15 जून से 5 जुलाई 2010 – कठिन समय

जून 2010 को सूर्य मिथुन राशि में प्रवेश करेगा और उसके एक सप्ताह के भीतर ही 22 जून 2010 को बुध भी मिथुन राशि में आकर शनि के साथ दशम- चतुर्थसम्बन्ध बनाएगा। ये एक सप्ताह संसार के विभिन्न देशों के लिए कड़ी परिस्थितियाँ पैदा करेगा। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और म्यान्मार में इस दौरान कुछ चौंकाने वाली अप्रिय घटनाएँ होंगी।
19 जून से 5 जुलाई तका बुध का प्रभाव बहुत भयंकर होगा। लोगों में मतभेद, बहसबाजी, लड़ाई-झगड़े होंगे। देश- विदेश में प्राकृतिक आपदाएँ और आतंकी व नक्सली हिंसा पनपेगी। इस दौरान भारत में आतंकी व अत्याचारी ताकतों को बहुत बल मिलेगा और उनके हौंसले और अधिक मजबूत होंगे। ये समय विनाशकारी आतंकी परियोजनाएँ आगे बढ़ाने के लिए श्रेष्ठ है जिसका पूरा फायदा अत्याचारी एवं आतंकी ताकतों को मिलेगा।
इस दौरान कर्मचारी एवं अधिकारी वर्ग कुछ उलझन में ही रहेगा। प्रेम-संबंधों के लिए सुमय शुभ है। सेहत के लिए समय अनुकूल नहीं इसलिए अपने खान-पान और जीवनशैली का ध्यान रखना होगा। धन के मामले में ये समय प्रतिकूल है, खर्चे अधिक और आय कम।


एस्ट्रो लेख

कन्या संक्रांति...

17 सितंबर 2019 को दोपहर 12:43 बजे सूर्य, सिंह राशि से कन्या राशि में गोचर करेंगे। सूर्य का प्रत्येक माह राशि में परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस संक्रांति को स्नान, दान और ...

और पढ़ें ➜

नरेंद्र मोदी - ...

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे स्पष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच मे...

और पढ़ें ➜

विश्वकर्मा पूजा...

हिंदू धर्म में अधिकतर तीज-त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार ही मनाए जाते हैं लेकिन विश्वकर्मा पूजा एक ऐसा पर्व है जिसे भारतवर्ष में हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है। इस दिवस को भग...

और पढ़ें ➜

पितृदोष – पितृप...

कहते हैं माता-पिता के ऋण को पूरा करने का दायित्व संतान का होता है। लेकिन जब संतान माता-पिता या परिवार के बुजूर्गों की, अपने से बड़ों की उपेक्षा करने लगती है तो समझ लेना चाहिये कि अ...

और पढ़ें ➜