जानिए वक्री बुध का तुला राशि में गोचर होना आपके लिए कितना शुभ?

बुध का वक्री होकर तुला राशि में आना सभी राशि के लिए कुछ न कुछ परिणाम लेकर आने वाला है। जैसा कि आप जानते हैं कि वैदिक ज्योतिष में बुध को बुद्धि, ज्ञान व व्यापार का कारक माना गया है इसके साथ ही इसे वाणी का भी कारक माना जाता है। कहते हैं वाणी यदि मधुर हो तो किसी से भी कुछ कराया व हासिल किया जा सकता है परंतु वाणी कठोर हो तो कुछ भी व कितना भी अच्छा किसी के साथ क्यों न कर दिया जाएं सब निअर्थक ही रहता है। इसलिए बुध का वक्री होकर तुला राशि में गोचर करना सभी बारह राशियों के लिए कैसा रहेगा इसकी जानकारी हम यहां दे रहें हैं। आपको बता दें कि बुध वक्री होकर 7 नवंबर 2019 को अपराह्न 03 बजकर 39 मिनट पर वृश्चिक से तुला राशि में गोचर कर रहे हैं।

 

यहां दिए गया परिणाम सामान्य ज्योतिषीय गणना पर आधारित हैं। सटीक जानकारी प्राप्त करने के लिए कुंडली का आकलन करवाएं ऐसी स्थिति में परिणाम अलग-अलग हो सकते हैं। अपनी जन्म कुंडली का आकलन करवा कर सटीक परिणाम जानने के लिए यहां क्लिक करें।

 

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए बुध का वक्री होकर तुला राशि में प्रवेश करना कुछ खास नहीं रहने वाला है। इसके उलट यह आपके लिए परेशानी लेकर आने वाला है। बात आपके पारिवारिक संबंध की करें तो इसमें तनाव आने की संभावना है। करियर व व्यापार के लिए भी यह परिवर्तन ठीक नहीं है। कर्ज लेने व देने से बचें। इसके साथ ही व्यापारिक फैसले न लें।

 

वृषभ राशि

वृषभ राशि के लिए वक्री बुध का तुला राशि में प्रवेश करना स्वास्थ्य के लिए सही संकेत नहीं दे रहा है। इस समय आपको अपने सेहत को लेकर सजग रहना चाहिए। परंतु बात करें विद्यार्थियों और शिक्षा से जुड़े लोगों की तो उनके लिए समय अच्छा रहने वाला है। बात करें परिवार व प्रेम की तो समय उतार- चढ़ाव भरा रहने वाला है। धन खर्च करते समय सावधानी बरतें।

 

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध का वक्री होकर तुला राशि में जाना शुभ रहने वाला है। व्यापार, धन, परिवार, संतान, शिक्षा समेत जीवन के कई पहलुओं के लिए अच्छा रहने वाला है। आप अपने सभी कार्यों में सफल होंगे। प्रेम के लिए भी समय अच्छा रहने वाला है।

 

कर्क राशि

बुध का वक्री होकर तुला राशि में जाना आपके लिए किन्हीं पहलुओं पर ठीक रहेगा। जैसे आपके करियर व व्यापार के लिए यह अच्छे परिणाम देगा परंतु आपको इसके लिए थोड़ा परिश्रम भी करना होगा। जो जातक संपत्ति खरीदना चाहते हैं उनके लिए भी यह समय सही रहेगा। परंतु बात यदि परिवार व प्रेम संबंध की करें तो इस मामले में कुछ परेशानियां आ सकती हैं।

 

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों को इस समय करियर को लेकर सतर्क रहना होगा। आपके किसी बात या कार्य से आपका कोई सहयोगी आपके लिए कुछ खतरनाक योजना बना सकता है। इसलिए आपको अपने सहयोगियों के साथ अच्छा व्यवहार रखना होगा। इसके अलावा पिता के साथ आपके संबंधों में तनाव आ सकता है। लेकिन परिवार का माहौल अच्छा रहेगा और सहयोग मिलेगा।

 

कन्या राशि

बुध का वक्री होकर तुला राशि में गोचर करना कन्या राशि के जातकों के लिए कुछ मामलों में समस्याएं उत्पन्न करने वाला होगा। परिवार में आपके थोड़ा तनाव बढ़ सकता है। वैवाहिक जीवन पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है। परंतु बात धन पक्ष की करें तो इसके लिए यह शुभ साबित होने वाला है। आपको धन लाभ होगा। इसके साथ ही आपके कई नये मित्र बन सकते हैं।

 

तुला राशि

बुध का वक्री होकर आपके राशि में आना आपके लिए कई मायनों में लाभदायक रहने वाला है। वक्री की अवधि तक आपको भाग्य का अच्छा साथ मिलेगा। परंतु आपको कामयाबी पाने के लिए परिश्रम करना होगा। इसके साथ ही आप कार्यस्थल पर किसी काम को लेकर आश्वस्त होने में समय लगाएंगे। काम ठीक से हुआ है कि नहीं यह भी बार-बार चेक करेंगे, जो आपके लिए अच्छा है। इसके साथ ही आप छोटी यात्राएं कर सकते हैं। पिता से भी आपको सहयोग मिलेगा।

 

वृश्चिक राशि

बुध की वक्री स्थिति आपके ख़र्चों में वृद्धि होने के संकेत दे रही है जिससे आपकी आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। इसलिए आपको धन खर्च करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। इसके साथ ही अचानक आपको किसी यात्रा पर जाना पड़ सकता है। जिसकी वजह से भी आपका बजट हिल सकता है। बात आपकी सेहत की करें तो वक्री अवधि तक आपको अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता है कुछ समस्याएं आ सकती हैं। वाद-विवाद भी हो सकता है। किसी से उलझना आपके लिए अच्छा नहीं रहेगा। विरोधियों से सतर्क रहें।

 

धनु राशि

यह ज्योतिषीय घटना धनु राशि के जातकों के लिए कुछ हद तक अच्छा रहने वाला है। जीवनसाथी से आपको सहयोग व लाभ मिलेगा। इसके साथ ही आपका साथी से साथ संबंध बेहतर होगा। बात आपके करियर की करें तो कार्यस्थल पर भी आपको सहयोगियों व वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग मिलेगा। जिससे आपके पद व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापारियों के लिए भी समय अच्छा रहेगा। धन लाभ का संकेत हैं। शिक्षा से जुड़े लोगों के लिए समय उचार-चढ़ाव वाला हो सकता है। 

 

मकर राशि

बुध वक्री का लाभ मकर राशि के जातकों को अच्छा मिलने वाला है। कार्य से लेकर परिवार के पहलू पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ेगा। कार्य की बात करें तो समय आपको साथ देगा। कार्यस्थल पर आपका मान बढ़ेगा। आपके वरिष्ठ अधिकारी आपके पक्ष में होंगे। आपको कोई बड़ा कार्य सौंपा जा सकता है। इसके साथ ही आपके पद में भी बढ़ोतरी हो सकती है। परिवार के लिए भी यह अवधि शुभ परिणाम देने वाला है। परिवार में तालमेल बढ़ेगा। आपसी संबंध मजबूत होंगे।

 

कुंभ राशि

बुध का वक्री गोचर कुंभ राशि के जातकों के लिए सामान्य रहने वाला है। परंतु कुछ पहलुओं पर इसका अच्छा लाभ होगा। परिवार में जो तनाव थे उसमें कमी आएगी। जिन जातकों का अपने साथी के साथ विवाद चल रहा उसमें कमी होगी। साथी के साथ तनाव खत्म होगा। उच्च शिक्षा प्राप्त करने की मंशा रखने वाले जातकों की यह इच्छा पूरी हो सकती है। कुछ यात्राएं हो सकती हैं, जो आपके लिए लाभदायक रहेंगी।

 

मीन राशि

बुध का वक्री होकर तुला राशि में प्रवेश करना मीन जातको के लिए अच्छा संकेत नहीं दे रहा है। इन्हें धन लाभ तो होगा परंतु आपकी चिंताओं में वृद्धि होगी। जिसका असर आपके दांपत्य जीवन से लेकर कार्य व व्यापार पर पड़ेगा। इसलिए आपको इस समय धैर्य से काम लेना होगा। परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन आप अपने सूझबूझ से इसे बेहतर कर सकते हैं। सेहत में भी बदलाव हो सकता है। इसलिए आपको सेहत पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है।

एस्ट्रो लेख

बुध का वृश्चिक ...

इस 05 दिसंबर को बुध सुबह10 बजकर 46 मिनट पर राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। इस समय बुध तुला राशि में हैं परंतु 05 दिसंबर 2019 को यह राशि बदलकर वृश्चिक राशि में आ जाएंगे। जिसका आपके ऊ...

और पढ़ें ➜

स्कंद षष्ठी 201...

यदि आपके घर में कोई बहुत लंबे समय से बीमार है? आपको हमेशा पैसों की तंगी बनी रहती है? कड़ी मेहनत के बाद भी आपके संतान को सफलता नहीं मिलती है तो आपको हर माह हिंदू कैलेंडर के अनुसार. ...

और पढ़ें ➜

विवाह पंचमी 201...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-धर्ता भगवान श्र...

और पढ़ें ➜

विनायक चतुर्थी 2019

इस व्रत का भी उतना ही महत्व है जितना की हिंदू धर्म के अन्य व्रतों का है। यह व्रत भगवान गणेश को समर्पित है। इस तिथि को गणेश जी का जन्मदिन माना जाता है। गणेश चतुर्थी के अलावा हर महीन...

और पढ़ें ➜