MI vs KKR - रोहित शर्मा व गौतम गंभीर में से सितारे किसे दिलायेंगे जीत?

09 अप्रैल 2017

आईपीएल 2017 का रोमांच अब दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। हर मैच में काफी उलटफेर देखने को मिल रहा है। हर मैच से पहले टीम के कप्तानों की कुंडली के आधार पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य बता रहे हैं आपको मैच का हाल। मुबंई के कप्तान रोहित शर्मा और कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली क्या कहती है? मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में 9 अप्रैल को रात्रि 8 बजे से शुरु हो रहे मैच में ग्रह किसका पलड़ा कर रहे भारी? आइये जानते हैं।

मुबई इंडियन के कप्तान रोहित शर्मा की कुंडली

नाम – रोहित शर्मा

जन्मतिथि – 29 अप्रैल 1987

जन्म स्थान – नागपुर, महाराष्ट्र, भारत

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार रोहित शर्मा की चंद्र राशि मेष है। वर्तमान में इनकी राशि से चंद्रमा छठे घर में है। छठे घर में चंद्रमा को बलशाली नहीं माना जाता। चंद्र राशि से इनकी दशाएं भी राहू की चल रही हैं जो इनकी स्थिति को थोड़ा कमजोर करती हैं।

कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली

नाम – गौतम गंभीर

जन्मतिथि – 14 अक्तूबर 1981

जन्म स्थान – दिल्ली

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार गौतम गंभीर की चंद्र राशि मेष है। एक नज़र से देखा जाये तो गौतम गंभीर व रोहित शर्मा की राशियां समान हैं और दोनों की राशि में चंद्रमा की स्थिति भी एक समान है। यह संयोग मैच मुकाबले का रहने की ओर संकेत करता है। लेकिन गौतम गंभीर के लिये उनकी कुंडली में शुक्र का प्रयंतर होना एक सकारात्मक व लाभकारी संकेत हैं।

दोनों की कुंडलियों का ज्योतिषीय आकलन करने पर भाग्य का साथ गौतम गंभीर को मिल सकता है। शुक्र इनके पलड़े को भारी कर रहा है।

क्रिकेट के इस खेल में जहां एक मैच को जिताने व हराने में खेलने वाले सभी ग्यारह खिलाड़ियों सहित प्रशिक्षकों (कोचिज़) की अहम भूमिका होती है। ऐसे में किसका भाग्य कब पलटी मार जाये कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन दोनों कप्तानों की ज्योतिषीय नज़रिये तुलना की जाये तो गंभीर के सितारे फिलहाल मज़बूत दिखाई देते हैं। आपकी कुंडली में सितारों का क्या हाल है जानने के लिये आप देशभर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

एस्ट्रो लेख

साल 2021 में कितने हैं गृह प्रवेश के शुभ मुहूर्त ? जानिए

janeu shubh muhurat 2021 - इस साल केवल 10 दिन ही है जनेऊ मुहूर्त

कर्णछेदन संस्कार के लिए साल 2021 में जानिए शुभ मुहूर्त

साल 2021 के इन शुभ मुहूर्त में शिशु का कराएं अन्नप्राशन संस्कार

Chat now for Support
Support