Mother's Day 2022 - कब और किसने शुरुआत की मदर्स डे की जानें यहां

bell icon Sun, May 08, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Mother's Day 2022 - कब और किसने शुरुआत की मदर्स डे की जानें यहां

मां कौन इस शब्द की महिमा को नहीं जानता? जो जन्मा है वह मां के महत्व को भली भांति जानता है। मनुष्य ही नहीं बल्कि समस्त जीवों में माता के प्रति लगाव होता है और हो भी क्यों न आखिर मां ही तो है जो अपने मुंह में निवाला डालने से पहले अपनी संतान की भूख को शांत करती है। उसके सुख का ख़याल रखती है।

गर्भधारण से लेकर प्रजनन तक तो मां की पीड़ा को मां के सिवा कोई भी महसूस नहीं कर सकता। प्रजनन के बाद से लेकर जब तक शिशु होश नहीं संभाल लेता मां ही उसका संसार होती है। मां का महत्व तो इतना है कि उस पर तो हर दिन न्योछावर होना चाहिए, लेकिन आज के इस भागदौड़ भरे जीवन में जब सभी अपने घोंसलों से उड़ान भरने लगते हैं तो विशाल आसमां को देखने के चक्कर में मां कहीं विस्मृत हो जाती है। ऐसे में मदर्स डे की अहमियत काफी हो जाती है। तो आइये जानते हैं मातृ शक्ति के सम्मान के इस विशेष दिन मातृ दिवस यानि मदर्स डे स्पेशल (Mother’s Day Special) के बारे में।

मातृ दिवस 2022

  • जैसा कि पहले ही हम जानकारी दे चुके हैं कि मातृ दिवस। मई माह के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। वर्ष 2022 में मई माह का दूसरा रविवार 08 मई को है। इसलिये इस बार मां के प्रति न्यौछावर यह दिवस 08 मई को मनाया जा रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस दिन वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्‍तमी तिथि रहेगी। ज्योतिष में चंद्रमा क मां का कारक माना जाता है। कुंडली में चौथा भाव मां का होता है और चौथा भाव कर्क का होता है जिसका स्वामी चंद्रमा है। चंद्रमा के कमजोर और बली होने पर ही आपका आपकी मां के साथ संबंधों का पता चलता है। यदि आपकी कुंडली में चंद्रमा कमजोर है तो आपको अपनी मां की सेवा करनी चाहिए। इससे चंद्रमा मजबूत हो जाता है। कुंडली के पहले, चौथे, सातवें और दसवें घर में चंद्रमा शुभ फल देता है। 

कब, कैसे और क्यों शुरू हुआ मदर्स डे

वर्तमान में किसी भी चीज के इतिहास में झांकने का आईना गूगल बन गया है जहां चित्र भले ही धुंधले दिखाई दे या भिन्न शक्लों में दिखाई दें लेकिन कुछ न कुछ जानकारी इस सर्च इंजन से मिल ही जाती है। वर्तमान में जिस प्रकार मदर्स डे (Mother's day) मनाया जाता है यानी मई माह के दूसरे रविवार के दिन तो इसका इतिहास बताता है कि यह मदर्स डे को उत्सव के रूप में मनाये जाने का श्रेय एक अमेरिकन महिला एना जार्विस को जाता है जो कि अमेरिकन सिविल वॉर के दौरान एक शांति कार्यकर्ता थी और दोनों तरफ के जख्मी सैनिकों की देखभाल करती थी। एना मानती थी कि एक मां आपके लिये जो करती है वह दुनिया में और कोई भी नहीं कर सकता।

इसी कारण उन्होंने मदर्स डे को एक उत्सव के रूप में मनाये जाने की मुहिम छेड़ी। 1908 में उन्होंने ग्रेफ्टन, वेस्ट वर्जीनिया की सेंट एंड्रयू मेथडिस्ट चर्च में अपनी मां याद में एक सभा का आयोजन किया और दुनिया की समस्त माताओं का सम्मान किये जाने की अपील करते हुए इस दिन अवकाश घोषित करने का प्रस्ताव रखा। कई उतार-चढ़ावों और संघर्षों के बाद अमेरिका में स्थानीय स्तर पर तो यह लगभग इस दिन अवकाश घोषित हो चुका था। लेकिन इसकी आधिकारिक रूप से शुरुआत 8 मई 1914 अमेरिकी राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन द्वारा मदर्स डे को मई माह के दूसरे रविवार को माताओं के सम्मान में राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने के पश्चात हुई। भारत में मदर्स डे को मातृ दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में यह पिछले कुछ दशकों से अधिक चलन में आने लगा है। 

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर जानें कैसी है आपके ग्रहों की स्थिति क्या रहेगा भविष्य। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

मां के प्रति आपका कर्तव्य

आज के आधुनिक दौर में भौतिकवादी जीवन का प्रभाव कहें या पश्चिमी शैली का असर संयुक्त परिवार बिखर कर एकल परिवार होने लगे हैं। बच्चे मां-बाप से दूर रहने लगे हैं। व्यावसायिक मजबूरियां कहें या रिश्तों में दूरियां वर्तमान में इस तरह के दिनों की भूमिका अहम होती जा रही है। लेकिन सिर्फ मदर्स डे के दिन ही नहीं बल्कि हर एक दिन बच्चों को अपने माता-पिता के प्रति अपने दायित्वों के बारे में समझने की आवश्यकता है। विशेषकर अपनी जननी के प्रति तो बच्चों का और भी अधिक फर्ज बनता है।

जब बच्चे बड़े हो जायें तो उन्हें अपने माता पिता की देखभाल करनी चाहिये। जिस तरह बचपन से माता पिता बच्चों की बुनियादी जरूरतों को बिना कहे तो कुछ अनावश्यक जरूरतों को जिद्द के चलते पूरा करते आये हैं उसी तरह अब आपका फर्ज बनता है कि आप भी उनकी ज़रूरतों को समझें। हालांकि आप भले अपनी इच्छाओं के लिए माता पिता के सामने अड़ जाते हैं लेकिन माता पिता आपसे कभी नहीं कहेंगे उन्हें क्या चाहिये इसलिये यह आपको ही समझने की आवश्यकता है। यदि आप ऐसा करने में सक्षम हैं तो फिर आपके माता-पिता आपको पाकर खुद को धन्य समझेंगें।

आप सभी पाठकों को एस्ट्रोयोगी की ओर से मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

✍️ By- टीम एस्ट्रोयोगी

chat Support Chat now for Support
chat Support Support