Skip Navigation Links
बुध बदलेंगे राशि -  क्या होगा असर? जानें राशिफल


बुध बदलेंगे राशि - क्या होगा असर? जानें राशिफल

बुध ग्रह का ज्योतिषशास्त्र में काफी महत्व है। इन्हें बुद्धि का कारक माना जाता है, जितने भी बौद्धिक कार्य होते हैं उन सभी को जातक की कुंडली के अनुसार बुध प्रभावित करते हैं। बुध जब भी अपनी राशि परिवर्तित करते हैं या फिर वक्री होते हैं तो राशिनुसार उसके सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ने ही होते हैं। 11 मार्च को बुध कुंभ राशि से गोचर करते हुए मीन राशि में आ जायेंगें। बुध का यह राशि परिवर्तन आपकी राशि को कैसे प्रभावित करेगा? आइये जानते हैं क्या कहते हैं एस्ट्रोयोगी के जाने-माने ज्योतिषाचार्य।

11 मार्च को बुध का गोचर राशि परिवर्तन के कारण मीन राशि में होगा। मीन राशि में बुध नीच का माना जाता है लेकिन इनके साथ ही शुक्र भी हैं जो कि उच्च के माने जाते हैं। साथ में कन्या राशि में वक्री हुए गुरु ग्रह बृहस्पति की भी बुध पर दृष्टि पड़ रही है। कुल मिलाकर राशिनुसार बुध कुछ इस प्रकार के परिणाम दे सकते हैं। 

मेष

मेष राशि वालों के लिये बुध 12वें घर में दाखिल होंगे। 12वां घर स्वास्थ्य, कानूनी मामलों, लंबी यात्राओं आदि से जुड़ा होता है। आपके लिये बुध का यह राशि परिवर्तन कुछ मामले में सकारात्मक तो कुछ मामलों में नकारात्मक रहने के आसार हैं। खासकर विद्यार्थी वर्ग जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियों में जुटा है उनमें मेष राशि वालों के हाथ सफलता लग सकती है। नौकरीशुदा जातकों के लिये तरक्की के भी आसार हैं लेकिन व्यवसायी जातक निवेश करने से बचें उनके लिये समय अच्छा नहीं कहा जा सकता साथ ही फालतु के विवादों में न ही पड़े तो बेहतर है अन्यथा आपको कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं जो कि आप बिल्कुल भी नहीं चाहेंगे। लंबी यात्रा की आपकी कामना पूरी हो सकती है। पारिवारिक यात्रा के लिये समय अच्छा है। यदि कहीं से ऋण लेने का विचार है तो यह योजना भी पूरी हो सकती है। कुल मिलाकर यदि आप सचेत रहें और अपने काम से ही काम रखें तो बुध का नीच राशि का होना आपके लिये ज्यादा नकारात्मक नहीं रहेगा। भोलेनाथ का स्मरण करें शिवशंकर सब भली करेंगें।

वृषभ

वृषभ राशि वालों के लिये बुध आपकी राशि से ग्यारहवें घर में गोचर करेगा जो कि लाभ का घर माना जाता है। बुध के इस राशि परिवर्तन का संकेत है कि आपकी आय में वृद्धि होगी। नौकरीशुदा लोग तरक्की की उम्मीद कर सकते हैं। व्यवसायी जातकों के लिये भी निवेश करना लाभकारी रहने के आसार हैं। यदि कहीं घूमने जाने की योजना आपने बना रखी है तो उसे अमल में लाने के लिये समय बहुत अच्छा है। हर तरफ से आपको सहयोग मिलने के आसार हैं। कुल मिलाकर बुध का मीन राशि में गोचर करना आपके हित में कहा जा सकता है। पुण्य की प्राप्ति के लिये सप्ताह में एक दिन गौ माता की सेवा के लिये भी लगा सकते हैं। सेवा करने के लिये समय निकालना मुश्किल है तो गौशाला में कुछ अनाज या धन दान कर के भी सेवा सहयोग करते हैं।

मिथुन

बुध आपके राशि स्वामी हैं जो आपकी राशि से दसवें घर में गोचर करेंगें जो कि व्यवसाय का घर माना जाता है। इस समय आप खुद को और ज्यादा एकाग्रचित कर सकते हैं। काम में आपका मन लगा रहेगा। घर से लेकर दफ्तर तक, प्यार से लेकर व्यापार तक, बुध का यह परिवर्तन आपके लिये बेहतरी के संकेत दे रहा है। पिछले कुछ समय ये यदि माता के स्वास्थ्य को लेकर परेशान हैं तो इस समय माता के स्वास्थ्य में भी सुधार होने की प्रबल संभावनाएं हैं। जीवन साथी का भी आपको भरपूर सहयोग मिलने के आसार हैं। कुल मिलाकर आपके लिये बुध का गोचर सुखद कहा जा सकता है।

कर्क

वैसे तो राशि स्वामी चंद्रमा के साथ बुध की कुछ खास बनती नहीं है क्योंकि बुध चंद्रमा से शत्रुता का भाव रखते हैं लेकिन मीन राशि में गोचर करना जो कि 9वें घर में हो रहा है और साथ में शुक्र की युति भी है तो यह संयोग आपके लिये शुभ रहने के आसार हैं। कर्क जातकों का रूझान इस दौरान धार्मिक क्रियाकलापों की ओर बढ़ सकता है। 9वां घर पिता का घर माना जाता है, वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा भी इसके कारण मिलती है। किसी धार्मिक यात्रा पर जाने का विचार भी बुध के इस गोचर के दौरान बना सकते हैं। आर्थिक रूप से भी आपके हालात काफी बेहतर होने के आसार हैं। कलाक्षेत्रों में भी आपका रूझान बढ़ सकता है और आपकी रचनात्मकता भी इस अवधि में अच्छी रहेगी। आप इस समय ज्यादा से ज्यादा ज्ञान हासिल करने के इच्छुक रहेंगे।

सिंह

बुध आपकी राशि से आठवें घर में गोचर कर रहे हैं। यह आपके हित में तो बिल्कुल नहीं कहा जा सकता है। जिन क्षेत्रों से आप खासकर पैतृक संपत्ति से लाभ मिलने की उम्मीद कर रहे हैं वहां आपको नुक्सान उठाना पड़ सकता है। अचानक से धन की हानि होने के भी आसार हैं। यह हानि आपको व्यवसाय में भी उठानी पड़ सकती है। यात्रा पर जाने की योजना यदि आपने बनायी है तो यदि आवश्यक न हो तो उसे स्थगित कर दें। यदि यात्रा पर जाना भी पड़े तो थोड़ी सावधानी रखें। घर से बाहर खान-पान के प्रति भी सचेत रहें। कोई भी निर्णय सोच समझकर लें और किसी भी परिस्थिति में अपने संयम को न खोयें। मानसिक तनाव को भी अपने पर हावि न होनें दें। हो सके तो थोड़ा बहुत समय ध्यान व योग करने के लिये भी निकालें। प्रात:काल सूर्यदेव को जल अर्पित करना आपके लिये लाभकारी रहेगा।

कन्या

कन्या जातकों के लिये राशि स्वामी का गोचर सप्तम भाव में हो रहा है। सातवां घर विवाह का घर माना जाता है। आपके लिये बुध का यह राशि परिवर्तन काफी अच्छे परिणाम लेकर आ सकता है। आपके दांपत्य जीवन में तो खुशहाली बनी ही रहने के आसार हैं साथ ही अविवाहित प्रेमी युगलों का समय भी काफी रोमांटिक रहने की संभावना है। साथी के साथ कहीं घुमने की योजना बनाकर आप एक हसीन सफर पर हसीन और जवां हमसफर के साथ कुछ यादगार लम्हें जी सकते हैं। व्यवसाय की दृष्टि से भी समय काफी बेहतर है खासकर साझेदारी करने से आपको अच्छा मुनाफा मिल सकता है। कोई नया व्यवसाय शुरु करने, नई नौकरी की तलाश करने के लिहाज से भी समय काफी शुभ कहा जा सकता है। आपको इस समय में नये-नये अवसर उपलब्ध होने के आसार हैं। क्योंकि आपकी राशि में गुरू वक्री भी हैं इसलिये व्यावसायिक निर्णयों में बड़े-बुजूर्गों या अनुभवी व्यक्तियों की राय अवश्य लें। गुरुवार के दिन किसी जरुरतमंद की सहायता करें, लाभ मिलेगा।

तुला

आपके लिये बुध का गोचर छठे स्थान पर हो रहा है, छठा भाव रोग का कारक माना जाता है। आपके लिये बुध का राशि परिवर्तन स्वास्थ्य के लिहाज से चिंताजनक हो सकता है। अपनी व अपने साथी की सेहत का ध्यान रखें। यात्रा पर जानें बचें, दुर्घटना की संभावनाएं हो सकती हैं। यदि यात्रा बहुत ही आवश्यक हो तो सावधानी पूर्वक यात्रा करें। जरूरत का सामान साथ लेकर चलें। व्यावसायिक या कामकाज के लिये यात्रा कर रहे हैं तो अपने कामकाजी दस्तावेज़ों को भी संभाल कर रखें। किसी से बिना वजह बहस में न पड़ें और न ही दूसरों के मामले में टांग अड़ाएं अन्यथा आपको भी कानून के पचड़ों में फंस सकते हैं। हालांकि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले जातकों के लिये समय अच्छा रहेगा साथ ही किसी भी क्षेत्र में यदि आप कड़ी मेहनत करते हैं तो उसका परिणाम अवश्य मिलेगा।

वृश्चिक

वृश्चिक जातकों के लिये बुध का यह परिवर्तन पांचवें घर में हो रहा है। पांचवा घर संतान का माना जाता है। आपके लिये मीन में बुध का गोचर मिलेजुले परिणाम लाने वाला रह सकता है। साथी की भावनाओं का ख्याल रखें रोमांटिक जीवन बेहतर बना रह सकता है। अविवाहित प्रेमी जातक अपने संबंध को अगले पायदान पर ले जाने का विचार बना सकते हैं इस समय प्रेम विवाह में सफलता मिलने की संभावना काफी मजबूत हैं। आपके सबंधों में उत्साह बना रह सकता है लेकिन साथी से वाद-विवाद में न उलझें तो बेहतर है। विद्यार्थियों के लिये यह समय बहुत ही बेहतर रहने के आसार हैं। संतान पक्ष की ओर से थोड़ी चिंताएं बढ़ सकती हैं। आर्थिक तौर पर देखा जाये तो अनपेक्षित स्त्रोत से धन प्राप्ति की संभावना है। संतान की बेहतरी व संतान का सुख पाने के लिये भगवान श्री कृष्ण के बाल रूप की पूजा करें व गरीब व जरुरतमंद बच्चों की सहायता करें।

धनु

धनु राशि से चौथे घर में बुध का गोचर हो रहा है। चौथा घर माता का घर माना जाता है। इस परिवर्तन के कारण यदि आप माता के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं तो आपकी चिंता कम हो सकती है। माता के स्वास्थ्य में अचानक सुधार होता देख आपको प्रसन्नता मिलेगी। अपने जीवन को समृद्ध बनाते हुए सुख-सुविधाओं को बढ़ाने पर आप कुछ बड़े खर्चे कर सकते हैं। यदि पिछले कुछ समय से वाहन या मकान खरीदने का विचार बना रहे हैं तो समय आपके लिये शुभ रहेगा। व्यावसायिक दृष्टि से भी बुध का गोचर आपके लिये लाभकारी रहने के आसार हैं। यदि लंबे समय से किसी लक्ष्य को हासिल करने के लिये प्रयासरत हैं तो इन प्रयासों को और तेज करें सफलता मिल सकती हैं। कुल मिलाकर समय हर लिहाज से आपके पक्ष में लग रहा है। जीवनसाथी का भी भरपूर सहयोग आपको मिलेगा उन्हें कोई सुंगधित द्रव्य भेंट कर समय अपने प्रेम व दांपत्य जीवन को महका सकते हैं।

मकर

मकर राशि से बुध का परिवर्तन तीसरे भाव में हो रहा है। राशि स्वामी शनि से बुध का मैत्री स्वभाव है और तीसरा घर छोटे-भाई बहनों व जातक की लेखन क्षमता का प्रतिनिधित्व करता है। आपके लिये मीन में बुध का यह गोचर काफी सकारात्मक रहने के आसार हैं। खासकर यदि आप रचनात्मक लेखन करते हैं तो आपके जहन में इस समय नये-नये विचार जन्म लेंगें। इस दौरान आप अपनी श्रेष्ठ रचना भी कर सकते हैं। सामाजिक कार्यों में भी आप बढ़चढ़ कर हिस्सा लेंगें और अन्य लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर पायेंगें। छोटे भाई बहनों से भी आपके संबंध अच्छे बने रहने के आसार हैं। कुल मिलाकर तीसरे घर में बुध का गोचर आपके लिये सुखद परिणाम लाने वाला कहा जा सकता है। शनिवार के दिन शनिदेव की आराधना करना आपके लिये शुभ फलदायी हो सकता है। किसी जरुरतमंद की मदद के लिये हाथ आगे बढ़ायेंगें तो पुण्य की प्राप्ति होगी।

कुंभ

मीन राशि में बुध का गोचर आपकी राशि से दूसरे भाव में हो रहा है। दूसरा घर धन का घर माना जाता है। बुध बुद्धि और वाणी दोनों के कारक माने जाते हैं। इस दौरान आप अपने बौद्धिक विकास और वाणी की मिठास से दूसरों का अपना कायल बना सकते हैं। अनपेक्षित स्त्रोत से धन प्राप्ति के संकेत भी बन रहे हैं। हो सकता है व्यवसाय में अचानक लाभ मिले। जो जातक विज्ञान एवं अन्य शैक्षणिक क्षेत्रों में शोध से जुड़े हैं उनके लिये तो यह समय बहुत ही खास हो सकता है वे अपने शोध में कुछ नये परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। किसी नये आविष्कार की ओर बढ़ सकते हैं। कुल मिलाकर यदि अचानक आपके हाथ सफलता लगे तो समझ लेना यह बुध के राशि परिवर्तन का कमाल है।

मीन

बुध जो कि शुभ ग्रहों के साथ शुभ और क्रूर ग्रहों के साथ क्रूर हो जाते हैं आपकी राशि में ही गोचर कर रहे हैं साथ ही शुक्र भी विराजमान हैं और कन्या राशि में वक्री हुए राशि स्वामी भी इन्हें देख रहे हैं ऐसे में आपके लिये बुध के राशि परिवर्तन को  सकारात्मक कहा जा सकता है। खासकर सगे-संबंधियों से रिश्ते काफी बेहतर रहने के आसार हैं। यदि पिछले समय से कोई आपसी विवाद चल रहा है तो उसके सुलझने के आसार भी बन सकते हैं। व्यावसायिक दृष्टि से भी साझेदारी में आपको लाभ मिल सकता है। माता व पत्नी की ओर भी आपका झुकाव बराबर बना रहेगा और दोनों के साथ संबंध मधुर बने रहने के आसार हैं। परिवार में कोई मांगलिक कार्य भी आयोजित हो सकता है जिसमें आपकी अहम भूमिका 

बुध के इस परिवर्तन के कारण पड़ने वाले अशुभ प्रभावों से बचने के उपाय आप हमारे ज्योतिषियों से परामर्श कर जान सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर   |   बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर गुरु कन्या में हुए वक्री 

क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से   |   आपकी राशि और नापसंद बातें   |   राशि के अनुसार धन प्राप्ति के मंत्र   |   

दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग   |   आपका राशि चक्र और रूचि   |   आपका राशि चक्र और शौक   |   

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |   राशिनुसार धारण करें रत्न 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

हरियाली तीज 2017 - जानें श्रावणी तीज की व्रत कथा व पूजा विधि

हरियाली तीज 2017 -...

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को “श्रावणी तीज” कहते हैं। परन्तु ज्यादातर लोग इसे हरियाली तीज के नाम से जानते हैं। यह त्यौहार मुख्य रूप स...

और पढ़ें...
नाग पंचमी 2017 - भगवान शिव और नागों की पूजा का दिन है

नाग पंचमी 2017 - भ...

नाग पंचमी एक  हिन्दू पर्व है जिसमें नागों और सर्पों की पूजा की जाती है। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में यह पर्व पूरे देश में पूर्ण...

और पढ़ें...
शुक्र राशि परिवर्तन – किसको मिलेगा लाभ किसको होगी हानि जानें राशिफल

शुक्र राशि परिवर्त...

किसी भी जातक की कुंडली में लाभ, सुख-समृद्धि आदि के कारक शुक्र माने जाते हैं इसलिये शुक्र का गोचर भी ज्योतिषीय दृष्टिकोण से खास अहमियत रखता है...

और पढ़ें...
राशिनुसार कैसे करें शिव की पूजा

राशिनुसार कैसे करे...

शिव भक्तों के लिये सावन माह सभी महीनों में सबसे पवित्र माह होता है। इसलिये इस माह को भगवान शिव की उपासना के लिये सर्वोत्तम भी माना जाता है। इ...

और पढ़ें...
श्रावण सोमवार 2017 - जानें सावन सोमवार की व्रतकथा व पूजा विधि

श्रावण सोमवार 2017...

सावन माह का नाम आते ही हमारे मन में भी बादल घुमड़ने लगते हैं, ठंडी हवाओं के झौंके सुकून देने लगते हैं, तपती ज्येष्ठ और आषाढ़ में गरमी से बेहा...

और पढ़ें...