क्यों धारण की जाती है कछुए वाली अंगूठी?, इन चार राशि के लिए बेहद अशुभ

 आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ लोग कछुए की आकृति की अंगूठी धारण किए होते हैं। आमतौर पर लोग इसे फैशन के तौर से देखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि यह क्यों धारण किया जाता है? इससे क्या लाभ प्राप्त होता है। आइए जानते हैं कछुए से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य।

कछुए वाली अंगूठी और ज्योतिषशास्त्र

ज्योतिषशास्त्र व वास्तुशास्त्र के मुताबिक लोग कई तरह के रत्न धारण करते हैं। जिससे भाग्य बेहतर बनता है। इन दिनों कछुए की अंगूठी का चलन जोरों पर है। मूलरूप से यह एक फेंगशुई वस्तु है। जापानी मान्यता के अनुसार यह समृद्धि का प्रतीक है। दरअसल हिंदू धर्म शास्त्रों में कछुआ सकारात्मकता और उन्नति का प्रतीक माना गया है।

कछुए वाली अंगूठी की धार्मिक मान्यता

कहते है की कछुए की अंगूठी पहनते वक़्त यह ध्यान रखना चाहिए के कछुए का मुँह पहनने वाले की तरफ हो, जिससे की धन उसकी ओर आये। माना जाता है कि कछुआ माँ लक्ष्मी को बहुत ही प्रिय है। समुद्र मंथन के वक़्त धन रूपी लक्ष्मी प्रकट हुई थी, इसलिए कछुआ उन्हें पसंद है और तो और यह भी कहते है कि कछुआ भगवान विष्णु का रूप है। एक और बात ध्यान में रखनी चाहिए कि जब भी कछुए की अंगूठी धारण करें तो इंडेक्स फिंगर में यानि की दाहिने हाथ की तर्जनी उंगली में ही पहनें। कछुआ निरंतरता, धैर्य, और शांति का प्रतिक माना जाता है। जो भी कछुए की अंगूठी पहनता है उसके जीवन में शांति, धैर्य, और निरंतरता आती है। कछुए की अंगूठी पहनने से आत्मविश्वास, स्वास्थ्य और व्यापार में लाभ होता है। चूंकि कछुए को स्वर्ग व धरती से जुड़ा माना जाता है इसलिए इसे पहनने से आस-पास का महौल खुशनुमा बनता है। ये परिवार के सदस्यों में त्याग और प्रेम की भावना बढ़ाता है, जिससे उनमें भतभेद नहीं होते हैं तथा परिवार में सदैव एकता बनी रहती है।

शुक्रवार के दिन ही पहने कछुए वाली अंगूठी

शुक्रवार के दिन ही इस अंगूठी को खरीदें और घर लाकर लक्ष्मी जी की तस्वीर या मूर्ति के सामने कुछ देर रख दें। फिर इसे दूध और पानी के मिश्रण से धोएं या अंगूठी को गंगाजल से अभिषिक्त कर लें और अंत में अगरबत्ती कर धारण कर लें। इसके अलावा इस अंगूठी को पहनने से पूर्व लक्ष्मी मंत्र का 108 बार जाप करें। यदि संभव हो धारण करने के क्रम में भी लक्ष्मी के मंत्र का जाप करते रहें।

कछुए वाली अंगूठी इन राशि के जातकों को नहीं धारण करनी चाहिए

इन चार राशियों के बारे में बात करें तो इन्हें कछुए की अंगूठी बिल्कुल ही धारण नहीं करनी चाहिए। मेष, कन्या, वृश्चिक और मीन राशि के लोगों को भूलकर भी कछुए की अंगूठी नहीं पहननी चाहिए। इन राशियों के लोगों द्वारा कछुए की अंगूठी धारण करने से इसका विपरीत प्रभाव पड़ता है और इनके व्यापार और कामकाज में इन्हें नुकसान होता है। इनके जीवन में दुख -दर्द बढ़ जाता है। परिवार में क्लेश का वातावरण बनता है और धन- दौलत में कमी आने लगती है। इसलिए इन राशियों के जातक भूलकर भी कछुए की अंगूठी न धारण करें। नहीं हो रहा धन लाभ, आमदनी से ज्यादा हो रहें हैं खर्चें, तो परामर्श करें देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से।  

संबंधित लेख 

भवन में क्यों रखा जाता है कछुआ, क्या हैं इसके लाभ? । जूतों से जुड़ा है आप का भाग्य, करें न इसे नजरअंदाज

एस्ट्रो लेख

राम रक्षा स्तोत...

श्री राम रक्षा स्तोत्र बुध कौशिक ऋषि द्वारा रचित श्री राम का स्तुति गान है। इसमें उन्होंने अनेक नामों से प्रभु श्री राम के नाम का गुणगान किया है। मान्यता है कि श्री राम रक्षा स्तोत...

और पढ़ें ➜

रामनवमी - भगवान...

विज्ञान और इतिहास के नजरिये से देखा जाये तो रामायण और महाभारत दो महाकाव्य हैं और भगवान राम और भगवान श्री कृष्ण इन महाकाव्यों के नायक। लेकिन धर्म, आस्था और विश्वास के नजरिये से देखे...

और पढ़ें ➜

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜