जानें स्त्री की हथेली में मौजूद पांच शुभ चिन्ह जो हैं अत्यंत शुभ!

हस्त शास्त्र एक ऐसी विधा है जिसके अंतर्गत जातक की हथेली पर बने रेखाओं को देखकर उसके भविष्य के बारे में बताया जाता है। इस विधा का उपयोग प्राचीन काल से ही किया जा रहा है। हस्त शास्त्र में महारत रखने वाले बताते है कि हथेली पर ऐसे कई चिंह होते हैं जिनके बनने से जातक धनवान व जीवन में राजा के समान सुख भोगता है। परंतु आज हम इस लेख में स्त्री के हथेली में बनने वाले उन चिन्हों की बात करेंगे। जिनका होगा अत्यंत शुभ माना जाता है। तो आइये जानते उन रेखाओं के बारे में –

 

हस्त ज्योतिषियो का क्या है मत?

हस्त ज्योतिषाचार्यों की माने तो उनका भी यही मत है कि हथेली पर बने रेखाएं हमारी किस्मत का राज बताती हैं। यदि इनका सही से विश्लेषण किया जाए तो जातक के बारे में बहुत कुछ जाना जा सकता है। जैसे उसके भाग्य व दुर्भाग्य के बारे में भी। यहां तक की जातक जीवन के किस पड़ाव पर कितना सफल होगा। उसका वैवाहिक जीवन कैसा होगा। धन व संपदा से परिपूर्ण होगा की नहीं की उसे धन के लिए परीश्रम करना होगा। उसके काम बनेंगे या बिगड़ेंगे। स्वास्थ्य कैसा रहेगा। जीवन में कब तक प्रेम व शांति बनी रहेगी। यह सब हस्त शास्त्र की सहायता से जाना जा सकता है। इसी तरह से स्त्री की हथेली पर भी बने कुछ चिन्हों का उन्हें तथा उनके जीवनसाथी व परिवार को लाभ मिलता है।

 

वो पांच चिन्ह जो हैं अत्यंत शुभ

हस्त विद् की माने तो उनके अनुसार यदि किसी स्त्री की हथेली में कमल, मछली, ध्वज, रथ तथा चक्र बना हो तो ऐसी स्त्रियां भाग्यवान होती है। जिनके परिवर का हिस्सा बनती है। उस परिवार को इनके भाग्य का साथ मिलता है। आइये जानते हैं इन चिन्हों के बारे में -

 

कमल चिन्ह

हस्त ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि यदि किसी स्त्री की बायी हथेली में कमल का चिन्ह बना हो तो ऐसी स्त्री अपने जीवन में सुख भोगती है। इसे हर तरह के सुख की प्राप्ती होती है। परंतु यदि इसे कोई रेखा काट रही है तो इसका प्रभाव समाप्त हो जाता है।

 

मत्स्य चिन्ह

हस्त ज्योतिष के अनुसार जिन महिलाओं की हथेली पर मछली का निशान बना होता है उनका वैवाहिक जीवन सुखमय होगा है। इनके पति इनका सम्मान व मान करते हैं। इनकी हर जरूरतों को पूरा करने के लिए पूरी कोशिश करते हैं। साथी ही दोनों के बीच प्यार बना रहता है।

 

ध्वज चिंह

किसी स्त्री की हथेली पर यदि ध्वज बना होता है तो वह महिला अपने जीवन में उच्च पद पर पहुंचती है। उसकी कीर्ति का लोहा समाज मानता है। समाज में मान सम्मान की पात्र बनती है। यदि यह चिंह हथेली पर यदि भाग्य रेखा के पास बनी हो तो इसका प्रभाव और भी पढ़ जाता है।

 

रथ चिन्ह

रथ के चिन्ह का निर्माण होना हस्त शास्त्र में अधिक मायने रखता है। यह जिस भी स्त्री की हथेली पर बनाता है उसे हर तरह की सुख सुविधाओं से भर देता है। रथ चिन्ह की स्त्रियां रानी की तरह जीवनयापन करती है। इसके साथ ही इनकी जिससे भी शादी होती है वह भी इसका लाभ पाता है।

 

चक्र चिन्ह

हस्त ज्योतिषियों कहना है कि यदि किसी स्त्री की हथेली में चक्र बना हो तो ऐसी महिलाएं नेतृत्व बखूबी करती हैं। तो परिवार को एक साथ लेकर चलती है। परिवार में एकता बना कर रखती हैं। किसी भी परिस्थिति से बाहर निकले का मार्ग बड़ी आसानी से तलाश लेती हैं। यदि चक्र दसों अंगुलियों पर बना हो तो ये बहुत ही भाग्यवान होती है।

 

यह जानकारी चिन्हों के स्थान व स्थिति के आधार पर नहीं लिखा गया है। इनके प्रभाव व फल इनके स्थान के अनुसार भिन्न हो सकते हैं। ऐसे में आपको अपनी हथेली पर बने रेखाओं व चिन्हों का विश्लेषण अनुभवी हस्त ज्योतिषाचार्य करनावाना चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको सटीक जानकारी प्राप्त होगी। देश के जाने माने हस्त शास्त्रियों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें या दिये गये नंबर 9999091091 पर संपर्क करें।

एस्ट्रो लेख

राम रक्षा स्तोत...

श्री राम रक्षा स्तोत्र बुध कौशिक ऋषि द्वारा रचित श्री राम का स्तुति गान है। इसमें उन्होंने अनेक नामों से प्रभु श्री राम के नाम का गुणगान किया है। मान्यता है कि श्री राम रक्षा स्तोत...

और पढ़ें ➜

रामनवमी - भगवान...

विज्ञान और इतिहास के नजरिये से देखा जाये तो रामायण और महाभारत दो महाकाव्य हैं और भगवान राम और भगवान श्री कृष्ण इन महाकाव्यों के नायक। लेकिन धर्म, आस्था और विश्वास के नजरिये से देखे...

और पढ़ें ➜

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜