Skip Navigation Links
लक्ष्मी पंचमी - जानें श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत की कथा व पूजा विधि


लक्ष्मी पंचमी - जानें श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत की कथा व पूजा विधि

लक्ष्मी जिन्हें धन, वैभव, सुख-समृद्धि प्रदान करने वाली देवी माना जाता है। जो विष्णुप्रिया हैं। मान्यता है कि चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है व इन्हें प्रसन्न करने के लिये इस दिन पूजा के साथ-साथ दिन भर उपवास भी रखा जाता है। इसी कारण इस पंचमी को लक्ष्मी पंचमी व श्री पंचमी कहा जाता है। हालांकि श्री पंचमी मां सरस्वती की उपासना के दिन बसंत पंचमी को भी कहा जाता है लेकिन मां लक्ष्मी का भी एक नाम श्री माना जाता है इस कारण लक्ष्मी पंचमी को श्री पंचमी भी कहा जाता है। घर में सुख-समृद्धि व धन प्राप्ति की कामना के लिये मां लक्ष्मी की उपासना का यह पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण है। आइये जानते हैं लक्ष्मी पंचमी की व्रत कथा व व्रत पूजा विधि के बारे में।


लक्ष्मी पंचमी व्रत कथा

पौराणिक ग्रंथों में जो कथा मिलती है उसके अनुसार मां लक्ष्मी एक बार देवताओं से रूठ गई और क्षीर सागर में जा मिली। मां लक्ष्मी के चले जाने से देवता मां लक्ष्मी यानि श्री विहीन हो गये। तब देवराज इंद्र ने मां लक्ष्मी को पुन: प्रसन्न करने के लिये कठोर तपस्या कि व विशेष विधि विधान से उपवास रखा। उनका अनुसरण करते हुए अन्य देवताओं ने भी मां लक्ष्मी का उपवास रखा, देवताओं की तरह असुरों ने भी मां लक्ष्मी की उपासना की। अपने भक्तों की पुकार मां ने सुनी और वे व्रत समाप्ति के पश्चात पुन: उत्पन्न हुई जिसके पश्चात भगवान श्री विष्णु से उनका विवाह हुआ और देवता फिर से श्री की कृपा पाकर धन्य हुए।

मान्यता है कि यह तिथि चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि थी। यही कारण था कि इस तिथि को लक्ष्मी पंचमी के व्रत के रूप में मनाया जाने लगा।


श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत व पूजा विधि

लक्ष्मी पंचमी का व्रत विशेष विधि से किया जाता है। मान्यता है कि चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को स्नानादि के पश्चात स्वच्छ वस्त्र पहनने चाहिये। तत्पश्चात रात्रि में दही व भात भोजन के तौर पर ग्रहण करने चाहिये। इसके पश्चात श्री पंचमी के दिन प्रात:काल उठकर स्नान करना चाहिये व सोने, तांबे या फिर चांदी से मां लक्ष्मी जी की कमल के फूल सहित पूजा करनी चाहिये। पूजा सामग्री में अनाज, हल्दी, गुड़, अदरक आदि मां को अर्पित करने चाहिये। सामर्थ्यनुसार कमल के फूल, घी, बेल के टुकड़े इत्यादि से हवन भी करवाया जाना चाहिये। यदि प्रतिमास मां लक्ष्मी का व्रत रखते हैं तो विधिनुसार व्रत का उद्यापन भी करना चाहिये।

मान्यता है कि दीपावली के पश्चात चैत्र शुक्ल पंचमी को मां लक्ष्मी की पूजा करने से व्रती व उसके परिवार पर मां की कृपा बनी रहती है। जो भी विधि-विधान से मां की पूजा अर्चना कर उनके लिये उपवास रखता है पौराणिक मान्यताओं के अनुसार वह अपने 21 कुलों के साथ मां लक्ष्मी के लोक में जगह पाता है। जो स्त्रियां इस व्रत को रखती हैं वह सौभाग्यवती होती हैं। उनकी संतान भी रूप, गुण व धन से संपन्न होती हैं।

वहीं चैत्र शुक्ल पंचमी की तिथि सात कल्पादि तिथियों में से भी एक मानी जाती है जिस कारण यह दिन और भी सौभाग्यशाली होता है। नवरात्रि का पांचवा दिन होने से भी यह मां की पूजा का ही दिन होता है। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष से ही हिंदू नव वर्ष का आरंभ होता है इस प्रकार नव वर्ष के आरंभ में ही मां लक्ष्मी की पूजा करने से पूरे वर्ष मां लक्ष्मी मेहरबान रहती हैं। अंग्रेजी कलैंडर के अनुसार भी यह तिथि वित्तीय वर्ष के आगमन के आस-पास ही होती है इस लिहाज से धनदात्री देवी मां लक्ष्मी की उपासना अवश्य करनी चाहिये।


2018 में कब है श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत

अंग्रेजी कलैंडर के अनुसार वर्ष 2018 में श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत 21 मार्च को है। इस दिन मां की पूजा करने व व्रत रखने से व्रती को मनोवांछित फल मिलता है। जीवन में धन की दिक्कत, नौकरी अथवा व्यवसाय में नाकामी हाथ लगती है तो मां लक्ष्मी की विशेष मंत्रोंच्चारण के साथ उपासना करें।

मां लक्ष्मी कैसे रहेंगी प्रसन्न एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लें।

यह भी पढ़ें

लक्ष्मी पूजन   |   आरती श्री लक्ष्मी जी   |   श्री लक्ष्मी चालीसा   |   लक्ष्मी मंत्र




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...