Skip Navigation Links
आईपीएल 2017 – RCB vs GL  किसका पलड़ा रहेगा भारी?


आईपीएल 2017 – RCB vs GL किसका पलड़ा रहेगा भारी?

आईपीएल 2017 का रोमांच अब सर चढ़कर बोलने लगा है और प्रत्येक टीम की मजबूती और कमजोरियां भी खुलकर सामने आ रही हैं। विश्व क्रिकेट में नामी गिरामी जाने वाले खिलाड़ी यहां फेल हो रहे हैं तो अफगानीस्तान जैसे देश आने वाले खिलाड़ी नाम कमा रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सब ग्रहों का खेल हैं। जिसके सितारे बुलंदी पर हैं वह बेहतर प्रदर्शन करने में कामयाब हो रहा है तो वहीं जिसके सितारे गर्दिश में हैं उसका बल्ला और गेंद यहां तक कि हर रणनीति नाकाम साबित हो रही है। अब तक आईपीएल में खेले गये कुछ मैच का पूर्वानुमान खिलाड़ियों की कुंडली व खेले जाने वाले मैच के समय व स्थान के अनुसार ग्रहों की दशा दिशा के आधार पर लगाया। इसी कड़ी में 27 अप्रैल को आरसीबी यानि रॉयल चैलेंजर बैंगलोर एवं गुजरात लांयस के बीच रात्रि 8 बजे बंगलुरु में खेले जाने वाले मैच में किस टीम का पलड़ा भारी रहेगा? आइये जानते हैं।

मैच के समय चंद्रमा की स्थिति

27 अप्रैल को चंद्रमा मेष राशि में रहेंगें जोकि दोनों कप्तानों की राशि से अष्टम भाव में विराजमान हैं। आठवें भाव में मंगल का आधिपत्य माना जाता है, इस संयोग से दोनों टीमों में कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिल सकती है।

आरसीबी कप्तान विराट कोहली के सितारे

नाम – विराट कोहली

जन्मतिथि – 5 नवंबर 1988

जन्म समय – 10:28

जन्म स्थान – दिल्ली, भारत।

उपरोक्त विवरण के अनुसार विराट कोहली की राशि कन्या है। कोहली की अंतरदशा में शनि और मंगल का प्रभाव है। कोहली की कुंडली में लाभ के स्वामी शुक्र हैं जो कि वर्तमान में उच्चस्थ हैं।

गुजरात लांयस कप्तान सुरेश रैना के सितारे

नाम - सुरेश रैना

जन्मतिथि – 27 नवंबर 1986

जन्म स्थान – मुरादनगर

जन्म समय – 00:00

उपरोक्त विवरण के अनुसार रैना की चंद्र राशि भी कन्या है। रैना की कुंडली के अनुसार इनके लाभ घर के स्वामी बुध हैं जो कि वर्तमान में वक्री चल रहे हैं।

कुल मिलाकर दोनों की कुंडलियों का मिलान किया जाये तो कोहली के ग्रह उनकी स्थिति को मजबूत बता रहे हैं। हालांकि हाल ही में कोहली की टीम का प्रदर्शन बहुत ही निराशाजनक रहा है और आईपीएल के इतिहास के न्यूनतम स्कोर पर ऑल आऊट होने का रिकॉर्ड भी आरसीबी ने बनाया है। लेकिन गुजरात लांयस का प्रदर्शन भी कुछ खास नहीं रहा है। आईपीएल 2017 के प्रदर्शन बोर्ड पर दोनों ही टीमें नीचले पायदान पर हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 27 अप्रैल के बाद कोहली के ग्रहों की दशा सहायता देने वाली बन रही है। लाभ घर के स्वामी की स्थिति आदि के आकलन से भी 27 अप्रैल को खेले जाने वाले मैच में कोहली की टीम सुरेश रैना की गुजरात लांयस पर भारी पड़ सकती है।

हालांकि हम फिर कह रहे हैं कि मैदान में ग्यारह खिलाड़ियों की टीम खेलती है एकमात्र कप्तान नहीं इस लिहाज से किस खिलाड़ी के सितारे कितने मजबूत हैं कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन दोनों कप्तानों की कुंडली की अगर बात की जाये तो सितारे कोहली का साथ दे सकते हैं।

आपके सितारे आपका साथ दे रहे हैं या नहीं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

जगन्नाथ रथयात्रा 2018 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन्दू धर्मग्रन्थ ब्रह्मपुर...

और पढ़ें...
जगन्नाथ पुरी मंदिर - जानें पुरी के जगन्नाथ मंदिर की कहानी

जगन्नाथ पुरी मंदिर...

सप्तपुरियों में पुरी हों या चार धामों में धामसर्वोपरी पुरी धाम में जगन्नाथ का नामजगन्नाथ की पुरी भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उड़िसा प्रांत के प...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...
तुला राशि में बृहस्पति की बदली चाल – जानिए किन राशियों के करियर में आयेगा उछाल

तुला राशि में बृहस...

ज्ञान के कारक और देवताओं के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति की ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बहुत अधिक मान्यता है। गुरु बिगड़ी को बनाने, बनते हुए को बिगाड़ने में समर्थ माने ...

और पढ़ें...