कौनसी बातें बनाती है लव या अरेंज मैरिज को सफल

bell icon Thu, May 19, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Love Marriage vs Arrange Marriage: लव या अरेंज मैरिज, कौन सा विवाह है सफलता के मामले में बेहतर?

विवाह का हमारे जीवन में विशेष महत्व है और आजकल लोगों को लव मैरिज ज्यादा आकर्षित करती है, ऐसे में लव या अरेंज के अपने फायदे या नुकसान होते है। अगर ये सवाल आपके मन में भी आता है कि कौन सी शादी करना होगा आपके लिए अच्छा? जानने के लिए पढ़ें ये लेख। 

विवाह हर इंसान के जीवन का महत्वपूर्ण पड़ाव होता है जो एक आजीवन वचनबद्धता है। शादी के अंतर्गत आप एक व्यक्ति के साथ विवाह के पवित्र बंधन में बंधते हैं और अपने जीवनसाथी के साथ हर सुख-दुःख, ख़ुशी-गम को साझा करने की कसमें खाते है। आप जीवन के बड़ी से बड़ी समस्या का सामना करने के लिए एक-दूसरे के साथ दृढंता से खड़े रहते है। शादी या विवाह सिर्फ दो लोगों को एक रिश्ते में नहीं बांधता है बल्कि दो परिवारों को भी एक सूत्र में जोड़ता है। जब आप शादी के बारे में विचार करते है तो ये बात आपके मन में भी आती हैं कि लव मैरिज करनी चाहिए या अरेंज मैरिज?

क्या होती है अरेंज मैरिज या लव मैरिज? 

सामाजिक नीति-नियमों के अनुसार, विवाह के दो प्रकार माने गए हैं- पहला, लव मैरिज (Love Marriage) और दूसरा अरेंज मैरिज (Arrange Marriage)। अरेंज मैरिज में, आप या आपके माता-पिता द्वारा विभिन्न बातों एवं चीजों का विश्लेषण किया जाता हैं और तब आपके लिए एक उपयुक्त जीवनसाथी का चयन करते हैं जो आपके और आपके परिवार की प्राथमिकताओं और अपेक्षाओं को पूरा करने में सक्षम हो। सामान्यरूप से, हिन्दू परिवारों में विवाह का यह स्वरूप काफ़ी सामान्य है। विवाह की सफलता के बारे में जानने के लिए कुंडली मिलान के द्वारा दोनों व्यक्तियों की संगतता की जांच की जाती है।

लव मैरिज यानी प्रेम विवाह (Prem Vivah) के अंतर्गत आप उस व्यक्ति के साथ विवाह करते हैं जिससे आप प्रेम करते हैं और उसके साथ अपनी ज़िन्दगी बिताना चाहते हैं। लव मैरिज में आप शादी से पूर्व अपने लिए उपयुक्त जीवनसाथी का चयन करतें हैं और फिर वैवाहिक जीवन के लिए आगे बढ़तें हैं। 

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि विवाह की सफलता किसी के लिए भी चिंता का विषय है। यही कारण हैं कि लव मैरिज और अरेंज मैरिज पर लगातार तर्क-वितर्क चलता रहता है। यहां हम आपको कुछ ऐसे विवादित दृष्टिकोण के बारे में बताएंगे जो आपको अरेंज मैरिज या लव मैरिज  के पहलुओं को जानने एवं समझने में सहायक साबित होगा।

कुंडली मिलान के लिए अभी क्लिक करें 

कैसा विवाह होगा मेरे लिए अच्छा, लव या अरेंज?

क्या आपके मन में भी सवाल हैं कि आपके लिए लव मैरिज या अरेंज मैरिज (Love Marriage vs Arrange Marriage) कौनसी रहेगी बेहतर? जानने के लिए नीचे दी गई बातों को समझें और उन्हें सुनने के बाद निर्णय करें।

भावी जीवनसाथी के साथ आपसी समझ

  1. जो दो लोग अपनी पूरी ज़िन्दगी एक साथ बिताने वाले हैं उनके बीच आपसी समझ का होना बेहद जरूरी है। अगर आपकी अपने पार्टनर के साथी आपसी समझ अच्छी नहीं है, तो आप दोनों के लिए विवाह को बनाए रखना और लंबे अर्से तक अपने रिश्ते को निभाना काफ़ी मुश्किल होता है। 
  2. इसके विपरीत, प्रेम विवाह में आप अपने साथी को पहले से अच्छी तरह से जानते हैं, अतः इस बात की प्रबल संभावनाएं होती है कि आप शादी के बाद भी अपने जीवनसाथी के साथ बेहतर आपसी समझ बनाने में सफल हो सकते हैं। 
  3. अरेंज मैरिज में आप दोनों को एक-दूसरे व्यक्ति के बारे में बहुत कम जानकारी होती हैं, अतः आपको अपने जीवनसाथी को समझने में लंबा समय लग सकता है। वर्तमान समय में अरेंज मैरिज में भी लोग विवाह से पहले अपने पार्टनर के बारे में जानने और बेहतर प्रेम संबंधों की नींव स्थापित करने के लिए पूरा समय लेते हैं।

प्रेम संगतता है जरूरी

  • अरेंज मैरिज अधिकतर पारिवारिक पृष्ठभूमि या फैमिली बैकग्राउंड, व्यक्ति की शैक्षिक योग्यता, सामाजिक-आर्थिक स्थिति, समान पारिवारिक मूल्यों और धर्म को देखकर सुनिश्चित की जाती  है। 
  • किसी व्यक्ति के लिए सही मिलान का चुनाव करते समय भावनात्मक और शारीरिक संगतता को अधिकतर अनदेखा कर दिया जाता है। अतः पति-पत्नी के रिश्ते में आपसी प्रेम बहुत कम होता है और कम प्रेम संगतता की वजह से लोग शादी में समस्याओं का सामना करते हैं। 
  • इसके विपरीत, प्रेम विवाह का आधार ही प्रेम है। अतः, इस बात की प्रबल संभावनाएं होती हैं कि विवाह के बाद भी दोनों के बीच आपसी प्यार और भावनात्मकता बनी रहेगी, जैसा कि आपकी शादी से पहले थी।

शादी का अभिन्न अंग, जिम्मेदारी

  • जब किसी भी कपल के बीच लव मैरिज या अरेंज मैरिज की तुलना करने की बात आती है, तो शादी का फैसले लेने की जिम्मेदारी लव मैरिज में अधिक होती है। प्रेम विवाह के अंतर्गत, अगर आप किसी से शादी करने का फैसला करते है, तो ये निर्णय आपका होता है, इसलिए तर्क-वितर्क, बदलाव और असफलता जैसे परिणामों की जिम्मेदारी भी आपकी होती है। 
  • प्रेम विवाह में पति या पत्नी रिश्ते की नाकामी का दोष किसी को नहीं दे सकते हैं। ठीक इसके विपरीत अरेंज मैरिज में, वैवाहिक जीवन में समस्या आने पर दोनों का परिवार हस्तक्षेप कर सकता हैं और आपके रिश्ते से सम्बंधित आवश्यक निर्णय ले सकता हैं जिससे आपसी मतभेदों का समाधान किया जा सकें।

लव मैरिज या अरेंज मैरिज, कौन सा विवाह होगा मेरे लिए फलदायी? जानने के लिए अभी परामर्श करें वैदिक ज्योतिषियों से। 

सामाजिक महत्व का भी है अपना स्थान

  • हमारे देश आधुनिक रूप से विकसित होने के बावजूद भी, मुख्य रूप से भारतीय समाज में अभी भी प्रेम विवाह प्रतिबंधित है। यहाँ आज भी ऐसे कई परिवार हैं जिनके लिए विवाह मान-सम्मान का विषय हैं और सामाजिक प्रतिष्ठा पर आंच न आये इस वजह से प्रेम विवाह को स्वीकृति नहीं देते हैं।  
  • यही वजह है कि आज भी अधिकांश जोड़े अपने माता-पिता की इच्छा के खिलाफ जाकर शादी करते हैं और अपने परिवार से अलग रहने लगते हैं। 
  • इसके विपरीत, अरेंज मैरिज को समाज में बहुत गरिमामयी माना गया है जिसमें माता-पिता और परिवार के सभी बड़ों की स्वीकृति एवं आशीर्वाद शामिल होता है। अरेंज मैरिज में पारिवारिक दबाव की वजह से भी आपसी विवाद उत्पन्न नहीं होते है और यही कारण है कि आज भी लव मैरिज की तुलना में अरेंज मैरिज अधिक सफल होती है।

कैसा होता है विवाह के बाद का जीवन

  • लव मैरिज में लड़का और लड़की अपने दिल की बात को मानते हुए विवाह के पवित्र बंधन में बंध जाते हैं। वे लोग शादी के बाद की स्थितियों के बारे में व्यावहारिक रूप से सोच-विचार नहीं करते हैं। जीवन के प्रमुख क्षेत्रों जैसे आर्थिक, वित्तीय, पारिवारिक जिम्मेदारियों आदि के बारे में भूल जाते हैं। 
  • इसके परिणामस्वरूप, उन्हें अपने वैवाहिक जीवन में परेशानियों और समस्याओं से जूझना पड़ता है जो उनके दुःख और मानसिक तनाव का कारण बनते हैं। वही, अरेंज मैरिज में विवाहित दंपति को पारिवारिक सदस्यों के आशीर्वाद के रूप में संपूर्ण सुरक्षा प्राप्त होती है जो उनके विवाह को सफलता के मार्ग पर ले जाती है।

लेखक की दृष्टि से: अगर हम लव मैरिज या अरेंज मैरिज की तुलना करें, तो दोनों के ही अपने फायदे और नुकसान हैं। इन दोनों प्रकार की शादियों में पार्टनर के बीच प्रतिबद्धता और आपसी समझ का होना अत्यंत आवश्यक होता है। इस प्रकार,यह पूरी तरह से आपके ऊपर है कि आप अपने वैवाहिक जीवन को सुखी, आरामदायक और खुशहाल कैसे बना सकते हैं। इसके अतिरिक्त, चाहे शादी लव हो या अरेंज दोनों में ही प्यार को बरकरार रखना बेहद आवश्यक है। दोनों ही विवाह में अपने जीवनसाथी की कमी को जानकर आप अपने रिश्ते को बेहतर बना सकते हैं।

✍️ By- टीम एस्ट्रोयोगी

chat Support Chat now for Support
chat Support Support