Skip Navigation Links
राम नाथ कोविंद की कुंडली में हैं राष्ट्रपति बनने के योग?


राम नाथ कोविंद की कुंडली में हैं राष्ट्रपति बनने के योग?

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर काफी गहमागहमी के बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों की ओर से राष्ट्रपति उम्मीद्वारों के नाम तय हो चुके हैं। राजनीतिक समीकरणों से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीद्वार और बिहार राज्य के पूर्व राज्यपाल राम नाथ कोविंद का राष्ट्रपति बनना लगभग तय माना जा रहा है। राम नाथ कोविंद की कुंडली का ज्योतिषीय अध्ययन करने के पश्चात भी इनके राष्ट्रपति बनने की प्रबल संभावनाएं जताई जा रही हैं। आइये जानते हैं राम नाथ कोविंद की कुंडली में वे कौनसे योग हैं जो राष्ट्रपति उम्मीद्वार के रूप में इनकी दावेदारी को मजबूत बना रहे हैं।

राम नाथ कोविंद की कुंडली

नाम – रामनाथ कोविंद

जन्मतिथि – 5 सितंबर 1946

जन्म समय – 19:46

जन्म स्थान – परोंख, डेरापुर, कानपुर, उत्तर प्रदेश, भारत।

उपरोक्त विवरण के अनुसार राम नाथ कोविंद की जन्म कुंडलिका मीन लग्न व धनु राशि की है। मूल नक्षत्र के चौथे चरण में इनका जन्म हुआ है। वर्तमान में इन पर बृहस्पति की महादशा तो शुक्र का अंतर व चंद्र का प्रत्यंतर चल रहा है।

कुंडली में गुरु-शुक्र की युति बना रही है राष्ट्रपति बनने के योग

इनकी कुंडलिका का आकलन किया जाये तो इनकी कुंडली के अनुसार देव गुरु बृहस्पति इनके लग्न मीन व इनकी चंद्र राशि धनु के स्वामी हैं। लग्नेश व राशेश बृहस्पति शुक्र के साथ युति बनाकर अष्टम भाव में बैठे हुए हैं जो कि इनके लिये राजयोग का निर्माण कर रहे हैं।

शनि की साढ़ेसाती दे सकती है अंतिम चरण में धोखा

कर्मभाव में शनि की साढ़ेसाती भी इन पर चल रही है। इन्हें राष्ट्रपति पद के लिये एक प्रबल दावेदार तो माना जा रहा है लेकिन शनि की साढ़ेसाती कई बार अंतिम चरण में धोखा देने वाली भी साबित होती है। फिर भी ग्रहों की दशा एवं कुंडली में राजयोग के चलते इनका भाग्य प्रबल रहने के आसार हैं। यही कारण है कि कोविंद संघर्षों के बावजूद राष्ट्रपति उम्मीद्वार तक का सफर तय कर पाये हैं।

जन्म तिथि और कुंडली विवरण हैं भिन्न

हालांकि श्री राम नाथ कोविंद जी की कुंडली जो उपरोक्त विवरण के अनुसार बनी है उसकी पुष्टि अन्य ज्योतिषीय पोर्टल से भी हुई है लेकिन वहीं विकिपीडिया सहित उनके जीवन परिचय को प्रकाशित करने वाले विभिन्न वेब पोर्टल से रामनाथ कोविंद की जन्मतिथि का मिलान किया जाये तो वह भिन्न प्राप्त होती है। विकिपीडिया के अनुसार इनका जन्म 1 अक्तूबर 1945 को हुआ था। इस तिथि के अनुसार इनके जन्म का समय उपलब्ध नहीं है। यदि इस जन्मतिथि को आधार मानकर उनकी कुंडलिका का आकलन करें तो विवरण कुछ इस प्रकार होगा।

नाम – रामनाथ कोविंद

जन्मतिथि – 1 अक्तूबर 1945

जन्म समय – 00:00 (अज्ञात)

जन्म स्थान – परोंख, डेरापुर, कानपुर, उत्तर प्रदेश, भारत।

इस विवरण से इनकी कुंडलिका मिथुन लग्न एवं कर्क राशि की बनती है। पुष्य नक्षत्र में इनका जन्म माना गया है। वर्तमान में इन पर मंगल की महादशा, केतु का अंतर तो शुक्र का प्रत्यंतर चल रहा है।

अंगारक दोष है राजनीति के लिये प्रतिकूल

लग्न में मंगल के साथ राहू विराजमान होने से इनके लिये अंगारक दोष बना हुआ है जो कि राजनीति के क्षेत्र में प्रतिकूल माना जाता है इसी पीड़ित मंगल की दशा भी इन पर चल रही है। कर्मेश बृहस्पति सूर्य के साथ अस्त होने से इस कुंडलिका के अनुसार इनके राजयोग में कमी को दर्शाते हैं। भाग्येश शनि भी वर्तमान में वक्र दशा के हैं जो कि पूर्ण रूप से सहायक नहीं माने जा सकते। यदि यह विवरण सत्य माना जाये तो ज्योतिषीय आकलन के अनुसार इनके राष्ट्रपति बनने की संभावनाएं कम नज़र आती हैं।

कुल मिलाकर सटीक जन्मतिथि व जन्मसमय के अभाव में किसी निष्कर्ष पर पंहुचना बहुत मुश्किल है लेकिन अभी तक बने राजनीतिक समीकरणों से रामनाथ कोविंद का विपक्ष की उम्मीद्वार और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को पराजित करना तय माना जा रहा है। 

आपकी कुंडली में कौनसे योग हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...