Skip Navigation Links
15 जून से 5 जुलाई 2010 –  कठिन समय


15 जून से 5 जुलाई 2010 – कठिन समय

जून 2010 को सूर्य मिथुन राशि में प्रवेश करेगा और उसके एक सप्ताह के भीतर ही 22 जून 2010 को बुध भी मिथुन राशि में आकर शनि के साथ दशम- चतुर्थसम्बन्ध बनाएगा। ये एक सप्ताह संसार के विभिन्न देशों के लिए कड़ी परिस्थितियाँ पैदा करेगा। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और म्यान्मार में इस दौरान कुछ चौंकाने वाली अप्रिय घटनाएँ होंगी।
19 जून से 5 जुलाई तका बुध का प्रभाव बहुत भयंकर होगा। लोगों में मतभेद, बहसबाजी, लड़ाई-झगड़े होंगे। देश- विदेश में प्राकृतिक आपदाएँ और आतंकी व नक्सली हिंसा पनपेगी। इस दौरान भारत में आतंकी व अत्याचारी ताकतों को बहुत बल मिलेगा और उनके हौंसले और अधिक मजबूत होंगे। ये समय विनाशकारी आतंकी परियोजनाएँ आगे बढ़ाने के लिए श्रेष्ठ है जिसका पूरा फायदा अत्याचारी एवं आतंकी ताकतों को मिलेगा।

इस दौरान कर्मचारी एवं अधिकारी वर्ग कुछ उलझन में ही रहेगा। प्रेम-संबंधों के लिए सुमय शुभ है। सेहत के लिए समय अनुकूल नहीं इसलिए अपने खान-पान और जीवनशैली का ध्यान रखना होगा। धन के मामले में ये समय प्रतिकूल है, खर्चे अधिक और आय कम।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...