बृहस्पति का राशि परिवर्तन – गुरु का धनु राशि में गोचर

ज्योतिषशास्त्र में बृहस्पति ग्रह को धन और ज्ञान का कारक माना जाता है। बृहस्पति ग्रह 5 नवंबर 2019 को सुबह 6 बजकर 42 मिनट पर वृश्चिक से धनु राशि में प्रवेश करेगा और इसी राशि में 20 नवंबर 2020 दोपहर 02:55 तक रहेगा। इसके अलावा गुरु 14 मई 2020 को वक्री अवस्था में होगा और 13 सितंबर 2020 को मार्गी अवस्था में आ जाएगा। बृहस्पति का राशि परिवर्तन ज्योतिष में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। आइए जानते हैं कि गुरु का धनु राशि में गोचर होने से सभी 12 राशियों को गुरु कैसे प्रभावित करेंगे? 


आपकी कुंडली के अनुसार बृहस्पति ग्रह आपके लिये किस तरह लाभकारी हो सकते हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

मेष

मेष राशि से गुरु का परिवर्तन भाग्य स्थान में हो रहा है। यह आपके लिये भाग्य में वृद्धि के योग बना रहा है। मेष राशि पर गुरु की शुभ दृष्टि भी पड़ रही है जिससे रूके हुए कार्य बनने के आसार नज़र आ रहे हैं। यदि किसी बात को लेकर परेशान चल रहे हैं तो यह समय आपके लिये मानसिक तनाव में भी कमी ला सकता है। कुल मिलाकर आपके लिये गुरु का गोचर काफी अच्छे परिणाम लेकर आ रहा है।

वृषभ

वृषभ राशि वालों के लिये अष्टम भाव में गुरु का परिवर्तन हो रहा है। स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा सचेत रहें। फाइनेंस संबंधी निर्णय भी सोच-समझकर लेने की आवश्यकता रहेगी। किसी बात को लेकर मानसिक तौर पर आप थोड़ा परेशान रह सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि इस समय धैर्य एवं विवेक से काम लें। फिजूल की बातों को लेकर परेशान न हों। विवेक से काम लेने पर आपको कार्यों में सफलता जरुर मिलेगी। सफलता का एक ही सूत्र गुरु आपको इस समय दे रहे हैं कि काम मन लगाकर पूरी मेहनत व सतर्कता से करें। लापरवाही न बरतें।

मिथुन

मिथुन राशि वालों के लिये गुरु का राशि परिवर्तन सप्तम भाव में हो रहा है। आपको मानसिक तनाव से मुक्ति मिल सकती है विशेषकर पर्सनल लाइफ में चल रही दिक्कतों के दूर होने से आप राहत की सांस ले सकते हैं। सोचने समझने की क्षमता बढ़ेगी। हां घर परिवार में किसी के साथ मन-मुटाव की संभावनाएं बन रही हैं। परिजनों से वाद-विवाद करने से बचें। बड़ों की सलाह को नज़रंदाज न करें।

कर्क

कर्क राशि वालों के लिये छठे स्थान में बृहस्पति राशि परिवर्तन कर रहे हैं। यदि पिछले कुछ समय से स्वास्थ्य समस्याओं से दो चार हो रहे हैं तो इस समय उनसे राहत मिल सकती है। धन प्राप्ति के नये स्त्रोतों पर विचार कर सकते हैं। विदेश यात्रा के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। शत्रु पक्ष कमजोर हो सकता है विशेषकर राजनीति से जुड़े जातकों के लिये यह समय लाभकारी रह सकता है। हालांकि आपके लिये सलाह है कि किसी भी सूरत में अपने विरोधियों को कमतर न आंके। कोर्ट कचहरी में कोई मामला चल रहा है तो इस समय हालात आपके अनुकूल नज़र आ सकते हैं।

सिंह

सिंह राशि वालों के लिये पढ़ाई लिखाई के मामले में समय अच्छा रहने के आसार हैं। शिक्षा क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये समय लाभकारी रह सकता है। पंचम भाव में गुरु का आना आपके लिये संतान संबंधी शुभ समाचार भी लेकर आ सकता है। जो विवाहित जातक संतान प्राप्ति के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी खुश खबरी मिल सकती है। रोमांटिक लाइफ भी काफी अच्छी रहने के आसार हैं। जो जातक किसी खास तक अपने दिल की बात पंहुचाना चाहते हैं उनके लिये भी समय अच्छा है। पार्टनर का रिस्पोंस आपको सकारात्मक मिल सकता है। हालांकि लव मैरिज़ के मामले में हो सकता है आपको परेशानियों का सामना करना पड़े।

कन्या

सुख भाव यानि चौथे स्थान में गुरु का आना आपके लिये परिजनों से सहयोग मिलने के योग बना रहा है। खासकर काम के सिलसिले में कुछ नया शुरु करना चाह रहे हैं तो आपको अपेक्षित सहायता उनसे मिल सकती है। मानसिक तौर पर किसी बात कि चिंता आपको जरुर सता सकती है लेकिन इससे परेशान होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि हो सकता है यह भविष्य में आपके लिये सही साबित हो। इस समय आपको सिर्फ इस बात का ध्यान रखना है कि फिजूल की बातों में उलझने की बजाय अपनी ऊर्जा को सकारात्मक कार्यों में लगाएं। आपकी सफलता से आपके शत्रुओं की संख्या में भी इस समय इजाफा हो सकता है, ध्यान रखें।

तुला

तुला राशि वालों के लिये तीसरे स्थान में गुरु का आना आपके लिये पराक्रम में वृद्धि के संकेत कर रहा है। सप्तम दृष्टि से गुरु आपके भाग्य स्थान को देख रहे हैं जिससे कि भाग्य का साथ मिलने की उम्मीद आप कर सकते हैं। रोमांटिक लाइफ भी काफी अच्छी रहने के आसार हैं। करियर के मामले में भी यह समय आपके लिये सफलता के समाचार लेकर आ सकता है।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि से ही गुरु परिवर्तन होकर धन भाव में स्वराशिगत हो रहे हैं। यह आपके लिये धन वृद्धि के योग बना रहे हैं। अतीत में कोई निवेश किया है तो उसका लाभ आपको इस समय मिल सकता है। विवाहित जातकों का दांपत्य जीवन भी काफी अच्छा रहने के आसार हैं। मेहनत का फल आपको अवश्य मिलेगा। कार्यक्षेत्र में भी लाभ की उम्मीद कर सकते हैं। काम का दबाव आप पर इस समय थोड़ा बढ़ सकता है और हो सकता है सेहत संबंधी समस्याओं को लेकर भी आप थोड़ा चिंतित रहें।

धनु

बृहस्पति आपकी ही राशि में आ रहे हैं। यह आपको मानसिक चिंताओं से राहत दे सकते हैं। धर्म कर्म में भी आपकी रूचि बढ़ सकती है। पिछले कुछ समय से परिजनों के साथ किसी बात को लेकर मनमुटाव चल रहा है तो उसमें भी आपको राहत मिल सकती है। जो अविवाहित जातक विवाह के लिये प्रयासरत हैं उनके लिये भी कोई अच्छा रिश्ता आ सकता है। आपके लिये विवाह के योग बन रहे हैं।

मकर

मकर राशि वालों के लिये 12वें घर में निवेश किये गये धन से लाभ के संकेत कर रहे हैं। धन आयेगा तो सही लेकिन साथ ही उसके व्यय होने की योजनाएं भी अग्रिम रूप से तैयार रह सकती हैं। स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव आपके लिये चिंता का कारण इस समय बन सकता है। जो जातक विदेश में करियर बनाने के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी कोई अच्छा ऑफर इस समय हाथ लग सकता है।

कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये गुरु लाभ घर में होंगे जो कि इस समय के लाभकारी रहने के योग आपके लिये बना रहे हैं। करियर के मामले में भी समय आपके लिये बहुत अच्छा कहा जा सकता है। पढ़ाई लिखाई के मामले में भी लाभकारी समय है। इस समय रोमांटिक लाइफ पर आपको थोड़ा ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी। पार्टनर के लिये समय न निकालपाना आपके सुखी प्रेमजीवन में बाधा बन सकता है। जो जातक नई रिलेशनशिप बनाना चाहते हैं उनके लिये भी समय हो सकता है अपेक्षित परिणाम न लेकर आये।

मीन

मीन राशि वालों के लिये गुरु दसवें स्थान में आ रहे हैं। करियर में उन्नति की उम्मीद इस समय कर सकते हैं। मानसिक तनाव में भी आपको राहत मिल सकती है। आपका कोई कार्य लंबे समय से अटका हुआ है तो उसके इस समय सिरे चढ़ने के पूरे आसार नज़र आ रहे हैं। कुछ नया शुरु करने का विचार बना रहे हैं तो यह समय इसके लिये भी काफी सपोर्टिव माना जा सकता है।

एस्ट्रो लेख

खर मास - क्या क...

भारतीय पंचाग के अनुसार जब सूर्य धनु राशि में संक्रांति करते हैं तो यह समय शुभ नहीं माना जाता इसी कारण जब तक सर्य मकर राशि में संक्रमित नहीं होते तब तक किसी भी प्रकार के शुभ कार्य न...

और पढ़ें ➜

सूर्य ग्रहण 201...

ग्रहण (Grahan)इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं हैं एक और जहां इसका वैज्ञानिक मह...

और पढ़ें ➜

अधिक मास - क्या...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को मानने वाले इस शब...

और पढ़ें ➜

प्रदोष व्रत 2020

इस व्रत को उत्तर भारत में प्रदोष वर्त तथा दक्षिण भारत में प्रदोषम के नाम से जाना जाता है। व्रत में भगवान शिव की स्तुति की जाती है। मान्यताओं कि माने तो शुक्रवार को पड़ने वाला प्रदो...

और पढ़ें ➜