Skip Navigation Links
हनी सिंह - यो यो के लिये कैसा रहेगा आगामी साल?


हनी सिंह - यो यो के लिये कैसा रहेगा आगामी साल?

बॉलीवुड में फिल्म और संगीत की अगर बात की जाये तो इसमें पंजाब की मिट्टी से जुड़े कलाकारों को नजरंदाज कर बात आगे नहीं बढ़ सकती। गैर फिल्मी संगीत की बात करें तो पंजाबी संगीत देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के सिर चढ़कर बोलता है। पंजाबी गीतकारों में भी आधुनिक दौर और उसमें भी युवाओं की पसंद की बात करें तो हर कोई आपको यो यो हन्नी सिंह के गाने गुनगुनाते हुए मिल जायेगा। हन्नी सिंह वर्तमान में पंजाबी संगीत को लेकर ही नहीं बल्कि बॉलीवुड में भी अपने गानों से एक नई पहचान उन्होंने बुलाई। कई बार अपने गानों को लेकर विवादों का सामना भी उन्हें करना पड़ा है। पिछले कुछ समय से अपने स्वास्थ्य को लेकर हन्नी सिंह को काफी संघर्ष करना पड़ रहा है लेकिन वर्तमान में उनकी पुन: वापसी की खबरें भी आ रही हैं जो कि उनके प्रशंसकों व संगीत की दुनिया से जुड़े लोगों के लिये एक अच्छी खबर है। 15 मार्च को हन्नी सिंह 34 वर्ष के हो जायेंगें। उनके जन्मदिन के अवसर पर आइये जानते हैं हन्नी सिंह की कुंडली के अनुसार वे कौनसे कारक हैं जिनके कारण उन्हें अपने जीवन में इतने उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहे हैं। साथ ही जानते हैं क्या आने वाले समय में सेहत के साथ-साथ हन्नी सिंह का करियर क्या मोड़ ले सकता है।


हन्नी सिंह का संक्षिप्त जीवन परिचय

हनी सिंह का जन्म 15 मार्च 1984 को पंजाब के होशियारपुर में हुआ। अगर बात की जाये की गाने की ओर वे कैसे प्रेरित हुए तो पंजाब की मिट्टी की खुशबू ही ऐसी है कि लोग अपने आप ही गुनगुनाने लगते हैं। लोक संगीत की बात या फिर सूफी संगीत पंजाब इस मामले में काफी समृद्ध है। लेकिन हनी सिंह ने एक नए तरह के संगीत में महारत हासिल की है जो कि लीक से हटकर है। उन्होंने चलते फिरते शब्दों को, आम बोलचाल में इस्तेमाल किये जाने वाले डॉयलोग को संगीत का रूप दिया। यूके के ट्रिनीटी स्कूल से संगीत में शिक्षा प्राप्त की जहां पर संगीत के टेक्निकल पहलुओं को काफी अच्छे से समझाया जाता है। हनी सिंह के गानों में संगीत का तकनीकी पक्ष काफी मजबूत भी रहता है। अपने रैप के जरिये ही उन्होंने बॉलीवुड में प्रचलित गानों के साथ प्रयोग कर अपनी एक नई पहचान बनाई। डीजे विशाल से उन्होंने डीजेंइंग भी सीखी है।

चार बोतल वोदका, पार्टी ऑल नाइट, ब्लू आईज, पंजाबियां दी बैटरी, लुंगी डांस, अंग्रेजी बीट जैसे अनेक हिट गाने उन्होंने दिये जिन पर पार्टियों में आज भी लोग थिरकते हैं।

शालीनी तलवार से अपनी शादी को उन्होंने इंडियाज़ रो स्टार नामक एक टीवी शो पर स्वीकार किया और अपनी पत्नी से दर्शकों को रूबरू करवाया।

सफलता के साथ-साथ व्यक्ति को परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। हनी सिंह भी इससे अछूते नहीं रहे और उनके गाने के बोल को लेकर उन पर फूहड़ता फैलाने के आरोप भी लगे, महिला विरोधी बोल भी उनके गानों के बताये गये, पार्टी ऑल नाइट गाने को लेकर भी काफी विवाद हुआ, आरोप लगे कि इसमें अश्लील शब्दों का इस्तेमाल किया गया है।

विवादों के साथ-साथ उन्हें अपनी सेहत को लेकर भी काफी जद्दोजहद का सामना करना पड़ा है। 2014 के बाद लंबे समय तक वे इंडस्ट्री से गायब रहे। 2015 में बर्थडे बैश से वापसी की लेकिन कुछ समय के पश्चात फिर से गायब हो गये। हाल ही में फिर से उनकी वापसी की खबरें आई हैं।


क्या कहती है हनी सिंह की वर्ष कुंडली

नाम – हनी सिंह

जन्मतिथि – 15 मार्च 1984

जन्म स्थान – होशियारपुर, पंजाब।

जन्म समय – ज्ञात नहीं

उपरोक्त विवरण के अनुसार हनी सिंह की चंद्र राशि कर्क बनती है। कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा हैं जिन्हें कला का कारक ग्रह भी माना जाता है। कर्क राशि के एक जलीय राशि मानी जाती है। इस राशि के जातक स्वयं को समय के अनुसार ढ़ालकर नये जमाने के साथ चलते हैं। कम समय में इन्हें बड़ी उपलब्धियां हाथ लगती हैं। ये कुछ कुछ स्वार्थी भी होते हैं, स्त्री की ओर इनका आकर्षण रहता है। इनका स्वभाव थोड़ा अड़ियल, थोड़ा गुस्सैल, थोड़ा कामुक रहता है दुर्व्यस्नों का शिकार होने की संभावनाएं भी प्रबल रहती हैं। साथ ही अपनी सेहत को लेकर भी इन्हें काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है।

सूर्य कुंडली की अगर बात करें तो इनकी कुंडली में इनकी राशि से भाग्य स्थान में बुधादित्य योग बन रहा है। 2017 से इन पर सूर्य की महादशा में शनि चल रहे हैं। शनि और सूर्य आपस में षड़ाषटक योग बना रहे हैं। यह योग स्वास्थ्य के प्रति चिंताएं बढ़ाने वाला रहता है और करियर में भी हानी उठानी पड़ती है।

हालांकि इनकी कुंडली में स्वराशि के बृहस्पति, स्वराशि के मंगल, स्वराशि के चंद्रमा व शनि भी उच्च के होकर गोचररत हैं। किसी भी जातक के लिये यह योग शोहरत प्राप्ति के योग हैं।

हनी सिंह का जन्म नक्षत्र अश्लेषा है जो कि एक मूल नक्षत्र माना जाता है। नक्षत्र स्वामी बुध कुंडली में नीच के हैं जो कि इनकी सेहत के प्रति शुभ नहीं कहे जा सकते। यही कारण है कि इन्हें अपनी सेहत को लेकर संघर्ष करना पड़ रहा है।


कैसा रहेगा आने वाला समय

वर्ष कुंडली की बात करें तो चंद्रमा भाग्य के मालिक होकर केंद्र में मौजूद हैं। मुंथा मकर राशि की है और मुंथाधिपति शनि के साथ मंगल विराजमान हैं। यह एक प्रकार से विस्फोटक योग बनाते हैं जो कि करियर के मामले में अपार सफलता मिलने के योग हनी सिंह के लिये बना रहे हैं। प्रशंसकों का भी पूरा समर्थन इन्हें आने वाले समय में मिलेगा जिससे पुन: अपना मुकाम हासिल कर सकते हैं।

आने वाला समय आपके लिये कैसा रहने वाला है या कैसे आप अपनी परिस्थितियों में बेहतरी ला सकते हैं इसके लिये एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस ले सकते हैं।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

Mangal Vakri 2018 – वक्री मंगल किसे करेंगें खुशहाल तो कौन होगा बदहाल? जानिए

Mangal Vakri 2018 ...

वर्तमान में मंगल मकर राशि में गोचर कर रहे हैं। 27 जून 2018 को मध्यरात्रि के पश्चात 2 बजकर 35 मिनट पर मंगल की चाल में बदलाव होगा। अपनी उच्च राशि मकर में विचरण कर रहे ...

और पढ़ें...
Father`s Day 2018 - जानें क्यों मनाया जाता है फादर्स डे

Father`s Day 2018 ...

Father`s Day (फादर्स डे) जिस तरह माताओं के सम्मान के लिये मदर्स डे यानि मातृ दिवस मनाया जाता है उसी प्रकार पिताओं के सम्मान के लिये फादर्स डे भी मनाया जाता है। भारत ...

और पढ़ें...
मिथुन राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों पर होगी बुध की कृपा!

मिथुन राशि में बुध...

मिथुन राशि में बुध का परिवर्तन 10 जून को हो रहा है। बुध राशि परिवर्तन कर स्वराशि मिथुन में प्रवेश कर रहे हैं। वाणी के कारक बुध का परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये...

और पढ़ें...
Race 3 – क्या सलमान खान को रेस 3 से मिलेगी ईदी?

Race 3 – क्या सलमा...

ईद का दिन सलमान खान की फिल्म की रीलिज़ के लिये हर साल फिक्स होता है। इस बार भी भाईजान ईद की मुबारकबाद  रेस 3 (RACE 3) की रीलिज़ से दे रहे हैं। वैसे तो रेस 3 का ट्रेल...

और पढ़ें...
ज्येष्ठ पूर्णिमा 2018 – वट पूर्णिमा व्रत का महत्व व पूजा विधि

ज्येष्ठ पूर्णिमा 2...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान...

और पढ़ें...