Skip Navigation Links
गुरु परिवर्तन - इन सात राशियों का भाग्य होगा बुलंद! जानें किसे क्या मिलेगा?


गुरु परिवर्तन - इन सात राशियों का भाग्य होगा बुलंद! जानें किसे क्या मिलेगा?

देव गुरु ग्रह बृहस्पति 12 सितंबर को कन्या राशि से परिवर्तित होकर तुला राशि में प्रवेश कर रहे हैं। बृहस्पति के गोचर में होने वाले इस परिवर्तन को ज्योतिषाचार्य बहुत ही अहम मानते हैं। दरअसल बृहस्पति को सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है और उनका प्रभाव भी व्यापक होता है। शनि व राहू-केतु के पश्चात बृहस्पति ही एकमात्र ऐसे ग्रह हैं जिनका राशि परिवर्तन लगभग 13 महीनों के पश्चात होता है। इसलिये भी यह परिवर्तन ज्योतिष में अहम माना जाता है। गुरु गोचर का प्रभाव तो समस्त राशियों पर पड़ता है लेकिन कुछ राशियों के लिये यह नकारात्मक होता है तो कुछ के लिये भाग्य के द्वार खोलने वाला। गुरु गोचर से संबंधित एक लेख में हमने गुरु के पांच राशियों पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव के बारे में बताया था। आइये इस लेख में जानते हैं 7 राशियों की किस्मत गुरु कैसे चमका रहे हैं।

मेष – सेहत, संबंध व भाग्य के लिये रहेगा बेहतर

सातवें स्थान में बृहस्पति का परिवर्तन आपके लिये काफी शुभ फलदायी रहने के आसार हैं विशेषकर सेहत और संबंधों के मामले में आप काफी बेहतर मेहसूस कर सकते हैं। भाग्य का भी आपको भरपूर साथ मिलेगा।

वृषभ – बिमारी से मिलेगी निजात तो प्रतिद्वंदियों को देंगे मात

आपकी राशि से बृहस्पति छठे घर में प्रवेश कर रहे हैं जो कि रोग व शत्रु का घर माना जाता है। यदि पिछले कुछ समय से आप किसी बिमारी या कहें शारीरिक अस्वस्थता के शिकार हैं तो बृहस्पति के प्रभाव से संभव है कि आपको उससे निजात मिले साथ ही अपने विरोधियों, प्रतिद्वंदियों, विपक्षियों को भी इस समय आप अच्छा सबक सिखाने में कामयाब रह सकते हैं।

मिथुन – संतान प्राप्ति के योग व दूर होंगे रोग

राशि परिवर्तन के साथ ही बृहस्पति आपकी राशि से पांचवें स्थान में आ जायेंगें। जो विवाहित जातक संतान प्राप्ति के लिये प्रयासरत हैं उन्हें खुशखबरी मिल सकती है। साथ ही गुरु के प्रभाव से आपकी सेहत भी दुरुस्त रहने के आसार हैं। शिक्षा जगत से जुड़े जातकों का नाम रोशन होने के आसार भी हैं। आप स्वयं को सौभाग्यशाली समझ सकते हैं।

कर्क – बढ़ेंगें सुख के साधन घर में होगा परिवर्तन

बृहस्पति आपकी राशि से चौथे घर में आ रहे हैं जो कि आपका सुख-सुविधाओं का घर है। गुरु के प्रभाव से यह समय आपके सुख साधनों में बढ़ोतरी करने वाला रह सकता है। कोई आरामदायक वाहन भी इस समय खरीद सकते हैं। इस समय आप अपने लिये नया घर भी देख सकते हैं या फिर अपने घर के अंदर ही कुछ बदलाव करने की इच्छा भी आपकी हो सकती है।

कन्या – बढ़ेगा धन खुश रहेंगें परिजन

आपकी राशि से बृहस्पति धन भाव में प्रवेश कर रहे हैं इसका साफ संकेत यही है कि आपको धन लाभ तो होने वाला ही है साथ ही बृहस्पति की कृपा से परिजनो के साथ आपके संबंध भी मधुर रहने वाले हैं। पिछले कुछ समय से यदि किसी बात को लेकर परिवार में मनमुटाव चल रहा है तो अपनों के बीच आई दूरियों को आप आसानी से पाट सकते हैं।

धनु – बेहतर सेहत और पराक्रम में वृद्धि करेंगें बृहस्पति

ग्याहरवें भाव में बृहस्पति का आना आपके लाभ में वृद्धि के संकेत कर रहा है। हालांकि यह लाभ आपको सेहत और पराक्रम के रूप में होगा। कुल मिलाकर यदि सेहत अच्छी है तो आप मेहनत अच्छे से करेंगें और मेहनत अच्छे से कर पाते हैं तो फिर मेहनत का फल भी आपको अच्छे से ही मिलता है। इसलिये गुरु के इस परिवर्तन को आप सौभाग्यशाली मान सकते हैं।

कुंभ – बढ़ेगा मान सुख देगी संतान

आपकी राशि से बृहस्पति भाग्यस्थान में प्रवेश कर रहे हैं। यह आपको भाग्यशाली तो बना ही रहे हैं लेकिन साथ ही आपका रूझान धार्मिक कार्यों की ओर भी होगा। पराक्रम में वृद्धि से आपका मान-सम्मान बढ़ेगा तो साथ ही संतान पक्ष की ओर से भी आपको संतुष्टि प्राप्त होगी। सेहत बेहतर रहेगी। किसी धार्मिक स्थल की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी आप बना सकते हैं। 

ज्योतिषाचार्यों द्वारा किया गया यह आकलन सामान्य अध्ययन पर आधारित है। अपनी कुंडली के अनुसार गुरु आपके लिये क्या योग बना रहे हैं? या इस परिवर्तन से आपको लाभ होगा या हानि यह जानने के लिये हमारी सलाह है कि विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। एस्ट्रोयोगी पर आप देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से बात कर सकते हैं। अभी परामर्श करन के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

गुरु परिवर्तन - सावधान ! इन पांच राशियों पर गिरेगी गुरु की गाज !   |   बृहस्पति राशि परिवर्तन – तुला राशि में प्रवेश करेंगें बृहस्पति, जानें राशिफल

पुखराज के लाभ - कुंडली में कमजोर बृहस्पति को मजबूती देता है पुखराज   |   बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

जगन्नाथ रथयात्रा 2018 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन्दू धर्मग्रन्थ ब्रह्मपुर...

और पढ़ें...
जगन्नाथ पुरी मंदिर - जानें पुरी के जगन्नाथ मंदिर की कहानी

जगन्नाथ पुरी मंदिर...

सप्तपुरियों में पुरी हों या चार धामों में धामसर्वोपरी पुरी धाम में जगन्नाथ का नामजगन्नाथ की पुरी भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उड़िसा प्रांत के प...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...
तुला राशि में बृहस्पति की बदली चाल – जानिए किन राशियों के करियर में आयेगा उछाल

तुला राशि में बृहस...

ज्ञान के कारक और देवताओं के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति की ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बहुत अधिक मान्यता है। गुरु बिगड़ी को बनाने, बनते हुए को बिगाड़ने में समर्थ माने ...

और पढ़ें...