Astroyogi Life Ka GPS - A Real Story

Astroyogi Life Ka GPS - A Real Story


मैं उन दिनों को याद नहीं करना चाहती लेकिन मैं यह भी समझती हूं कि ऐसा सिर्फ मेरे साथ नहीं हो रहा। मुझ जैसे और भी बहुत हैं जो मेरी तरह लाइफ में अक्सर ऐसे चौराहे पर खड़े हो जाते हैं कि कोई रास्ता ही नहीं सूझता। ऐसा लगने लगता है मानो हर रास्ता बंद हो, या जिधर से भी मैं गुजरूंगी, उधर ही कोई न कोई मुसीबत मेरा इंतजार कर रही होगी। इसलिये मैं चाहती हूं मुश्किल हालातों का सामना करने वाले और अपनी ठीक-ठाक चल रही लाइफ को और बेहतर बनाने वाले भी मेरी कहानी को जानें कि आखिर एस्ट्रोयोगी ने मुझे मुश्किल हालातों से कैसे निकाला, कैसे मुझे बेहतरीन एस्ट्रोलॉजर्स ने गाइड किया।


आपबीती

मैं नीता, दिल्ली में पली बढ़ी हूं। ग्रेटर नोएडा स्थित एक मल्टी नेशनल कंपनी में जॉब कर रही हूं। हाल ही में मेरी लाइफ में एक नया मोड़ आया है। बड़ी मुश्किलों से गुजरने के बाद मुझे अपनी पसंद का लाइफ पार्टनर मिला। लेकिन जितनी खुशहाल मैं अपनी लाइफ में अब हूं, पहले इतनी खुशनसीब नहीं थी। घर वाले पूरे जोर शोर से मेरे लिये लड़का देख रहे थे लेकिन कहीं बात नहीं बन रही थी। कभी लड़का लायक नहीं लगता तो कभी लड़के वाले रिजक्ट करके चले जाते। समय के साथ-साथ टेंशन भी बढ़ रही थी। घर वालों ने मेरी पढ़ाई लिखाई में किसी तरह की कसर नहीं छोड़ी थी। मेरी पढ़ाई पर ही लाखों खर्च हुए थे। उस पर कैंपस प्लेसमैंट न होने से उन्हें निराशा हाथ लगी। इसके बाद तो जैसे सक्सेस मुझसे डरने लगी थी। हर कंपीटिटिव एक्जाम में 2, 4 नंबर से पिछड़ रही थी। ना रिश्ता पक्का हो रहा था और न ही करियर को कोई दिशा मिल पा रही थी। हालांकि मैं अपनी ओर से पूरी मेहनत करती थी लेकिन हर बार लगता कि मेरी तो किस्मत ही खराब है।

एक दिन ऐसे ही नेट पर कुछ सर्च कर रही थी कि मुझे एस्ट्रोयोगी का एड बैनर दिखाई दिया। उस समय एस्ट्रोयोगी का ऑफर चल रहा था कि रजिस्ट्रेशन करने पर 100 रुपये तक पंडित जी से फ्री में बात करें। मुझे लगा चलो इसमें मेरा कुछ जा नहीं रहा है, एक बार आजमा कर देख लेते हैं। मैनें उस पर क्लिक कर रजिस्टर कर लिया। जैसे ही मैंने कॉल करने के लिये बटन दबाया तो कुछ ही सैकेंड में मेरे पास कॉल आ गई। पंडित जी की वाणी में एक आकर्षण था। उन्होंने मुझसे मेरा नाम, डेट ऑफ बर्थ, बर्थ प्लेस और बर्थ टाइम पूछा। सच में कुछ ही देर में उन्होंने मेरी पूरी कुंडली खोल कर रख दी। जो कुछ उन्होंने मुझे बताया उससे मेरी हैरानी का कोई ठिकाना नहीं था। 100 रुपये में बात पूरी नहीं हो पाई थी। रिचार्ज करने को लेकर मैं दुविधा में थी करुं या न करुं लेकिन मुझे रह रहकर पंडित जी की बातें ही याद आ रही थी। मैंने एस्ट्रोयोगी के रिव्यू पढ़े जिसके बाद मुझे थोड़ी और तसल्ली मिली। इसके बाद मैनें अपने फोन में एस्ट्रोयोगी की मोबाइल ऐप भी इंस्टाल की। एस्ट्रोयोगी अकाउंट में पैसे डाले और फिर से पंडित जी से बात की। उसके बाद उन्होंने डिटेल में मेरी लाइफ के बारे में बताया। यह भी बताया कि ऐसा मेरे साथ क्यों हो रहा है और कब तक ऐसा चलने के आसार हैं। उन्होंने कुछ सरल सी चीज़ें भी बताई जिन्हें मैं अपने डेली रूटीन के साथ कर सकती थी। जो समय उन्होंने बताया था जैसा उन्होंने बताया था। ठीक उसी समय के आस-पास वे चीज़ें हुई भी।


ऐसे बढ़ा एस्ट्रोयोगी पर मेरा भरोसा

पंडित जी की कही बातों का सच होना एस्ट्रोयोगी पर मेरा भरोसा बढ़ने की पहली और मेन वजह है। लेकिन कुछ और चीज़ें भी हैं जिससे मेरा यकीन और मजबूत होता है। मसलन मैं अपनी बात दिल खोलकर रख पाती हूं, मुझे बातचीत की प्राइवेसी को लेकर किसी तरह का डर नहीं है। मेरी इन्फोर्मेशन पूरी तरह सुरक्षित हैं। एस्ट्रोलॉजर्स के कई ऑप्शन मौजूद हैं। जिस तरह की दिक्कत हो उससे रिलेटिड स्पेशलिस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से बात कर सकते हैं। यहां मौजूद हर एस्ट्रोलॉजर्स सर्टिफाइड है। हालांकि एस्ट्रोयोगी असंतुष्ट होने पर मनी बैक गारंटी भी देती है लेकिन मुझे आज तक इसकी जरुरत नहीं पड़ी है। मैं एस्ट्रोयोगी की सर्विसिज़ से बहुत खुश हूं। एस्ट्रोयोगी ने एक GPS की तरह मुझे मेरी मंजिल का सही रास्ता चुनने में मदद की है। आज मेरी लाइफ में एस्ट्रोयोगी की बदौलत सब कुछ अच्छे से चल रहा है। मैं खुद को बहुत लकी समझती हूं कि एस्ट्रोयोगी से मैं जुड़ी।

आप भी एस्ट्रोयोगी को अपनी लाइफ का GPS बनाकर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस पा सकते हैं। 

एस्ट्रो लेख