Skip Navigation Links
गणेश चतुर्थी  - कैसे मनाते हैं गणेश उत्सव


गणेश चतुर्थी - कैसे मनाते हैं गणेश उत्सव

गणेश चतुर्थी जिसे कि विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है, हिन्दु धर्म में एक बहुत ही शुभ पर्व माना जाता है। यह पर्व हिन्दी कैलेन्डर के भाद्रपद मास (अगस्त मध्य से सितम्बर मध्य) में मनाया जाता है। विशेषकर पश्चिम भारत के महाराष्ट्र राज्य में गणेश चतुर्थी को बहुत ही भव्यता एवं आस्था के साथ मनाया जाता है। क्योंकि गणेश जी का एक नाम विघ्नहरता भी है इसलिए हिन्दुओं का मानना है कि इन दस दिनों के दौरान, जो कि बहुत ही शुभ माने जाते हैं, यदि श्रद्धा एवं विधि-विधान के साथ गणेश जी का पूजन किया जाए तो गणेश भगवान जो कि देवताओँ के भी अग्रणी हैं, आप के जीवन की समस्त बाधाओं का अन्त करते हैं तथा अपने भक्तों पर सौभाग्य, समृद्धि एवं सुखों की वर्षा करते हैं।


कैसे मनाते हैं गणेश उत्सव

दस दिनों तक चलने वाला यह त्योहार हिन्दुओं की आस्था का एक ऐसा अद्भुत प्रमाण है जिसमें कि शिव-पार्वती-नंदन श्री गणेश की 3/4 इंच से लेकर 25 फुट या इससे भी अधिक ऊँचाई की प्रतिमा को घरों, मन्दिरों अथवा पन्डालों में साज-श्रँगार के साथ शुद्ध चतुर्थी वाले दिन स्थापित किया जाता है, जहाँ एक पुजारी जो कि लाल धोती पहने रहता है इस मूर्ति में वैदिक मन्त्रोच्चारण के साथ प्राण फूँकता है जिसे कि “प्राणप्रतिष्ठा” कहा जाता है। दस दिन तक अर्थात अनंत-चतुर्दशी तक गणेश प्रतिमा का नित्य विधिपूर्वक पूजन किया जाता है, ग्यारहवें दिन इस प्रतिमा को किसी स्वच्छ जलाशय जैसे कि नदी अथवा सागर आदि में प्रवाहित (विसर्जित) कर दिया जाता है।


महाराष्ट्र में गणपति बप्पा मोरया की गूंज

महाराष्ट्र में तो इस दिन विशेष आयोजन होते हैं तथा जलाशयों पर उमड़े जनसैलाव व उनकी आस्था को देखकर मन भावविभोर हो उठता है। इस दिन समस्त श्रद्धालुगण गणेश-प्रतिमा को हाथों, रथों व वाहनों पर उठा कर बहुत धूम-धाम से गाजों-बाजों के साथ इसे प्रवाहित करने के लिए पैदल ही जलाशयों की ओर चल पड़ते हैं और ऊँची आवाज में नारे लगाते हैं, “गणपति बप्पा मोरया, मंगल मूर्ति मोरया, पर्चा वर्षी लौकरिया।” जिसका अर्थ होता है कि “ओ परमपिता गणेश जी! मंगल करने वाले, अगले बरस जल्दी आना।” यह शुभ पर्व हिन्दुओं के लिए बहुत ही प्रसन्नता का समय होता है।

गणेश-पूजन के इन दस दिनों के दौरान गणपति पूजन में इन चुने हुए यंत्रों को गणेश-प्रतिमा के साथ पूजने से निश्चित तौर पर गणपति जी प्रसन्न होकर आपके जीवन को सुख-समृद्धि एवं सौभाग्य से परिपूर्ण कर देते हैं। ऐसा इन यंत्रों के विशेष महत्व के कारण होता है जिसे कि पूजन के समय बहुत ही शुभ माना जाता है। विधि-विधान से पूजन के लिए जिस प्रकार दीया, धूप-बाती, पुष्प एवं प्रसाद का महत्व है वैसे ही इन यंत्रों के पूजन से आपको विशेष लाभ होता है।


2018 में कब है गणेशोत्सव

2018 में गणेश उत्सव 13 सितंबर को गणेश चतुर्थी से लेकर दस दिन यानि 23 सितंबर अनंत चतुर्दशी के दिन तक चलेगा। अनंत चतुर्दशी को गणेश प्रतिमा के विसर्जन के साथ गणेशोत्सव संपन्न होता है। गणेश चतुर्थी के दिन व्रती को चंद्र दर्शन नहीं करना चाहिये इससे चंद्र दोष लग सकता है जिसमें व्यक्ति को मिथ्यारोपों का सामना करना पड़ सकता है। चंद्रदोष से बचने के क्या उपाय हैं इसकी जानकारी आपको विद्वान ज्योतिषाचार्यों से ही मिल सकती है।

एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


गणेश उत्सव 2018 तिथि व मुहूर्त

गणेश चतुर्थि तिथि - 13 सितंबर 2018
मध्याह्न गणेश पूजा – 11:04 से 13:31
चंद्र दर्शन से बचने का समय- 16:07 से 20:34 (12 सितंबर 2018)
चंद्र दर्शन से बचने का समय- 09:32 से 21:13 (13 सितंबर 2018)
चतुर्थी तिथि आरंभ- 16:07 (12 सितंबर 2018)
चतुर्थी तिथि समाप्त- 14:51 (13 सितंबर 2018)


यह भी पढ़ें

गणेश चालीसा का पाठ करें   |   गणेश जी के मंत्रों का उच्चारण करें   |   श्री गणेश आरती   |   श्री गणपति आरती

श्री विनायक आरती   |   बुधवार को गणेश जी की पूजा है अतिलाभकारी   |   गणेश परिवार की पूजा से पूरी होंगी मनोकामना




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...