बृहस्पति वक्री 2019 - वृश्चिक राशि में वक्री गुरु, क्या होगा असर आपकी राशि पर!

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों का राशि परिवर्तन तो मायने रखता ही है लेकिन ग्रहों का वक्री होना यानि की ग्रहों को विपरीत दिशा में चल पड़ना भी राशिफल को काफी प्रभावित करता है। राशि परिवर्तन से लेकर गोचर में शनि, राहू-केतु व बृहस्पति का वक्री व मार्गी होना बहुत खास गतिविधि मानी जाती हैं। इन ग्रहों की गतिविधियां व्यापक रूप से जातकों के भविष्य को प्रभावित करती हैं। वर्तमान में बृहस्पति वृश्चिक राशि में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं। 2019 में 30 अप्रैल को बृहस्पति राशि परिवर्तन कर धनु राशि में चले गये थे जिसके पश्चात 11 अप्रैल को वक्री होकर 22 अप्रैल को उन्होंने पुन: वृश्चिक राशि में वक्र अवस्था में ही प्रवेश किया है। बृहस्पति का वक्र होना आपके निर्णय लेने की क्षमता, बड़े बुजूर्ग अथवा वरिष्ठ कर्मियों, सहयोगियों या अधिकारियों के सहयोग को प्रभावित कर सकता है। किस राशि के लिये बृहस्पति का वृश्चिक राशि में वक्री होना कैसा रहेगा? इस बारे में अपने पाठकों की जानकारी के लिये एस्ट्रोयोगी इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से परामर्श के आधार पर प्रस्तुत है यह लेख। तो आइये जानते हैं वक्री बृहस्पति कैसे करेंगें राशिनुसार आपको प्रभावित।


वृश्चिक में वक्री गुरु, क्या होगा असर आपकी राशि पर

मेष

आपकी राशि से अष्टम भाव में राशि स्वामी बृहस्पति वक्री हो रहे हैं। सेहत का ध्यान रखें। उदर संबंधी परेशानियों से झूझना पड़ सकता है। खान-पान का ध्यान रखें, किडनी संबंधी समस्या भी उजागर हो सकती है। वज़न की समस्या भी आपको परेशना कर सकती है। पूरी संभावनाएं हैं कि आप अनावश्यक वस्तुओं में पैसे खर्च करें। अपनी इस प्रवृति पर आपको अंकुश लगाने की आवश्यकता है। भौतिक सुखों का अभाव भी आपको वक्री गुरु के दौरान झेलना पड़ सकता है।

वृषभ

आपकी राशि से बृहस्पति सातवें स्थान में वक्री हो रहे हैं। बृहस्पति के वक्र होने से आपकी रोमांटिक लाइफ में इसके नेगेटिव इफेक्ट देखने को मिल सकते हैं। संभव है पार्टनर के साथ आपके रिलेशन सौहार्दपूर्ण न हों। इस समय आपका रुझान धार्मिक कार्यों की ओर बढ़ सकता है। अपनी सेहत का खास तौर पर आपको ध्यान रखने की आवश्यकता है। उदर संबंधी समस्याओं के प्रति सचेत रहे। फाइनेशियल डीसीज़न सोच समझकर लेंगें तो लाभ की स्थिति में रह सकते हैं। गुरु आपकी आर्थिक स्थिति के पहले से बेहतर होने के संकेत कर रहे हैं। मां का प्यार व सहयोग आपको मिलने के आसार हैं।

मिथुन

आपकी राशि से बृहस्पति छठे घर में वक्री हो रहे हैं। गुरु की चाल में आया यह बदलाव आपके लिये परेशानियां लेकर आ सकता है। यह परेशानियां आपको अपनी लाइफ के विभिन्न क्षेत्रों में दिखाई दे सकती हैं। विरोधियों, विपक्षियों व कार्यस्थल पर ईर्ष्या रखने वालों से आपको इस समय सावधान रहने की आवश्यकता रहेगी। करियर में भी आपको इस समय परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। कामकाजी जीवन में बाधाएं आ सकती हैं। यदि कोई महत्वपूर्ण निर्णय इस दौरान लेना पड़े तो हमारी सलाह है कि किसी अनुभवी या फिर बड़े बुजूर्गों से सलाह अवश्य लें। गलत निर्णय लेने की संभावनाएं हैं इसलिये थोड़ा सोच समझकर ही फैसला करें। धन निवेश करने के मामले में भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता है अन्यथा फाइनेंशियल लॉस उठाना पड़ सकता है। खर्चों पर भी आपको अंकुश लगाने की जरुरत है।

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2019   |   बृहस्पति गोचर 2019   |   तुला राशि में बृहस्पति, जानें राशिफल   ।   बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा


वृश्चिक

बृहस्पति का गोचर आपकी ही राशि में हो रहा है। बृहस्पति के वक्र होने से आप अपनी लाइफ के लगभग सभी क्षेत्रों में एक अजीब सा ठहराव महसूस कर सकते हैं। साधन संपन्न होने के बावजूद हो सकता है आप उनका सुख न महसूस कर सकें। सामर्थ्य होने के बावजूद आपको ऐसा महसूस हो सकता है मानो किसी ने आपके हाथ जकड़ दिये हों। इस समय भाग्य भले आपका साथ न दे लेकिन आपके लाइफ पार्टनर की आपको पूरी सपोर्ट रहेगी।

धनु

आपकी राशि से 12वें स्थान में बृहस्पति वक्री हो रहे हैं जो कि आपके व्यय का स्थान है। यदि आप धन निवेश करने की योजना बना रहे हैं तो बृहस्पति हानि के संकेत कर रहे हैं निर्णय काफी सोच समझकर लें। सुख सुविधाओं का अभाव भी आपको हो सकता है। हालांकि करियर से लेकर लाइफ में आप अपने प्रतिस्पर्धियों पर हावि रह सकते हैं। आपके शत्रु इस समय आपसे पराजित हो सकते हैं। अपना बैग तैयार रखें बृहस्पति आपके लिये यात्रा के योग बना रहे हैं। हालांकि यात्रा के दौरान आपको अपनी सेहत का ध्यान रखने की आवश्यकता रहेगी। विशेषकर लीवर व कीडनी का विशेष ध्यान रखें।

मकर

बृहस्पति आपकी राशि के स्वामी हैं जो कि वर्तमान में आपकी राशि से लाभ स्थान में वक्री हो रहे हैं। इस समय आपके कार्य लंबे समय के लिये लटक सकते हैं। कामकाज में भी हो सकता है आपका मन न लगे। आलस्य की प्रवृति आप पर हावि हो सकती है। रोमांटिक व मैरिड लाइफ को लेकर आप थोड़ी टेंशन में हो सकते हैं। संतान को लेकर भी आपकी चिंताएं हो सकती हैं। इस समय आप अपने पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव महसूस कर सकते हैं।

कुंभ

मकर राशि वालों के लिये बृहस्पति दसवें स्थान में वक्री हो रहे हैं जो कि आपके कर्म का स्थान है। यह समय आपके कार्यों में रूकावटें लेकर आ सकता है। पैतृक संपत्ति से किसी लाभ की अपेक्षा कर रहे हैं तो हो सकता है अपेक्षित लाभ न मिले। सुख-सुविधाओं में भी कमी हो सकती है। दांपत्य जीवन में किसी तरह की परेशानी चल रही है तो इसके समाधान के लिये किसी थर्ड पर्सन की सहायता लेनी पड़ सकती है।

मीन

आपकी राशि से भाग्य स्थान में गुरु वक्री हो रहे हैं। कुंभ राशि वालों के लिये बृहस्पति का वक्र होना भाग्य का पूर्ण सहयोग नहीं मिलने के संकेत कर रहा है। इस समय आप अपनी सेहत को लेकर भी थोड़ा परेशान रह सकते हैं। विशेषकर बढ़ता हुआ वज़न आपकी समस्या का कारण हो सकता है। कामकाज में भी आपका मन कम ही लगेगा। आलसीपन हावि रहने के आसार हैं। रोमांटिक लाइफ के लिये भी समय सही नहीं है। पार्टनर से रिश्ते मधुर नहीं रहेंगें। जो जातक किसी इंटरव्यू की तैयारी कर रहे हैं वे थोड़ा संभलकर रहें शुभ योग नहीं हैं तैयारी थोड़ी अच्छे से करें।



एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜