Skip Navigation Links
केजरीवाल जी को मंगल का है पूरा साथ किन्तु कालसर्प दोष है एक परेशानी


केजरीवाल जी को मंगल का है पूरा साथ किन्तु कालसर्प दोष है एक परेशानी

एक दौर में यह बोला जाता था कि राजनीति करना किसी आम व्यक्ति की बात नहीं है। किन्तु एक आम व्यक्ति ने ‘आम आदमी पार्टी’ बनाकर इस विचारधारा को गलत साबित कर दिया है। भला साल दो साल पहले अरविन्द केजरीवाल को कौन जानता था और आज वही अरविन्द देश के साथ-साथ विश्व में अपनी पहचान बना चुका है। अरविंद केजरीवाल एक भारतीय राजनीतिज्ञ और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।


आगामी 16 अगस्त को अरविंद केजरीवाल अपना 47 वां जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। पिछले कुछ साल इनके लिए संघर्षपूर्ण भी रहे हैं और अंत में इनको जीत भी प्राप्त हुई है। बस कभी-कभी स्वास्थ्य और  अदालती कार्यवाही से इनको परेशानियों का सामना करना पड़ा है।अरविंद केजरीवाल के जन्मदिन के मौके पर, आइये एक नजर डालते हैं कि इनका आने वाला समय इनके लिए कैसा रहेगा-


नाम- अरविंद केजरीवाल

जन्म तिथि- 16 अगस्त 1968

जन्म स्थान- हिसार (हरियाणा)

जन्म समय- 23:46:00 


लग्न- वृष, चन्द्र राशि- वृष, महादशा- ब्रहस्पति, अंतर दशा- सूर्य, प्रत्यांतर- शनि, नक्षत्र- कृतिका चौथा चरण।


वृष लग्न वाले लोग मेहनती, कर्मशील, कर्मठ व सबका साथ देने वाले होते हैं। कुंडली में तीसरे घर के अन्दर मंगल एक योगकारी कर्क माना जाता है। कार्य के घर पर मंगल की दृष्टि पड़ रही है और यह अरविन्द केजरीवाल के लिए अच्छा योग है। कार्य के घर पर अगर मंगल की दृष्टि होती है तो पैसा, मान-सम्मान में जातक को फायदा प्राप्त होता है।


वृष लग्न में ब्रहस्पति के परिणाम की बात करें तो जातक को सफलता तो प्राप्त होती है किन्तु समय-समय पर ब्रहस्पति जातक को परेशान करता रहता है। अरविन्द केजरीवाल जी की कुंडली में वृष लग्न होने के कारण इन्हें मेहनत का फल तो प्राप्त हो रहा है लेकिन महादशा का साथ न होने के कारण तकलीफों का सामना भी करना पड़ रहा है। अभी इनकी महादशा ब्रहस्पति की व अंतरदशा सूर्य की व प्रत्यांतर में शनि देव चल रहे हैं। सूर्य और शनि का भी मेल नहीं बनता है इस कारण से भी कार्य के क्षेत्र में उतार-चढ़ाव बना रह सकता है।


राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री जी की कुंडली में एक बड़ा दोष, ‘कालसर्प दोष’ का होना है। यह दोष समय-समय पर अपना प्रभाव दिखाता है। इस दोष के कारण ऐसा नहीं है कि व्यक्ति को सफलता प्राप्त नहीं होती है किन्तु मान-सम्मान, जन सहयोग सबकुछ मिलने के बाद भी आदमी कब सबकी नज़रों में गिर जाये, इसका पता नहीं होता है।


मान-सम्मान की दृष्टि से सूर्य-बुध दोनों ही ग्रह अच्छी स्थिति में हैं, संघर्ष के बावजूद इनको यह ग्रह मुश्किलों से बचाने का कार्य कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।


एस्ट्रोयोगी ज्योतिष के अनुसार अरविन्द केजरीवाल बस विरोधियों से खुद का बचाव करते रहें और अपने भी समय-समय पर इनको धोखा देने का कार्य कर सकते हैं। शत्रु घर का स्वामी शुक्र होता है और अभी इनकी कुंडली में शुक्र, सूर्य के साथ आ गया है और इस कारण से शुक्र अस्त हो चुका है। अरविन्द जी को कोई भी ऐसा कार्य नहीं  करना चाहिए, जिससे विरोधियों को हावी होने का मौका प्राप्त हो।


एस्ट्रोयोगी मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को इनके जन्मदिवस की बधाई देता है और उम्मीद करता है कि आगामी समय इनके लिए अच्छा रहेगा।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कुम्भ मेला 2019 - जानें कुम्भ की कहानी

कुम्भ मेला 2019 - ...

कुंभ मेला भारत में लगने वाला एक ऐसा मेला है जिसका आध्यात्मिक व ज्योतिषीय महत्व तो है ही इसके साथ-साथ यह सामाजिक-सांस्कृतिक और वर्तमान में आर्थिक-राजनैतिक रूप से भी म...

और पढ़ें...
कुम्भ मेले का ज्योतिषीय महत्व

कुम्भ मेले का ज्यो...

भारत में कुम्भ मेले का सामाजिक-सांस्कृतिक, पौराणिक व आध्यात्मिक महत्व तो है ही साथ ही ज्योतिष के नज़रिये से भी यह मेला बहुत अहमियत रखता है। दरअसल इस मेले का निर्धारण...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2018 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जाते हैं। यदि आप इन पापकर्...

और पढ़ें...
गीता जयंती 2018 - कब मनाई जाती है गीता जयंती?

गीता जयंती 2018 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2018 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2018 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-...

और पढ़ें...