Skip Navigation Links
प्रियंका चोपड़ा - बृहस्पति की महादशा से है भाग्य बुलंद


प्रियंका चोपड़ा - बृहस्पति की महादशा से है भाग्य बुलंद

हर फ़िल्म में एक नए अवतार और अंदाज़ के लिये मशहूर, प्रियंका चोपड़ा, अपने फ़िल्मी करियर में अब तक कुल 86 अवार्ड्स अपने नाम कर चुकी हैं। जिनमें प्रमुख अवार्ड्स हैं- 1 नेशनल फ़िल्मफेयर अवार्ड, 4 फ़िल्मफेयर और आईफा अवार्ड्स, 6 स्क्रीन अवार्ड्स और 7 स्टार गिल्ड अवार्ड्स। प्रियंका चोपड़ा का जन्म 18 जुलाई 1982 को जमशेदपुर, झारखण्ड में हुआ। प्रियंका कभी साफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती थीं पर किस्मत ने इनके लिए शायद कुछ और ही सोच रखा था। सन 2000 में मिस इंडिया मुकाबले में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई आईं और मॉडलिंग के साथ-साथ जय हिंद कॉलेज में एडमिशन ले लिया। इसी साल मिस इंडिया मुकाबले में हिस्सा लेकर 'मिस इंडिया वर्ल्ड' चुनी गईं। इन्होनें सन 2002 में तमिल फिल्म से फिल्मी दुनिया में प्रवेश किया। साल 2003 में फ़िल्म 'द हीरो- एक जासूस की प्रेम कथा' से इन्होनें बॉलीवुड में सफल शुरूआत की थी। वर्तमान में वह हॉलीवुड में अपनी सफलता के झंडे गाड़ रही हैं। क्वांटिको सीरीज़ को काफी सफलता भी मिली है हाल ही में उनकी हॉलीवुड फिल्म बेवॉच भी आ चुकी है। 

आगामी 18 जुलाई को प्रियंका चोपड़ा अपना 35 वां जन्मदिन मनाने जा रही हैं। प्रियंका चोपड़ा के जन्मदिन के मौके पर, आइये एक नजर डालते हैं कि इनका आने वाला साल इनके लिए कैसा रहेगा-

नाम- प्रियंका चोपड़ा

जन्म तिथि- 18 जुलाई 1982

जन्म स्थान- जमशेदपुर

जन्म समय- 00:30:00 

उपरोक्त विवरण के अनुसार प्रियंका चौपड़ा का जन्म मेष लग्न में रोहिणी नक्षत्र के तीसरे चरण में हुआ। इनकी चंद्र राशि वृषभ है। इनके लग्न स्वामी मंगल हैं तो राशि स्वामी शुक्र। यही कारण है कि ये एक ऊर्जा से भरपूर, झुझारू कलाकार हैं और बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं। अभिनय से लेकर संगीत तक में अपनी छाप छोड़ चुकी हैं। वर्तमान में इन पर बृहस्पति की महादशा चल रही है जो कि इनकी कुंडली के अनुसार भाग्य के स्वामी भी हैं। वहीं इनकी अंतरदशा में बुध चल रहे हैं तो प्रत्यंतर में शनि गोचर कर रहे हैं। 

मेष लग्न में जन्म लेने वाले व्यक्ति निरंतर आगे बढ़ने का प्रयास करते रहते हैं। इन लोगों को एक जगह रूकना कभी पसंद ही नहीं आता है। इनके बड़े लक्ष्य रहते हैं। जल्दी क्रोधित हो जाना इनका स्वभाव होता हैं। प्रियंका चोपड़ा भी इन्हीं गुणों से संबंध रखती हैं।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों के अनुसार, प्रियंका चोपड़ा की कुंडली के अन्दर मेष लग्न में बृहस्पति भाग्य का कारक है, इस कारण से इनका भाग्य निरंतर इनका साथ दे रहा है और पैसे एवं मान-सम्मान में वृद्धि हो रही है। 

इनकी कुंडली के अनुसार भाग्येश बृहस्पति के साथ बुध का संबंध पंचम नवम का हो रहा है जो कि बहुत ही सौभाग्यशाली है। यही कारण है कि प्रियंका चौपड़ा क्वांटिको,  बेवाच आदि के जरिये अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कर चुकी हैं। भविष्य में भी अंतर्राष्ट्रीय सिनेमा में उनका कद और बड़ा होने की संभावना है। साल जुलाई 2017 में बृहस्पति के कन्या राशि में आ जाने से इनको अपनी निजी ज़िन्दगी में कोई शुभ समाचार मिल सकता है।

सूर्य के चतुर्थ स्थान पर विराजमान होने के कारण, प्रियंका चोपड़ा नई ऊर्जा शक्ति को प्राप्त कर रही हैं। इनका आत्मबल और आत्मविश्वास में निरंतर वृद्धि हो रही है। एस्ट्रोयोगी की इनको सलाह है कि अपने व्यस्त समय में से समय निकालकर, स्वास्थ्य और अपने निजी जीवन का ध्यान जरूर रखें। 

एस्ट्रोयोगी प्रियंका चोपड़ा को इनके जन्मदिवस की बधाई देता है और उम्मीद करता है कि आगामी समय इनके लिए अच्छा रहेगा।

आपकी कुंडली के अनुसार ग्रहों की दशा क्या कहती है? कैसा रहेगा आने वाला समय आपके लिये जानने के लिये परामर्श करें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। ज्योतिषी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...