अच्छे माता-पिता बनने के लिये क्या करें? ज्योतिष में हैं यह संकेत

क्या आप भी अपने बच्चों की निगाह में एक अच्छे माता-पिता बनना चाहते हैं? क्या आपके बच्चे आपकी बात नहीं सुनते हैं? आपसे दूर रहने की कोशिश करते हैं? तो आपको सचेत होने की जरूरत है। हो सकता है कि बच्चे किसी बात को लेकर परेशान हो और आप से वे न कह पा रहे हो। इसके अलावा भी कई कारण हैं जिनके वजह से आपका व आपके संतान के रिश्तों में दूरी आती है। इसमें आपकी कोई गलती नहीं है फिर भी आपके रिश्तों में खटास आ जाती है। ऐसा आपकी कुंडली व आपके संतान की कुंडली में बने ग्रह योग व दोष के कारण होता है। कुंडली में दोष? जी हां आपकी कुंडली में दोष। ऐसा होने पर भी आपके संबंधों में तनाव आना स्वभाविक है। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं हैं। लेकिन ज्योतिष में इन दोषों को समाप्त करने के उपाय भी मौजूद हैं। कहीं आपकी कुंडली में तो दोष नहीं है? जानने के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से।जो आपकी किसी भी समस्या का हल देने के लिए 24 घंटे मौजूद हैं। इसके साथी ही आज आपको इस लेख के जरिए ऐसी कई बातों को जानने व समझने का अवसर मिलने वाला है जिससे आप एक अच्छे माता-पिता बनने की ओर एक कदम और आगे बढ़ पाएंगे।

अच्छे माता-पिता कैसे बनें?

वर्तमान में हर जोड़ा एक आदर्श अभिभावक बनने की चाह रखता है। परंतु किन्हीं कारणों के चलते वे इसमें पूरी तरह से सफल नहीं हो पाते हैं। आज के युग में बच्चों की ख्वाहिश पूरी करना ही अच्छे माता-पिता बनने का एकमात्र पैमाना नहीं है। यदि आप सोचते हैं कि अपनी संतान की सुख सुविधाओं व उनकी इच्छा को पूरा करने से ही आप एक अच्छे अभिभावक बन सकते हैं तो आपको यहां विचार करने की जरूरत है। आपके बच्चे के लिए क्या ठीक है? कहीं आप उसकी हर इच्छा को पूरी करके उसे बिगाड़ तो नहीं रहें? यदि ऐसा है तो यह आपको भविष्य में बहुत ही महंगा सबित हो सकता है। सवाल वही है कैसे बने अच्छे माता-पिता? इसका जवाब आपको स्वंय से मिल सकता है। अपने आप से प्रश्न पूछें जो कुछ भी आप अपने बच्चे के लिए कर रहे हैं वह उचित व पर्याप्त है? की कुछ अतिरिक्त करने की आवश्यकता है? यहां हम आपको बता दें कि आपको कुछ अलग करन की आवश्यकता नहीं है। केवल आपको अपने बच्चे की समग्र विकास पर ध्यान देने की आवश्यकता है। खासकर शारीरिक, शिक्षा, संस्कार व सामाजिक पहलू पर। जिसमें आपकी सहायता ज्योतिषाचार्य कर सकते हैं।

ज्योतिष कैसे कर सकता है आपकी सहायता?

एक आदर्श माता-पिता बनने में ज्योतिष आपकी सहायता आपके बच्चे के जन्म के समय से ही कर सकता है। बच्चे के जन्म के बाद यदि आप किसी योग्य ज्योतिष के बच्चे की कुंडली का निर्माण करवाकर उसका आकलन करवाएं। आकलन के बाद निकले ज्योतिषीय निष्कर्ष के आधार पर अगर आप अपने बच्चे का लालन-पालन करते हैं तो आप निश्चित ही एक अच्छे माता-पिता बनने में सफल हो सकते हैं। खैर आज के आधुनिक दौर में कुंडली का निर्माण स्वयं किया जा सकता है। बस आपको जन्मतिथि, समय व सही स्थान की जानकारी होनी चाहिए। यदि आपके पास यह जानकारी है तो देर किस बात की? कुंडली बनाने के लिए यहां क्लिक करें। एक बार कुंडली बन जाने के बाद आप आसानी से ज्योतिषाचार्य की सहायता से यह जानने में सफल हो सकते हैं कि आपको अपनी संतान की परवरिश किस तरह करनी चाहिए। ज्योतिष आपके बच्चे की कुंडली का आकलन कर उसके स्वभाव, रूचि, गुण, अवगुण के साथ ही बच्चे की पढ़ाई किस क्षेत्र में करवाना ठीक होगा, वह जीवन में कितना सफल होगा? इसके बारे में आपको जानकारी उपलब्ध करवाते हैं। ऐसे में आपको ज्योतिषातार्य से परामर्श लेकर अपने बच्चे की परवरिश करनी चाहिए। प्राप्त जानकारी से आप एक अच्छे माता-पिता बनने में जरूर सफल होंगे। ज्योतिषीय परामर्श के लिए यहां क्लिक करें।

एस्ट्रो लेख

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜

परशुराम जयंती 2...

भगवान परशुराम वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन अवतरित हुए भगवान विष्णु के छठे अवतार थे। इन्हें विष्णु का आवेशावतार भी कहा जाता है क्योंकि इनके क्रोध की कोई सीमा नहीं थी। अपने पिता की हत्य...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया पर...

अक्षय तृतीया को विभिन्न कारणों से भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन द्वापर युग समाप्त होकर त्रेता युग की शुरुआत हुई थी। यह दिन भगवान विष्णु के अवतार परशुराम की जन्म दिवस के ...

और पढ़ें ➜