सपना चौधरी - क्या कहती है हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की कुंडली?

सपना चौधरी - क्या कहती है हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की कुंडली?


सपना चौधरी को हरियाणा की डांसिंग क्वीन कहा जाता है। 25 सितंबर 1990 को रोहतक में जन्मी सपना चौधरी नृत्य कला में बचपन से ही रूचि रखती थी। सपना के पिता एक गैर-सरकारी संगठन में कर्मचारी थे। जिनका देहांत 2007 में हुआ। तब सपना महज 18 वर्ष की थीं। परिवार की जिम्मेदारी अब सपना पर आ गई जिसके बाद सपना ने अपने शौक को ही अपने करियर के रूप में चुना। इसी के दम पर सपना शौहरत और नाम कमाने में सफल हुईं। बिग बॉस में आने से पहले सपना को हरियाणा के आस- पास के राज्यों में ही जाना जाता था लेकिन बिग बॉस 11 के संस्करण में आने के बाद सपना को पूरे भारत वर्ष में जाना जाने लगा। इसके बाद ही सपना ने बॉलीवुड की कई फिल्मों में आइटम साँग्स किया। जिनमें नानू की जानू, वीरे दी वेडिंग, जर्नी आफ़ भाँगओवर, दोस्ती के साइड इफेक्ट शामिल हैं जिसके चलते भी सपना के प्रशंसकों की संख्या में इजाफा हुआ। सपना की अदाओं का जादू आज लाखों दिलों पर छाया हुआ है।

यह भी पढ़ें - सनी लियोन - क्या कहती है करनजीत कौर की कुंडली?

सपना चौधरी से जुड़ी हर छोटी से छोटी बातों को इनके प्रशंसक जानना चाहते हैं, ऐसे में एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर ने सपना के ग्रहों की दिशा तथा दशा का आकलन कर इनके लिए यह वर्ष कैसा रहेगा इसकी जानकारी दी है जिसे हम आपके लिए यहां प्रस्तुत कर रहे हैं।

नाम – सपना चौधरी

जन्म दिनांक – 25 सितंबर 1990

जन्म स्थान - रोहतक, हरियाणा

जन्म समय – 12:00 दोपहर

सपना चौधरी का जन्म वृश्चिक लग्न व जेष्ठा नक्षत्र के पहले चरण में हुआ है। जन्म समय के अनुसार इनकी राशि वृश्चिक बनती है। वर्तमान में इनकी कुंडली में शुक्र की महादशा चल रही है। अंतरदशा में मंगल और प्रत्यंतर दशा में शुक्र चल रहे हैं। इनकी कुंडली में करियर के घर में लाभ के स्वामी बुध के साथ शुक्र बैठे हैं। जो करियर को चमकाने का काम करेंगे। इससे जातक को मान-सम्मान व पैसे की कमी नहीं होगी। शुक्र का संबंध नृत्य व गायन से होता है। यदि जातक इन क्षेत्रों में से किसी क्षेत्र को अपने करियर के रूप में चुने तो जातक अपने काम से जीवन में नाम व शोहरत कमाने में सफल होता है। कुटुंब व शिक्षा के घर के स्वामी बृहस्पति सपना की कुंडली में भाग्य स्थान में उच्च का होकर बैठे हुए हैं। लेकिन कुटुंब के भाव में शनि मृत अवस्था में बैठे हैं जिससे बृहस्पति का लाभ सपना को शिक्षा के क्षेत्र में नहीं मिला होगा। क्योंकि शनि का कुटुंब के भाव में मृत अवस्था में बैठना कुटुंब में किसी समस्या के कारण शिक्षा को छोड़ना पड़ गया होगा। कुंडली में चंद्रमा का नीच का होकर लग्न में बैठना मन को अस्थिर करता है। मन बेचैन रहता है और किसी क्षेत्र में जातक अपने आप को स्थिर नहीं कर पाता है।

क्या है आपकी कुंडली में बुध आदित्य योग? जानने के लिए बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

वृश्चिक लग्न वाले गरम स्वभाव के होते हैं लेकिन चंद्रमा का त्रिकोण का स्वामी होकर लग्न (केंद्र) में बैठना जातक को क्रोध में भी शीलता प्रदान करता है। चंद्रमा का लग्न में नीच का होकर बैठना शुभ व अशुभ दोनों तरह के परिणाम देने वाला बन जाता है। शुभ परिणाम, जीवन में भाग्य का स्वामी होकर लग्न (केंद्र) में बैठना जीवन में सुख, संपत्ति, मान-सम्मान देने वाला होता है और अशुभ परिणाम के लिए चंद्रमा का नीच का होकर बैठना समाज के द्वारा बदनामी व अशुभ टीका- टिप्पणी करने वाला बन जाता है। इस साल के लिए राहु का इनकी कुंडली में तीसरे भाव में बैठना इनको नृत्य से निकालकर राजनीतिक क्षेत्र में भी अग्रसर कर सकता है। करियर की दृष्टि से देखा जाए तो यह साल सपना के लिए थोड़ा उतार-चढ़ाव भरा रहने वाला है। कुछ अच्छे फैसले तो कुछ गलत परिणाम भी प्राप्त होंगे। लेकिन वर्ष कुंडली में सूर्य बुध का भाग्य में बैठना बुध आदित्य योग बना देता है जो भाग्य को चमकाने का काम करता है। क्योंकि महादशा शुक्र व अंतरदशा मंगल की चल रही है। ये दोनों ग्रह प्रेम के कारक ग्रह माने जाते हैं जब ये दोनों महादशा व अंतरदशा में चलते हैं तब प्रेम की ओर भी जातक का मन आकर्षित होता है। उस समय रिश्ते भी आते हैं व उनमें से  किसी के साथ कुंडली का मैच भी होना संभव हो जाता है। कुल मिलाकर सपना चौधरी की कुंडली के अनुसार ये साल धन, प्रेम व मान सम्मान देने वाला रहेगा।

एस्ट्रो लेख



Chat Now for Support