MI vs KKR - रोहित शर्मा व गौतम गंभीर में से सितारे किसे दिलायेंगे जीत?

आईपीएल 2017 का रोमांच अब दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। हर मैच में काफी उलटफेर देखने को मिल रहा है। हर मैच से पहले टीम के कप्तानों की कुंडली के आधार पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य बता रहे हैं आपको मैच का हाल। मुबंई के कप्तान रोहित शर्मा और कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली क्या कहती है? मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में 9 अप्रैल को रात्रि 8 बजे से शुरु हो रहे मैच में ग्रह किसका पलड़ा कर रहे भारी? आइये जानते हैं।

मुबई इंडियन के कप्तान रोहित शर्मा की कुंडली

नाम – रोहित शर्मा

जन्मतिथि – 29 अप्रैल 1987

जन्म स्थान – नागपुर, महाराष्ट्र, भारत

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार रोहित शर्मा की चंद्र राशि मेष है। वर्तमान में इनकी राशि से चंद्रमा छठे घर में है। छठे घर में चंद्रमा को बलशाली नहीं माना जाता। चंद्र राशि से इनकी दशाएं भी राहू की चल रही हैं जो इनकी स्थिति को थोड़ा कमजोर करती हैं।

कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली

नाम – गौतम गंभीर

जन्मतिथि – 14 अक्तूबर 1981

जन्म स्थान – दिल्ली

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार गौतम गंभीर की चंद्र राशि मेष है। एक नज़र से देखा जाये तो गौतम गंभीर व रोहित शर्मा की राशियां समान हैं और दोनों की राशि में चंद्रमा की स्थिति भी एक समान है। यह संयोग मैच मुकाबले का रहने की ओर संकेत करता है। लेकिन गौतम गंभीर के लिये उनकी कुंडली में शुक्र का प्रयंतर होना एक सकारात्मक व लाभकारी संकेत हैं।

दोनों की कुंडलियों का ज्योतिषीय आकलन करने पर भाग्य का साथ गौतम गंभीर को मिल सकता है। शुक्र इनके पलड़े को भारी कर रहा है।

क्रिकेट के इस खेल में जहां एक मैच को जिताने व हराने में खेलने वाले सभी ग्यारह खिलाड़ियों सहित प्रशिक्षकों (कोचिज़) की अहम भूमिका होती है। ऐसे में किसका भाग्य कब पलटी मार जाये कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन दोनों कप्तानों की ज्योतिषीय नज़रिये तुलना की जाये तो गंभीर के सितारे फिलहाल मज़बूत दिखाई देते हैं। आपकी कुंडली में सितारों का क्या हाल है जानने के लिये आप देशभर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜