Skip Navigation Links
15 जून से 5 जुलाई 2010 –  कठिन समय


15 जून से 5 जुलाई 2010 – कठिन समय

जून 2010 को सूर्य मिथुन राशि में प्रवेश करेगा और उसके एक सप्ताह के भीतर ही 22 जून 2010 को बुध भी मिथुन राशि में आकर शनि के साथ दशम- चतुर्थसम्बन्ध बनाएगा। ये एक सप्ताह संसार के विभिन्न देशों के लिए कड़ी परिस्थितियाँ पैदा करेगा। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और म्यान्मार में इस दौरान कुछ चौंकाने वाली अप्रिय घटनाएँ होंगी।
19 जून से 5 जुलाई तका बुध का प्रभाव बहुत भयंकर होगा। लोगों में मतभेद, बहसबाजी, लड़ाई-झगड़े होंगे। देश- विदेश में प्राकृतिक आपदाएँ और आतंकी व नक्सली हिंसा पनपेगी। इस दौरान भारत में आतंकी व अत्याचारी ताकतों को बहुत बल मिलेगा और उनके हौंसले और अधिक मजबूत होंगे। ये समय विनाशकारी आतंकी परियोजनाएँ आगे बढ़ाने के लिए श्रेष्ठ है जिसका पूरा फायदा अत्याचारी एवं आतंकी ताकतों को मिलेगा।

इस दौरान कर्मचारी एवं अधिकारी वर्ग कुछ उलझन में ही रहेगा। प्रेम-संबंधों के लिए सुमय शुभ है। सेहत के लिए समय अनुकूल नहीं इसलिए अपने खान-पान और जीवनशैली का ध्यान रखना होगा। धन के मामले में ये समय प्रतिकूल है, खर्चे अधिक और आय कम।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...