Skip Navigation Links
MI vs KKR - रोहित शर्मा व गौतम गंभीर में से सितारे किसे दिलायेंगे जीत?


MI vs KKR - रोहित शर्मा व गौतम गंभीर में से सितारे किसे दिलायेंगे जीत?

आईपीएल 2017 का रोमांच अब दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। हर मैच में काफी उलटफेर देखने को मिल रहा है। हर मैच से पहले टीम के कप्तानों की कुंडली के आधार पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य बता रहे हैं आपको मैच का हाल। मुबंई के कप्तान रोहित शर्मा और कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली क्या कहती है? मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में 9 अप्रैल को रात्रि 8 बजे से शुरु हो रहे मैच में ग्रह किसका पलड़ा कर रहे भारी? आइये जानते हैं।

मुबई इंडियन के कप्तान रोहित शर्मा की कुंडली

नाम – रोहित शर्मा

जन्मतिथि – 29 अप्रैल 1987

जन्म स्थान – नागपुर, महाराष्ट्र, भारत

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार रोहित शर्मा की चंद्र राशि मेष है। वर्तमान में इनकी राशि से चंद्रमा छठे घर में है। छठे घर में चंद्रमा को बलशाली नहीं माना जाता। चंद्र राशि से इनकी दशाएं भी राहू की चल रही हैं जो इनकी स्थिति को थोड़ा कमजोर करती हैं।

कोलकाता नाइट राइडर के कप्तान गौतम गंभीर की कुंडली

नाम – गौतम गंभीर

जन्मतिथि – 14 अक्तूबर 1981

जन्म स्थान – दिल्ली

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार गौतम गंभीर की चंद्र राशि मेष है। एक नज़र से देखा जाये तो गौतम गंभीर व रोहित शर्मा की राशियां समान हैं और दोनों की राशि में चंद्रमा की स्थिति भी एक समान है। यह संयोग मैच मुकाबले का रहने की ओर संकेत करता है। लेकिन गौतम गंभीर के लिये उनकी कुंडली में शुक्र का प्रयंतर होना एक सकारात्मक व लाभकारी संकेत हैं।

दोनों की कुंडलियों का ज्योतिषीय आकलन करने पर भाग्य का साथ गौतम गंभीर को मिल सकता है। शुक्र इनके पलड़े को भारी कर रहा है।

क्रिकेट के इस खेल में जहां एक मैच को जिताने व हराने में खेलने वाले सभी ग्यारह खिलाड़ियों सहित प्रशिक्षकों (कोचिज़) की अहम भूमिका होती है। ऐसे में किसका भाग्य कब पलटी मार जाये कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन दोनों कप्तानों की ज्योतिषीय नज़रिये तुलना की जाये तो गंभीर के सितारे फिलहाल मज़बूत दिखाई देते हैं। आपकी कुंडली में सितारों का क्या हाल है जानने के लिये आप देशभर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शनि प्रदोष - जानें प्रदोष व्रत की कथा व पूजा विधि

शनि प्रदोष - जानें...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास में कोई न कोई व्रत, त्यौहार अवश्य पड़ता है। दिनों के अनुसार देवताओं की पूजा होती है तो तिथियों के अनुसार भी व्रत उपवास रखे जाते ह...

और पढ़ें...
पद्मिनी एकादशी – जानिए कमला एकादशी का महत्व व व्रत कथा के बारे में

पद्मिनी एकादशी – ज...

कमला एकादशी, अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पद्मिनी एकादशी कहलाती है। इसे कमला एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू धर्म में व्रत व त्यौहारों की बड़ी मान्यता है। सप्ताह का...

और पढ़ें...
वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

वृषभ राशि में बुध ...

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना मान...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...