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को अलग-अलग रखते हैं। ये एक अच्‍छा लाइफ पार्टनर बनते हैं। अपने साथी के लिए F अक्षर के जातक कुछ न कुछ सपराइज प्लान करते रहते हैं साथ ही साथी की पसंद ना पसंद का बहुत ही ख्याल रखते हैं।

G अक्षर

इस अक्षर के जातक साफ दिल के होते हैं। किसी के भी प्रति इनके दिल में द्वेष ज्यादा समय तक नहीं रहता। ये अपने मन में कुछ नहीं रखते हैं। जो बोलना होता है ये बोल देते हैं। G अक्षर के जातक स्वभाव से बहुत ही सरल होते हैं और बेवजह किसी को परेशान नहीं करते। ये अपने साथी के प्रति ईमानदार होते हैं।

H अक्षर

H अक्षर वाले व्यक्ति अपनी बातों को किसी दूसरे से जल्दी शेयर नहीं करते हैं। इनको समझना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन ये दिल से अच्छे और सच्चे होते हैं। यदि आपका साथी H अक्षर वाला है तो आप इन पर आंख बंद करके विश्वास कर सकते हैं।

I अक्षर

I अक्षर वाले दिमाग से कम व ज्‍यादा दिल से सोचते है। ये बेहद भावुक होते हैं और सिर्फ दिल की सुनने के कारण इन्हें आसानी से किसी भी चीज के लिए मनाया जा सकता है। ये अपने साथी के प्रति बेहद उदार होते हैं। अपनी भावुकता के चलते इन्हें अक्सर प्यार में नुकसान उठाना पड़ता है।

J अक्षर

J अक्षर वाले जातक अपने साथी के ईमानदार और वफादार होते हैं। ये हमेशा खुशनुमा रहने की कोशिश करते हैं। लोग बड़ी जल्दी इनसे ईर्ष्या करने लगते हैं। अगर आपके पार्टनर का नाम J अक्षर से शुरू होता है तो आप बहुत ही किस्मत वाले हैं।

K अक्षर

K अक्षर वाले मुहंफट किस्म के होते हैं। बिना कुछ सोचे समझे जो मन में आया किसी को भी कुछ भी कह देते हैं। ये अपने फायदे के लिए ये कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार रहते हैं। इन्हें अपने सम्मान से ज्यादा पैसे से प्यार होता है।

L अक्षर

L अक्षर वाले जातक कभी किसी को दुखी नहीं देख पाते। ये अपने जीवन में कोई बड़ी कामनाएं नहीं रखते, लेकिन ये अपने जीवन में मिलने वाले हर शख्स को खुश रखने की कोशिश करते हैं। स्वभाव के चलते ये हरदिल अजीज होते हैं।


M अक्षर

M अक्षर वाले जातक स्वभाव से भावुक, हठी और संकोची किस्म के होते हैं और ये छोटी से छोटी बात को अपने दिल से लगा लेते हैं। इनके साथ दिल लगाना आसान नहीं है। ये कब किस बात पर रूठ जाए और किस बात पर कब प्यार दिखाने लगे, यह कहा नहीं जा सकता।

N अक्षर

N अक्षर वाले व्यक्ति खुले विचारों वाले होते हैं और खुले विचारों को समर्थन करते हैं। ये एक स्थान पर बहुत जल्दी बोर हो जाते हैं। ये बाहर से शांत दिखाई देते हैं, तरंतु ये अंदर से काफी आक्रामक होते हैं। इन्हें अपनी आलोचना जरा भी बर्दाश्त नहीं होती।

O अक्षर

O अक्षर वाले जातक बड़े आकर्षक, ऊर्जावान तथा प्रतिभाशाली व्यक्तित्व के धनी होते हैं। अक्सर इस अक्षर के व्यक्ति प्रेम विवाह करते हैं और परिवार को साथ लेकर चलते हैं। ये बड़े शर्मीले स्वभाव के होते हैं और अपने साथी के प्रति समर्पण का भाव रखते हैं।

P अक्षर

P अक्षर वाले समाज को साथ लेकर चलने में विश्वास रखते हैं। ये अपना जीवन बड़े ही नियमबद्ध तरीके से जीते हैं। इनके अपने मान-सम्मान से बढ़कर कुछ नहीं, ये अपने सम्मान की रक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। ये अपने साथी के प्रति संवेदनशील होते हैं।

Q अक्षर

Q अक्षर के जातक क्रिएटिव होते हैं। इन्हें कलात्मक चीजों से काफी लगाव रहता है। ये हर काम को बेहद सलीके से करना पसंद करते हैं। Q अक्षर वालों को दूसरों से कोई लेना-देना नहीं होता। इन्हें गुस्सा कम आता है, लेकिन जब आता है तो ये किसी के रोकने से नहीं रूकतें।

R अक्षर

R अक्षर वाले जातक मनमौजी होते हैं। इन्‍हें दुनिया घुमना तो पसंद है लेकिन इनका दुनिया से कोई लेना देना नहीं होता। ये अपने साथी के लिए कुछ भी कर गुजरने के तैयार रहते हैं। इनकी मित्रता लेखकों और अपनी ही तरह के लोगों के साथ होती है।

S अक्षर

S अक्षर वाले व्यक्ति बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते हैं। इनका व्यक्तित्व सहज ही समझ में नहीं आता है। ये अपने चारों ओर एक रहस्यमय वातावरण बनाए रखते हैं। ये अपने साथी के प्रति कम संवेदनशील होते हैं।

T अक्षर

T अक्षर वाले जातक बड़े मेहनती और बुद्धिमान होते हैं। ये रिश्तों का बहुत ही सम्मान करते हैं। किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाते और ये अपने प्रेम को दर्शा नहीं पातें।

U अक्षर

U अक्षर वाले जातक जोशीले, स्मार्ट और बड़े दिल वाले होते हैं। ये हमेशा खुश रहने का प्रयास करते हैं और दूसरों को भी खुशियां बांटने में विश्वास रखते हैं। क्या है आपके कुंडली में प्रेम विवाह का योग? जानने के लिए बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

V अक्षर

V अक्षर के जातक आजाद ख्याल रखने वाले होते हैं। ये किसी की नहीं सुनते और न ही किसी की कहा कुछ करते हैं, लेकिन यदि इनके मन को कोई बात भा जाए तो ये उसे करने से नहीं चूकते। साफ दिल के होने के साथ-साथ ये दूसरों की भावनाओं के प्रति संवेदनशील होते हैं।

W अक्षर

W अक्षर वाले जातक दूसरों पर अपना रौब जमाने की जुगत में लगे रहते हैं। उनकी इस प्रवृत्ति के चलते लोग ऐसे इनसे दूर रहते हैं। ये बहुत अभिमानी होते हैं और हमेशा लोगों की आलोचनाओं के निशाने पर रहते हैं। लेकिन ये प्रेम के मामले में बेहद उदार होते हैं।

X अक्षर

X अक्षर वाले व्यक्ति स्वभाव से बेहद अस्थिर होते हैं और इनका किसी चीज में ज्यादा देर मन नहीं लगता। परंतु इनमें एक खास आदत होती है कि ये जिसे पाने की इच्छा रखते हैं, उसे पाकर ही दम लेते हैं फिर चाहे उसके लिए जान ही दावं पर क्यों न लगानी पड़ जाए।

Y अक्षर

Y अक्षर वाले स्वभाव से ईमानदार, आदर्शवादी और मेहनती होते हैं लेकिन ये लोगों के बीच रहना पसंद नहीं करते। आदर्शवादी होने के कारण ये संघर्षमय जीवन जीते हैं। अपने साथी के प्रति वफादार होते हैं।

Z अक्षर

Z अक्षर वाले जातक धीर-गंभीर और सरल प्रवृत्ति के होते हैं। ये बड़ी से बड़ी कठिनाई को मुस्कुराते हुए झेल लेते हैं। ये अपने जीवन में संबंधों को काफी महत्व देते हैं।

यह भी पढ़ें -

मनचाहा जीवनसाथी कैसे पाएं?इन पांच राशियों के पुरूष होते हैं, मिस्टर परफेक्ट  ।   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2019 |           कुंडली में प्रेम योग  | कुंडली में विवाह योग |  कुंडली में संतान योगप्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स  |     दैनिक लव राशिफल  |  जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग  ।   क्यों मिलता है प्रेम में बार बार धोखा  ।  पढ़ें अपनी प्रेम प्रोफाइल    |                 पढ़ें साल की लव रिपोर्ट 

 

एस्ट्रो लेख

शुक्र का सिंह र...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति में भी बदलाव आता ह...

और पढ़ें ➜

विदेश जाने का य...

क्या आपको पता है कि आपके विदेश जाने राज आपके हथेली में छुपा है? क्या आप इस बात को मानते है कि हमारे हथेलियों की लकीर में छिपा है हमारे किस्मत का राज? यदि जवाब हां में है तो ठीक यदि...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद - भादों...

हिन्दू पंचांग के अनुसार साल के छठे महीने को भाद्रपद अथवा भादों का महीना कहा जाता है। ये श्रावण माह के बाद और आश्विन माह से पहले आता है। सावन शंकर का महीना है तो भादों श्रीकृष्ण का ...

और पढ़ें ➜

भाई की सुख समृद...

हिंदू धर्म में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराएं विद्यमान है। दुनियाभर में भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है, यहां आए दिन कोई न कोई पर्व मनाया जाता है। वहीं किसी भी तीज-त्योहार क...

और पढ़ें ➜