GL vs KKR - गौतम गंभीर के सितारे हैं मजबूत क्या दिला पायेंगें जीत?

आईपीएल के दसवें सीज़न की धमाकेदार शुरुआत आईपीएल के नौंवे सीज़न के चैंपियन सनराइजर्स हैदराबाद की जीत से हुई है। आरसीबी और सनराइजर्स के मैच में हमने ज्योतिषीय आकलन के अनुसार आरसीबी के कप्तान विराट कोहली के ग्रहों की स्थिति मजबूत बताई थी। लेकिन मैच से टीम के कप्तान का बाहर होना टीम को भारी पड़ा। 7 अप्रैल को सुरेश रैना के नेतृत्व वाली गुजरात लायंस एवं गौतम गंभीर के नेतृत्व वाली कोलकाता नाइट राइडर के बीच राजकोट के मैदान में रात्रि के 8 बजे भीडंत होगी। दोनों कप्तानों की कुंडलिका किसका पलड़ा भारी बताती है आइये जानते हैं।

गुजरात लांयस के कप्तान सुरेश रैना की कुंडली

नाम - सुरेश रैना

जन्मतिथि – 27 नवंबर 1986

जन्म स्थान – गाजियाबाद

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार रैना की चंद्र राशि कन्या है। वर्तमान में इनकी राशि से चंद्रमा 12वां है जो कि दिन की शुभता के लिये कम माना जाता है। कन्या राशि के स्वामी बुध भी मंगल के साथ विराजमान हैं। क्रूर ग्रह के साथ होने से बुध इनकी राशि की स्थिति को कमजोर बनाता है।

कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली

नाम – गौतम गंभीर

जन्मतिथि – 14 अक्तूबर 1981

जन्म स्थान – दिल्ली

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार गौतम गंभीर की चंद्र राशि मेष है। मेष राशि के स्वामी मंगल स्वराशि के हैं। इनकी राशि से चंद्रमा पांचवी राशि में है जो कि मैच के समय यानि 7 अप्रैल को 8 बजे लाभ स्थान में होगा। चंद्र राशि से गौतम गंभीर की कुंडलिका में चंद्रमा की महादशा, राहु का अंतर और शुक्र का प्रत्यंतर है। शुक्र ग्रह इनकी कुंडली में लाभ के स्वामी हैं।

कुल मिलाकर दोनों कुंडलिकाओं का अध्ययन किया जाये तो ग्रहों की दशा व दिशा के हिसाब से गौतम गंभीर के सितारे काफी मजबूत नज़र आ रहे हैं।

हालांकि टीम की हार जीत का फैसला अन्य खिलाड़ियों की कुंडली के आकलन पर निर्भर करता है लेकिन दोनों टीमों के कप्तानों में गंभीर को भाग्य का साथ ज्यादा मिलने के आसार हैं। यदि आप अपनी कुंडली की जांच करवाना चाहते हैं तो परामर्श करें हमारे ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें। 

एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜