Skip Navigation Links
Mother`s Day Special - इस मदर्स डे पर कैसे करें मां को प्रसन्न


Mother`s Day Special - इस मदर्स डे पर कैसे करें मां को प्रसन्न

मई के माह में जैसे-जैसे दूसरा रविवार निकट आता है वैसे-वैसे हम अपनी मां को खुश करने के तरीकों के बारे में सोचने लगते हैं और सोचें भी क्यों न? भई दूसरा रविवार आखिरकार मां के नाम तो होता है। माता के सम्मान में ही तो पूरी दुनिया में इस दिन को कहीं मातृत्व रविवार, ममतामयी रविवार (Mothering Sunday) तो कहीं मदर्स डे के रूप में मनाया जाता है। कुल मिलाकर दुनिया भर में इस दिन सभी बच्चे अपनी मां का सम्मान करते हैं और जीवन भर अपनी निष्काम, निस्वार्थ भावना से उनका पालन पोषण करने के लिये अपनी मां का धन्यवाद करते हैं। कोई इस दिन कीमती उपहार भेंट करता है तो कोई कुछ और प्लान करता है। तो चलिये आपको बताते हैं कि इस मदर्स डे पर आप कैसे अपनी मां को प्रसन्न कर सकते हैं? कैसे आ सकती है उनके चेहरे पर हंसी?

दिखाएं अपने बचपन की झलकियां - बच्चे चाहे कितने ही बड़े क्यों न हो जायें वह मां बाप के लिये तो बच्चे ही रहते हैं लेकिन भले ही वे आपको बच्चे समझें आप रहते तो व्यस्क ही हैं। इसलिये मदर्स डे पर आप अपनी मां के साथ ढेर सारी बातें करें, उन्हें अपने बचपन की यादों में ले जायें, बचपन के रोमांचक किस्से याद दिलायें, यदि आप के भाई-बहन भी हैं तो उनके साथ मिलजुलकर कुछ ऐसा प्लान कर सकते हैं कि घर में ही माता के सामने अपने बचपन के किस्सों की कोई नाटिका प्रस्तुत करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो निश्चित ही आप अपनी मां के चेहरे पर जो हंसी व संतोष देखेंगें उससे आपको संतुष्टि होगी।

मां से करें प्यार का इज़हार – प्यार को सिर्फ एक ही रिश्ते में नहीं बांधा जा सकता बल्कि अपने दिल के करीब हर शख्स के सामने आप अपना प्यार जता सकते हैं। हालांकि मां के प्रति अपना प्यार जताने की जरूरत तो नहीं होती लेकिन अच्छी चीज़ों को करने में हर्ज ही क्या है। इसलिये अपनी मां के प्रति अपने प्यार का इज़हार करने में किसी तरह की हिचक न मानें। उन्हें किसी भी तरीके से यह अहसास करायें कि आप उन्हें कितना प्यार करते हैं या फिर आपकी जिंदगी में उनके मायने क्या हैं।

पूरी करें उनकी अधूरी ख्वाहिशें – कोई भी मां अपने बच्चों को उपहार देने के लिये नहीं कहती। आप अपनी मर्जी से भले ही उन्हें कुछ लाकर दे दें। लेकिन यह बहुत बड़ा संकट होता है कि उन्हें गिफ्ट के तौर पर क्या दिया जाये। हमारे वश में हो तो हम पूरी दुनिया उनके कदमों में बिछा दें लेकिन उपहार भी अपने सामर्थ्यनुसार ही देना पड़ता है और उसकी सार्थकता तभी हो सकती है जब उससे मां को खुशी मिले। तो इसके लिये आपको अपनी मां के बारे में सोचने की आवश्यकता होती है। कभी-कभी आम तौर पर हमसे बातें करते हुए वे कुछ इच्छाएं जाहिर कर सकती हैं। अपनी कुछ अधूरी ख्वाहिशों को सामने रख देती हैं। बस आपको इन्हीं चीज़ों की पहचान करनी है और इस मदर्स डे पर कम से कम उनकी किसी एक इच्छा को पूरा करें।

यदि आप ऐसा करने में सफल होते हैं तो आप महसूस करेंगें कि आपने अपनी मां को दुनिया का सबसे अच्छा उपहार दिया है।

अपनी कुंडली दिखाकर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर जानें शंकाओं के समाधान। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

जगन्नाथ रथयात्रा 2018 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन्दू धर्मग्रन्थ ब्रह्मपुर...

और पढ़ें...
जगन्नाथ पुरी मंदिर - जानें पुरी के जगन्नाथ मंदिर की कहानी

जगन्नाथ पुरी मंदिर...

सप्तपुरियों में पुरी हों या चार धामों में धामसर्वोपरी पुरी धाम में जगन्नाथ का नामजगन्नाथ की पुरी भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उड़िसा प्रांत के प...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...
तुला राशि में बृहस्पति की बदली चाल – जानिए किन राशियों के करियर में आयेगा उछाल

तुला राशि में बृहस...

ज्ञान के कारक और देवताओं के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति की ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बहुत अधिक मान्यता है। गुरु बिगड़ी को बनाने, बनते हुए को बिगाड़ने में समर्थ माने ...

और पढ़ें...