कर्क राशि में बदलने वाली है बुध की चाल! क्या होगा हाल? जानें राशिफल

8 जुलाई से बुध कर्क राशि में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं जो कि 30 जुलाई तक कर्क राशि में वक्री रहेंगें। इसके पश्चात वह वक्र अवस्था में मिथुन राशि में प्रवेश करेंगें।  1 अगस्त तक बुध वक्री रहने वाले हैं। 3 अगस्त को वह एक बार फिर कर्क राशि में आ जाएंगें। बुध के गोचर से भावानुसार बुध का प्रभाव पड़ता है। ऐसे में सभी 12 राशियों के लिये बुध का वक्री होना क्या परिणाम लेकर आ सकता है, आइये जानते हैं।

 

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। बुध के साथ अन्य ग्रह क्या योग बना रहे हैं? आपकी जन्मकुंडली, वर्ष कुंडली या फिर गोचर कुंडली में बुध किस भाव में विराजमान हैं इन सब के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लें। परामर्श लेने के लिये यहां क्लिक करें।

 

मेष

मेष राशि वालों के बुध का चौथे स्थान में वक्री हो रहे हैं। आपके लिये बुध कुछ कार्यों को लटकाने का काम कर सकते हैं विशेषकर यदि घर या गाड़ी की खरीददारी का आपने मन बना रखा था तो इस समय आपका जोश ढ़ीला पड़ सकता है। सुख सुविधाओं से संपन्न होने के बावजूद भी हो सकता है आप उनका लाभ न उठा पाएं। इस समय मित्र भी हो सकता है आपकी सहायता करने में समर्थ न रहें। अपनी माता को लेकर चिंतित रह सकते हैं उनके स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता भी आपको रहेगी। हां यात्राओं के योग भी आपके लिये बन रहे हैं जिनमें लाभ की उम्मीद आप कर सकते हैं।

 

वृषभ

आपकी राशि से तीसरे स्थान में बुध वक्री हो रहे हैं। इस समय भाग्य के भरोसे बैठना उचित नहीं है। अपने काम पर फोकस करें। जो जातक किसी नये कार्य का आरंभ करना चाहते हैं उनके लिये समय थोड़ा सोच समझकर आगे कदम बढ़ाने का है। कोई भी निर्णय लेने से पहले अच्छे से रिसर्च जरुर कर लें। फालतू के वाद-विवाद में न पड़ें। अपनी बात रखते समय ध्यान रखें की आप जो कह रहे हैं वह उसी रूप में यानि सपष्ट रूप से सामने वाले तक पंहुच रहा है या नहीं। अन्यथा गलतफहमियां बढ़ सकती हैं। फिजूल में यात्रा करने से बचें। थकान के अलावा इससे आपको क्या मिलेगा।

 

मिथुन

बुध आपकी राशि से धन भाव में वक्री हो रहे हैं। परिवार में किसी के साथ वाद-विवाद बढ़ सकता है। ध्यान रखें कि कोई ऐसी बात मुंह से निकले जिससे किसी की भावनाओं को ठेस पंहुचे। विवाहित जातकों को ससुराल पक्ष से कोई अनपेक्षित समाचार मिल सकता है। धन प्राप्ति के योग आपके लिये बन रहे हैं लेकिन हो सकता है परिणाम मनोनुकूल न रहें।

 

कर्क

बुध आपकी ही राशि में वक्री हो रहे हैं। यह समय आपके लिये मिलेजुले परिणाम लेकर आने के संकेत कर रहा है। विशेषकर सेहत के मामले में आपको सचेत रहने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य संबंधी खर्च आपके बजट को असंतुलित कर सकते हैं। मानसिक तौर भी आप थोड़ी बेचैनी महसूस कर सकते हैं। कामकाजी जीवन में भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता है। कोई नया कार्य या किसी नई परियोजना पर काम शुरु करना चाहते हैं तो इस पर अच्छी रिसर्च कर एक बेहतर योजना बनाने के बाद ही आगे बढ़ें। परिवार में अपने से छोटे सदस्यों को लेकर चिंतित रह सकते हैं।

 

सिंह

बुध आपकी राशि से 12वें स्थान में वक्री हो रहे हैं। अनावश्यक वस्तुओं पर धन खर्च कर सकते हैं जिस पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता आपको रहेगी। शेयर मार्किट, सट्टा बाजार में धन न ही लगाएं तो बेहतर रहेगा। इस समय कुछ महत्वपूर्ण निर्णय भी आपको लेने पड़ सकते हैं जो कि आपके लिये थोड़े कठिन हो सकते हैं। प्रोपर्टी संबंधी लेन-देन में भी सचेत रहें।

 

कन्या

कन्या जातकों के लिये बुध का वक्री होना मिले जुले परिणाम लेकर आ सकता है। बुध आपकी राशि के स्वामी भी हैं जो कि लाभ घर में वक्री हो रहे हैं। आपके लिये यह समय प्रोफेशनल लाइफ में लाभ तो लेकर आएगा लेकिन जितने लाभ की आप उम्मीद कर रहे हैं उतना हो सकता है आपको न मिले। रोमांटिक लाइफ में भी आपके मुंह से कोई ऐसी बात निकल सकती है जिससे पार्टनर की भावनाओं को ठेस पंहुचे इसलिये जो भी बोलें सोच समझकर बोलें। अपनी वाणी को मधुर व विनम्र बनाए रखेंगें तो अच्छा रहेगा।

 

तुला

तुला जातकों के लिये कर्मक्षेत्र में बुध वक्री हो रहे हैं जो कि आपके लिये ठीक-ठाक समय रहने के संकेत कर रहे हैं। इस समय आपको भाग्य के भरोसे नहीं बैठे रहना चाहिए बल्कि अपने आप पर विश्वास रखते हुए कर्म करने पर जोर दें। नए अवसर आपको मिलेंगें यह पूर्णत: आप पर ही निर्भर करेगा कि आप उन्हें कितना भुना पाएंगें।

 

वृश्चिक

वृश्चिक जातकों के लिये बुध भाग्य स्थान में वक्री हो रहे हैं। कहते हैं भाग्य भी उन्हीं की मदद करता है जो जी जान किसी चीज को पाने की इच्छा रखते हैं और उसे पाने के लिये प्रयासरत रहते हैं। अचानक से या भावावेश में आकर आप कुछ ऐसे निर्णय भी ले सकते हैं जिन पर आपको हंसी आए या कहें जो आपको मूर्खता भरे लगें इसलिये अपने विवेक से काम लें, जल्दबाजी न करें। सामाजिक रूप से यदि आप काफी सक्रिय रहते हैं तो इस समय हो सकता है उसमें कुछ कमी महसूस हो और आप स्वयं को लोगों से कटा हुआ महसूस करें। एकांत में आत्मविश्लेषण करने के लिहाज से समय बहुत अच्छा है।

 

धनु

धनु जातकों के लिये बुध अष्टम भाव में वक्री हो रहे हैं जो कि सेहत के प्रति सचेत रहने के संकेत कर रहे हैं। इस समय आप बहुत ही जल्दबाजी में रहेंगें जिससे बचने की आवश्यकता है। महत्वपूर्ण निर्णय लेने के मामले में थोड़ा समय लें और सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श करने के पश्चात ही कोई राय बनाएं। धन प्राप्ति के योग आपके लिये बन रहे हैं लेकिन लाभ आपको धीमी गति से मिलेगा। कहीं पैसा अटका हुआ है तो मिल सकता है भले ही वह किस्तों में मिले।

मकर

मकर जातकों के लिये भी बुध का सप्तम भाव में वक्री हो रहे हैं। रोमांटिक जीवन में आपको कुछ परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है। सेहत के मामले में भी सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। इस समय स्वास्थ्य के मामले में लापरवाही बिल्कुल न करें। कामकाजी जीवन में आपको कुछ अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। कार्यस्थल पर कोई नई जिम्मेदारी आपको सौंपी जा सकती है। सुख-समृद्धि में वृद्धि के संकेत हैं। खर्च बढ़ने से बजट कम पड़ने की संभावनाएं भी बन रही हैं। सोच-समझकर जरुरत के अनुसार ही खर्च करें।

 

कुंभ

छठे घर में बुध का वक्री होना कुंभ जातकों के लिये स्वास्थ्य के मामले में सचेत रहने के संकेत कर रहा है। उदर संबंधी समस्याओं को महसूस कर सकते हैं। प्रोफेशनल लाइफ में भी आपको अपने कंपीटीटर्स से सावधान रहने की आवश्यकता। व्यवसायी जातकों के लिये भी यह समय थोड़ा खर्चीला है। नए कार्य का शुभारंभ करना चाहते हैं तो बजट कम पड़ सकता है जिसके चलते हो सकता है आपको कर्ज़ उठाना पड़े। जोखिम वाले क्षेत्रों में धन निवेश करने से बचें।

 

मीन

मीन जातकों के लिये बुध पंचम भाव में वक्री हो रहे हैं। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ लगातार संवाद बनाए रखें अन्यथा कम्यूनिकेशन गैप बढ़ने की संभावनाएं हैं। विवाहित जातक संतान को लेकर भी इस समय आप चिंतित रह सकते हैं। बच्चों की शिक्षा को लेकर भी आप परेशान रह सकते हैं। इसके लिये सबसे बेहतर उपाय है कि बच्चों की गतिविधियों पर नज़र रखें व उन्हें सकारात्मक रूप से प्रेरित करते रहें। अपनी रूचि के अनुसार क्षेत्र चुननें दें। आप उन पर कुछ थोंपेंगे तो आपको परिणाम निराशाजनक मिल सकते हैं।

एस्ट्रो लेख

सावन अमावस्या 2...

अमावस्या तिथि बहुत मायने रखती है। हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष का यह अंतिम दिन होता है। अमावस्या की रात्रि को चंद्रमा घटते-घटते बिल्कुल लुप्त हो जाता है। सूर्य ग्रहण जैसी खगोल...

और पढ़ें ➜

सावन शिवरात्रि ...

 सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते है...

और पढ़ें ➜

सावन का दूसरा स...

सावन का पूरा महिना भगवान शिव की अराधना का महिना होता है। इस महिने में शिव पूजा, जलाभिषेक करने से अत्यंत लाभदायक फल इंसान को मिलते हैं। जिनका अपना अपना महत्व होता है। 2019 के सावन क...

और पढ़ें ➜

सावन 2019 में ब...

हिन्दू पंचांग में श्रावण मास सबसे पवित्र मासों में से एक है। यह माह प्रभु शिव को समर्पित है और इस पावन अवसर पर बड़ी तादात में शिव भक्त देश-विदेश के शिव मंदिरों में जाकर उनके शिवलिंग...

और पढ़ें ➜