गुरु परिवर्तन - सावधान ! इन पांच राशियों पर गिरेगी गुरु की गाज !

जिस तरह बृहस्पति का दर्जा देवताओं में गुरु का है और ग्रहों में भी उसे गुरुता हासिल है जिससे उन्हें सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है। इसी तरह ज्योतिषशास्त्र में भी बृहस्पति का कद बहुत बड़ा माना जाता है। बहुत सारे शुभ योग, शुभ कार्यों के लिये गुरु की शुभता बहुत ही आवश्यक मानी जाती है। यदि किसी जातक की कुंडली में गुरु को कोई अशुभ ग्रह देख रहा हो या फिर गुरु ही किसी अशुभ ग्रह के साथ विराजमान हों तो कार्यों में अड़चने आने लगती हैं। किसी का बृहस्पति अगर ख़राब चल रहा हो तो अच्छी सलाह देने वाला भी दुश्मन नज़र आने लगता है या उसकी सलाह दुश्मनों जैसी साबित होने लगती है। ऐसे में जब बृहस्पति का राशि परिवर्तन होता है तो इसके शुभाशुभ प्रभाव जानने के लिये जातक ज्योतिषाचार्यों के आकलन की प्रतीक्षा करने लगते हैं। 12 सितंबर को गुरु कन्या राशि से परिवर्तित होकर तुला राशि में प्रवेश कर रहे हैं। ऐसे में अपने इस लेख में हम अपने पाठकों को बता रहे हैं कि उन पांच राशियों के बारे में जिनके लिये गुरु का यह राशिपरिवर्तन छोटी से लेकर बड़ी परेशानियां तक पैदा करने के संकेत कर रहा है। तो आइये जानते हैं आखिर किन राशियों पर गुरु की गाज पड़ने वाली हैं। कौन सी राशियों को सावधान हो जाना चाहिये।

सिंह राशि - निर्णय लेने हो सकती है परेशानी

सिहं राशि के जातकों के लिये बृहस्पति कुछ मामलों में तो सकारात्मक रहेंगें लेकिन कुछ पक्ष हैं जिनके बारे में आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता होगी। दरअसल बृहस्पति आपकी राशि से तीसरे स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। इस समय आपके पराक्रम व धन में तो वृद्धि होगी लेकिन वह तभी संभव है जब आप निर्णय अच्छे से लेंगें और निर्णय लेने की स्थिति गुरु के प्रभाव से आपकी असमंजस की रह सकती है। आप किसी भी महत्वपूर्ण फैसले को लेने के मामले में दुविधा में पड़ सकते हैं। जल्दबाजी का तो खास तौर पर आपको ध्यान रखना है। जल्दबाजी नहीं दिखानी है। संयम से, विवेक से काम लेना है। गुरु आपकी भली करेंगें।

तुला राशि - सेहत पर दें ध्यान

चूंकि बृहस्पति तुला राशि में ही पधार रहे हैं इसलिये यह आपकी सेहत के लिये अच्छे संकेत नहीं कर रहे हैं। हालांकि पारिवारिक जीवन सुखमय और कामधंधा सही चलने के कारण इमोशनली और इकॉनमिकली तो आपको दिक्कत नहीं है। इसलिये शरीर में किसी भी तरह की पीड़ा के प्रति सचेत रहें। खान पान पर ध्यान देकर आप बच सकते हैं। मांसाहार का प्रयोग कुछ समय तक के लिये तो बिल्कुल न करें। मद्यपान से भी दूर रहना आपकी सेहत के लिये फायदेमंद रह सकता है। योगाभ्यास, शारीरिक व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करें लाभ मिलेगा।

वृश्चिक राशि – खर्चों से बढ़ सकती है चिंता

ज्योतिषीय आकलन के अनुसार बृहस्पति के परिवर्तन के पश्चात वृश्चिक जातकों के खर्चों में बढ़ोतरी के आसार हैं। दरअसल बृहस्पति इनकी राशि से 12वें स्थान में प्रवेश कर रहे हैं जो कि व्यय यानि खर्चों का स्थान माना जाता है। इतना ही नहीं धन के निवेश करने या फिर जहां पर निवेश कर रखा है वहां भी आपको हानि उठानी पड़ सकती है। पैसों के लेन-देन के मामले में भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता होगी।

मकर राशि – सफलता के लिये करनी होगी कड़ी मशक्कत

मकर जातकों के लिये बृहस्पति का राशि परिवर्तन बहुत खराब तो नहीं कहा जा सकता लेकिन आपको सफलता के लिये कड़ी मेहनत जरूर करनी पड़ सकती है। व्यवसायी जातकों को अपने प्रतिद्वंदियों से टक्कर लेने में पसीना आ सकता है। आपके लिये एक ही मंत्र है कि जो पाना चाहते हैं उसके लिये जी जान से मेहनत करें।

मीन – सेहत व आत्मबल कमजोर रहने के आसार

मीन जातकों के लिये बृहस्पति का परिवर्तन अष्टम भाव में हो रहा है। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही महत्वपूर्ण निर्णय लेने, साक्षात्कार आदि का सामना करने में भी आपका आत्मविश्वास कमजोर रह सकता है। आपके लिये सलाह है कि जितना हो सके धैर्य से काम लें। अपने आप में विश्वास रखें व संयम से परिस्थितियों का सामना करें। शारीरिक व्यायाम व योगासन से कुछ हद तक आप स्थिति को नियंत्रित कर सकते हैं।

ज्योतिषाचार्यों द्वारा किया गया यह आकलन सामान्य अध्ययन पर आधारित है। अपनी कुंडली के अनुसार गुरु आपके लिये क्या योग बना रहे हैं? या इस परिवर्तन से आपको लाभ होगा या हानि यह जानने के लिये हमारी सलाह है कि विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। एस्ट्रोयोगी पर आप देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से बात कर सकते हैं। अभी परामर्श करन के लिये यहां क्लिक करें।

एस्ट्रो लेख

सावन - शिव की प...

सावन का महीना और चारों और हरियाली। भारतीय वातावरण में इससे अच्छा कोई और मौसम नहीं बताया गया है। जुलाई आखिर या अगस्त में आने वाले इस मौसम में, ना बहुत अधिक गर्मी होती है और ना ही बह...

और पढ़ें ➜

गुरु पूर्णिमा 2...

गुरु गोविन्द दोनों खड़े काके लागू पाये, बलिहारी गुरु आपनी, जिन्हे गोविन्द दियो मिलाय। हिन्दू शास्त्रों में गुरू की महिमा अपरंपार बताई गयी है। गुरू बिन, ज्ञान नहीं प्राप्त हो सकता...

और पढ़ें ➜

सावन का दूसरा स...

सावन का पूरा महिना भगवान शिव की अराधना का महिना होता है। इस महिने में शिव पूजा, जलाभिषेक करने से अत्यंत लाभदायक फल इंसान को मिलते हैं। जिनका अपना अपना महत्व होता है। 2019 के सावन क...

और पढ़ें ➜

कितनी बार हो सक...

प्यार एक ऐसा एहसास है जिसे हर कोई महसूस करना चाहता है। एक बार प्यार रूपी इस धन को जो पा लेता है उसे इसे खोने मात्र की सोच ही भय व तनाव हो जाता है। लेकिन यह भी सत्य है कि सब के लिए ...

और पढ़ें ➜