राशि के अनुसार क्या पालें? जानें कौन सा जीव है शुभ

हाल फिलहाल में आपने अनुभव किया होगा कि लोगों में जानवरों को पालने का चलन सा चल पड़ा है। कुछ लोगों को पक्षी या जानवर पालने का शौक भी होता है। कोई भी प्राणी या पक्षी पालने से पहले ज्योतिष तथा वास्तुशास्त्र की सलाह ली जानी चाहिए, क्योंकि जानवरों और पक्षियों में अनिष्ट तत्वों को रोकने की अद्भुत शक्तियाँ होती हैं। ज्योतिष व वास्तुशास्त्र के मुताबिक इस ब्रह्मांड में व्याप्त नकारात्मक शक्तियों को निष्क्रिय बनाने की ताकत इन पालतू प्राणियों में होती है।

शहरों में पालतु जानवर पालने का चलन

शहरों में आप अधिकतर घरों में ‘कुत्ते’ को पालतू जानवर के रूप में देखा होगा। जो लोग अकेले रहते हैं वे अपनी सुरक्षा के लिए वे कुत्ता पाल लेते हैं। तो वहीं कुछ लोग अपना मन बहलाने के लिए तोता घर में रखते हैं। कुत्ता ऐसा जानवर है जो केवल हजारों में ही नहीं, बल्कि लाखों के दाम पर बिकता है। दरअसल कुछ शौकिया लोग विदेशों से कुत्ता मंगवाकर पालते हैं। बता दें कि इस लेख में आपको ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किस राशि के जातक को कौन सा पक्षी या जानवर पालना चाहिए इसके बारे में बताया जाएगा। यदि व्यक्ति अपनी राशि को ध्यान में रखकर पक्षी या जानवर को अपने घर में रखता या पालता है तो वह उसके लिए शुभफलदायी सिद्ध होता है। आइए जानते हैं किस राशि के जातक को कौन सा पक्षी या जानवर घर में पालना चाहिए।

मेष राशि

मेष राशि के जातक आजाद ख्यालात के होते हैं। इसलिए इन्हें अपनी राशि के हिसाब से कुत्ता पालना चाहिए। जो मेष राशि के जातकों के लिए शुभफलदायी है।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातक अपने वचन के प्रति प्रतिबद्ध होते हैं। इस राशि के जातक यदि किसी चीज के लिए मन बना ले तो उसे कर के ही रहते हैं। वृषभ राशि वालों के लिए बिल्ली व खरगोश पालना बेहद शुभ रहता है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातक अच्छे वक्ता होते हैं। इस राशि के जातक किसी पक्षी को घर में रखने का मन बना रहे हैं तो इन्हें तोते को घर में लाना चाहिए।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातक बड़े ही संवेदनशील होते हैं। इसलिए इन्हें अपनी राशि के अनुसार हैम्स्टर पालना चाहिए। माना जाता है कि हैम्स्टर संवेदनशील जानवर है। इसके अलावा आप गाय भी पाल सकते हैं ये कर्क राशि के जातकों के लिए अधिक शुभफलदायी हैं। क्या है आपके कुंडली में मंगल दोष ? जानने के लिए बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातक प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनि होते हैं। इस राशि के जातकों को घोड़ा पालना चाहिए। इस के अलावा ये बिल्ली भी पाल सकते हैं। माना जाता है कि बिल्ली व सिंह में अनुवांशिक संबंध होने के कारण ये सिंह राशि के जातको के लिए शुभफलदायी हैं।

कन्या राशि

कन्या राशि के हिसाब से इस राशि के जातकों को मछली पालन करने से काफी लाभ होगा। यदि यह चाहें तो घर में फिश टैंक रख सकते हैं।

तुला राशि

तुला राशि के जातक कलात्मक तथा प्रकृति के सौंदर्य के मध्य रहना पसंद करते हैं। ऐसे में इनके लिए तोता घर में रखना लाभदायक है। ये पर्शियन बिल्ली भी पाल सकते हैं।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के जातक चंचल स्वभाव के होते हैं। इन्हें अपनी राशि के अनुसार कुत्ता पालना चाहिए। यदि ये चाहें तो बिल्ली और घोड़ा भी पाल सकते हैं।

धनु राशि

धनु राशि के जातक आज़ाद ख्यालात के होते हैं। इनके लिए आत्मनिर्भता सबसे ज्यादा मायने रखती है। इसलिए इन्हें कछुआ या मछलियां पालनी चाहिए।

मकर राशि

मकर राशि के जातक बड़े ही मेहनती होते हैं अगर किसी कार्य को करने की ठान ले तो उसे पूरा करके ही छोड़ते हैं। इन्हें अपनी राशि के अनुसार गाय या कुत्ता पालना चाहिए।

कुंभ राशि

कुंभ राशि वालों को अपने लाइफ में किसी भी तरह की दखलअंदाजी पसंद नहीं होती। इनके लिए खरगोश और कुत्ता पालना बेहद शुभ साबित होगा।

मीन राशि

मीन राशि के जातक लगनशील और मनमौजी प्रवृत्ति के होते हैं। इसलिए इस राशि के जातकों को सफेद चूहा पालना चाहिए।

एस्ट्रो लेख

बुध का वृश्चिक ...

इस 05 दिसंबर को बुध सुबह10 बजकर 46 मिनट पर राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। इस समय बुध तुला राशि में हैं परंतु 05 दिसंबर 2019 को यह राशि बदलकर वृश्चिक राशि में आ जाएंगे। जिसका आपके ऊ...

और पढ़ें ➜

स्कंद षष्ठी 201...

यदि आपके घर में कोई बहुत लंबे समय से बीमार है? आपको हमेशा पैसों की तंगी बनी रहती है? कड़ी मेहनत के बाद भी आपके संतान को सफलता नहीं मिलती है तो आपको हर माह हिंदू कैलेंडर के अनुसार. ...

और पढ़ें ➜

विवाह पंचमी 201...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-धर्ता भगवान श्र...

और पढ़ें ➜

विनायक चतुर्थी 2019

इस व्रत का भी उतना ही महत्व है जितना की हिंदू धर्म के अन्य व्रतों का है। यह व्रत भगवान गणेश को समर्पित है। इस तिथि को गणेश जी का जन्मदिन माना जाता है। गणेश चतुर्थी के अलावा हर महीन...

और पढ़ें ➜