राष्ट्रपति चुनाव 2017 - क्या कहती है मीरा कुमार की कुंडली?

राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने रामनाथ कोविंद को अपना उम्मीद्वार बनाकर विपक्ष को दुविधा में डाल दिया। विपक्ष भी सत्ता पक्ष से राष्ट्रपति उम्मीद्वार के चुनाव में सत्तापक्ष द्वारा प्रत्याशी के नाम को लेकर सुझाव न मांगने पर खुद को उपेक्षित महसूस करने लगा। दलित प्रत्याशी होने से कुछ विपक्षी दल तो सत्ता पक्ष के साथ भी खड़े हो गये तो बसपा ने विपक्ष को दलित उम्मीद्वार ही खड़ा करने की चेतावनी दी। कुल मिलाकर विपक्ष मीरा कुमार को अपना प्रत्याशी बनाकर इस दुविधा से उबर पाया। भारतीय राजनीति खासकर दलित राजनीति में मीरा कुमार के पिता जगजीवन राम का बड़ा नाम रहा है। बिहार के सासाराम से संसद का सफर आरंभ करने वाली मीरा कुमार लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी पर आसीन हुईं हैं तो उनके कद को भी कम करके नहीं आंका जा सकता है लेकिन राष्ट्रपति उम्मीद्वार के रूप में अपने प्रतिद्वंदी को पराजित करना इनके लिये आसान नहीं हैं। इनकी कुंडली के अनुसार एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य राष्ट्रपति चुनाव में इनकी जीत की कितनी संभावनाएं जता रहे हैं आइये जानते हैं।

मीरा कुमार की कुंडली

नाम – मीरा कुमार

जन्मतिथि – 31 मार्च 1945

जन्म समय – 09:00

जन्म स्थान – पटना, बिहार, भारत

मेष लग्न की कुंडलिका तुला राशि है, इनका जन्म स्वाति नक्षत्र में हुआ है। वर्तमान में इन पर शुक्र की महादशा और सूर्य का अंतर चंद्रमा का प्रत्यंतर चल रहा है।

कुंडली में है राजयोग लेकिन भोग चुकी हैं सुख

लग्न में शुक्र और बुध की लक्ष्मी नारायण युति इनकी कुंडली में राजयोग तो बनाते हैं जिसका प्रभाव पूर्व देखा भी जा चुका है इसी की बदौलत इन्होंने संसद सदस्य से लेकर लोकसभा अध्यक्ष तक का सफर भी तय किया है।

शनि की वक्र दृष्टि करती है भाग्य को कमजोर

वर्तमान में शुक्र इनकी कुंडलिका में स्वराशिगत होकर द्वितीय स्थान पर बैठा हुआ है जो कि वक्र शनि से दृष्टित है। भाग्य स्थान का स्वामी बृहस्पति छठे घर में विराजमान है जिससे भाग्य का साथ इन्हें कम मिलने के आसार हैं।

कुंडली में राजयोग के कारण ये राष्ट्रपति के उम्मीद्वार के रूप में तो घोषित हो चुकी हैं लेकिन आगे के पथ का प्रदर्शन ग्रह इनके लिये करें ज्योतिषाचार्यों इसकी संभावना कम ही जता रहे हैं।

आपकी कुंडली में कौनसे योग हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।

एस्ट्रो लेख

बुध का राशि परि...

इस माह बुध राशि परिवर्तन कर मकर राशि के कुंभ राशि में जा रहे हैं। वैदिक ज्योतिष में बुध को वाणी का कारक माना जाता है। कहते हैं कि वाणी में मधुरता हो तो शत्रु भी मित्र बन जाता है। प...

और पढ़ें ➜

Saturn Transit ...

निलांजन समाभासम् रवीपुत्र यमाग्रजम । छाया मार्तंड संभूतं तं नमामी शनैश्वरम ।। Saturn Transit 2020 - सूर्यपुत्र शनिदेव 24 जनवरी 2020 को भारतीय समय दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर धनु राशि ...

और पढ़ें ➜

बसंत पंचमी पर क...

जब खेतों में सरसों फूली हो/ आम की डाली बौर से झूली हों/ जब पतंगें आसमां में लहराती हैं/ मौसम में मादकता छा जाती है/ तो रुत प्यार की आ जाती है/ जो बसंत ऋतु कहलाती है। सिर्फ खुशगवार ...

और पढ़ें ➜

Rashianusar Puj...

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बड़ा महत्व है, लेकिन कई बार रोज़ाना पूजा-पाठ करने के बावजूद भी हमारा मन अशांत ही रहता है। वहीं भगवान की पूजा के दौरान कौन सा फूल, फल और दीपक जलाना चाहिए ...

और पढ़ें ➜