वर्ष 2010 में भारतीय राजनीति का भविष्य – भाग 3

शिवसेना प्रमुख श्री बाल ठाकरे 

 वर्ष 2010 शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के लिए कुछ हद तक कष्टकारी रहेगा। इस वर्ष  श्री ठाकरे के लिए राजनैतिक स्थिति में अस्थिरता और स्वास्थ्य समस्याओं के योग बन  रहे हैं। लेकिन महाराष्ट्र की राजनीति में उनका दबदबा बना रहेगा। इस वर्ष आपको  यात्राओं से बचना चाहिए।

श्री लालूप्रसाद यादव 

 राजनैतिक दृष्टि से वर्ष 2010 श्री लालू प्रसाद यादव के लिए दुखद योग है। यह  वर्ष उनके लिए अदालती झंझट ला रहा है वहीं उनकी सुरक्षा को पुख्ता रखना भी आवश्यक  है। शनि के प्रभाव से आकस्मिक दुर्घटना के संकेत हैं। साथ ही उन्हें सपरिवार  यात्रा करने से भी बचना चाहिए। राष्ट्रीय राजनीति में अस्थिरता का योग है।

सुश्री मायावती मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश 

सुश्री मायावती के लिए वर्ष 2010 में भी राजयोग बना रहेगा। लेकिन शनि एवं मंगल  के प्रभाव से सितम्बर 2010 से दिसम्बर 2010 के बीच का समय उनके लिए कष्टकारी योग  बना रहा है। इस समय में अदालती परेशानी अथवा राजनैतिक कारणों से उनके पद से हटने  के योग भी बन रहे हैं। वहीं इस वर्ष उनके दुर्घटना के भी संकेत मिल रहे हैं अतः  अत्यन्त सावधानी बरतनी होगी।

श्रीमती ममता बैनर्जी रेलमंत्री

तृषमूल काँग्रेस की अध्यक्षा एवं बंगाल की प्रभावशाली नेत्री जो अभी भारत की  केन्द्रीय रेलमंत्री भी हैं – सुश्री ममता बैनर्जी के लिए वर्ष 2010 सूर्य एवं शनि के  प्रभाव से राजनीति में बेहद सफल एवं समृद्धिशाली रहेगा किन्तु आगामी मई से अगस्त  के दौरान शनि एवं राहु के प्रभाव से उनकी कुण्डली में आकस्मिक दुर्घटना का योग बन  रहा है। वहीं उन्हें अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है।

श्रीमती शीला दीक्षित मुख्यमंत्री दिल्ली 

गुरू एवं शनि की कृपापात्र दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित 2010  में राज्य एवं काँग्रेस के विकास में अहम भूमिका निभाएंगी। वर्ष 2010 उनके लिए  बेहद शुभ रहेगा किन्तु अगस्त से नवम्बर के दौरान राजनैतिक अस्थिरता के कारण उनके  पद पर गंभीर संकट का योग बन रहा है। लेकिन, साथ ही वर्ष 2010 में उनके लिए बाधाओं  पर विजय पाने का योग भी बन रहा है।


एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜