Skip Navigation Links
अंक ज्योतिष से जानें गाड़ी का कौनसा रंग रहेगा शुभ


अंक ज्योतिष से जानें गाड़ी का कौनसा रंग रहेगा शुभ

अक्सर जब भी हमें वाहन खरीदना होता है तो हम प्रचलित रंगों को ही प्राथमिकता देते हैं। हो सकता है जो रंग आपने खरीदा हो वह दिखने में तो सुंदर लगे लेकिन आपको उसमें कोई सकारात्मक अहसास न हो या फिर जल्द ही आपका इससे मन उबने लगे। कोई न कोई परेशानी आपको आने लगे। इसका एक कारण वाहन का रंग आपकी राशि आपके, मूलांक या भाग्यांक के अनुसार न होना हो सकता है। कोई भी वाहन खरीदते समय जिस तरह आप उक्त वाहन की अन्य चीज़ों मसलन वाहन की विशेषताएं, वाहन की कीमत, उपयोगिता, ईंधन की खपत आदि का ध्यान देते हैं उसी तरह वाहन का रंग भी मायने रखता है। क्योंकि रंगों से ग्रहों के शुभाशुभ प्रभाव पड़ते हैं। यदि आपने किसी नकारात्मक ग्रह के रंग का वाहन ले लिया तो हो सकता है कुछ समय पश्चात आपको इसमें हानि होने लगे। अपने इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि अंक ज्योतिष मूलांक व भाग्यांक के अनुसार आपको किस रंग का वाहन खरीदने के लिये संकेत करता है।

मूलांक और भाग्यांक

सबसे पहले तो मूलांक और भाग्यांक को जान लें। इसका आकलन आपकी जन्मतिथि के अनुसार किया जाता है। माह की जिस तिथि 01, 02 , 11, 12 आदि को आपका जन्म होता है उस तिथि में प्रयुक्त अंकों का योग आपका मूलांक होता है। यानि 01, 10, 19 या 28 तारीख वालों का मूलांक 1 होगा। इसी प्रकार तिथि/माह/वर्ष के अंकों योग जैसे 01/01/1991 का मूलांक 0+1 = 1, तो भाग्यांक 0+1+0+1+1+9+9+1=22,  2+2=4  होगा।

किस मूलांक और भाग्यांक के लिये कौनसे रंग का वाहन है शुभ

यदि आपका मूलांक या भाग्यांक 1 है 1 अंक के स्वामी सूर्य हैं। आपको पीले, सुनहरे या क्रीम रंग का वाहन खरीदना चाहिये। नीले, भूरे, बैंगनी या काले रंग का वाहन न ही खरीदें तो बेहतर रहेगा।

मूलांक या भाग्यांक 2 वाले जातकों को लाल या गुलाबी रंग का वाहन खरीदने की बजाय सफेद अथवा हल्के हरे रंग का वाहन रखना चाहिये। 2 अंक के स्वामी चंद्रमा हैं।

जिन जातकों का मूलांक या भाग्यांक 3 है उनके वाहन का रंग पीला, बैंगनी, नीला या गुलाबी हो सकता है लेकिन हल्के हरे, सफेद या भूरे रंग का वाहन खरीदने से इन्हें बचना चाहिये। 3 अंक के स्वामी गुरू ग्रह बृहस्पति है।

मूलांक या भाग्यांक 4 वाले जातकों को अपने वाहन का रंग नीला या भूरा हो सकता है। गुलाबी या काले रंग का वाहन आपके लिये शुभ नहीं कहा जा सकता। 4 अंक राहू का अंक माना जाता है।

5 अंक वाले जातकों के लिये पीले, गुलाबी या काले रंग के वाहन आपके लिये अशुभ हो सकते हैं। आपको हल्के हरे, सफेद या भूरे रंग का वाहन रखना चाहिये। 5 अंक के स्वामी बुध माने जाते हैं।

जो जातक 6, 15 या 24 तारीख को जन्में हैं यानि जिनका मूलांक या भाग्यांक 6 बनता है आपके लिये हल्के नीले, गुलाबी या पीले रंग के वाहन शुभ रहेंगें। काले रंग का वाहन बिल्कुल भी न खरीदें। 6 अंक का प्रतिनिधित्व शुक्र करते हैं।

यदि आपका मूलांक या भाग्यांक 7 बनता है तो आपके लिये वाहन का रंग यदि नीला या सफेद है तो यह आपके लिये शुभ है। 7 अंक के स्वामी छाया ग्रह केतु माने जाते हैं।

मूलांक या भाग्यांक 8 वाले जातक काले, नीले, भूले व बैंगनी रंगों के वाहन खरीद सकते हैं। 8 अंक न्याय के देवता शनिदेव का अंक माना जाता है।

जिन जातकों का मूलांक या भाग्यांक 9 है वे जातक लाल या गुलाबी रंग का वाहन खरीदें, यह आपके लिये शुभ कहा जा सकता है। 9 अंक युद्ध के कारक मंगल का अंक माना जाता है।

आपकी कुंडली में घर व गाड़ी खरीदने के योग कब बनेंगें जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मोक्षदा एकादशी 2018 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जाते हैं। यदि आप इन पापकर्...

और पढ़ें...
गीता जयंती 2018 - कब मनाई जाती है गीता जयंती?

गीता जयंती 2018 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2018 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2018 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्...

और पढ़ें...
उत्पन्ना एकादशी 2018 - जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

उत्पन्ना एकादशी 20...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा...

और पढ़ें...