Skip Navigation Links
श्रद्धा राम फिल्लौरी - जिसने लिखी आरती ओम जय जगदीश हरे


श्रद्धा राम फिल्लौरी - जिसने लिखी आरती ओम जय जगदीश हरे

ओम जय जगदीश हरे घरों से लेकर मंदिरों तक सुबह-शाम गायी जाने वाली आरती, एक आरती जिसे गाने व सुनने वाले अपने आप को धन्य समझते हैं। एक आरती जिसके हर शब्द से आस्था का असीम व गहरा सागर हृद्य में उमड़ आता है। एक आरती जिसे गाकर व सुनकर दिल को तसल्ली मिलती है। एक उम्मीद जगती है कि प्रभु सबके संकटों को दूर कर लेंगें। एक ऐसी आरती जिसमें जीवन का हर नाता, हर कष्ट परमात्मा को समर्पित है। ओम जय जगदीश हरे यह सिर्फ एक आरती नहीं बल्कि प्रभु की महिमा का गान करने वाली पवित्र माला है जिसका हर शब्द एक मोती के समान पिरोया हुआ है। बहुत कम लोग जानते हैं कि शब्द रुपी मोतियों को एक माला के रुप में किसने पिरोया अर्थात इस आरती की रचना किसने की। तो आइए आपको बताते हैं इस आरती के रचयिता के बारे में।

ओम जय जगदीश हरे के रचयिता थे श्रद्धा राम फिल्लौरी। इनका जन्म 30 सितंबर 1837 को पंजाब प्रांत में जालंधर के कस्बे फिल्लौर में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। पिता जयदयालु पेशे से ज्योतिषाचार्य थे। इनके जन्म पर ही उन्होंनें बालक के प्रतिभावान व प्रसिद्ध होने की भविष्यवाणी की थी जो कालातंर में सच भी साबित हुई। मात्र सात साल की उम्र में उन्होंने गुरुमुखी सीख ली थी। इसके बाद इन्होंने हिंदी, संस्कृत, पर्शियन, ज्योतिष शास्त्र व संगीत का ज्ञान लिया।

श्रद्धा राम फिल्लौरी सनातन धर्म के एक अच्छे मिशनरी व समाज सुधारक तो थे ही साथ ही हिंदी व पंजाबी साहित्य में गद्य साहित्य की नई विधाओं का चलन करने वालों में भी उनका नाम लिया जाता है। हिंदी साहित्य के कुछ विद्वान तो इनके उपन्यास भाग्यवती को हिंदी का पहला उपन्यास मानते हैं। फिल्लौरी अपनी रचनाओं सत्य धर्म मुक्तावली एवं शतोपदेश से तुलसी व सुर की परंपरा के भक्तकवि के रुप में स्थापित हो गए थे। गुरुमुखी में सिक्खां दे राज दी विथिया एवं पंजाबी बातचीत दो गद्यात्मक रचनाएं उन्होंने लिखी जिस कारण उन्हें आधुनिक पंजाबी गद्य जनक कहा जाता है।

हिंदी साहित्य के जाने माने आलोचक रामचंद्र शुक्ल ने उनके बारे में लिखा है, ‘‘उनकी भाषा प्रभावशाली एवं भाषण सम्मोहक होती थी। वे एक सच्चे हिंदी प्रेमी एवं अपने समय के प्रभावी लेखक थे।’’

हिंदी व पंजाबी साहित्य और हिंदू समाज को अपनी रचनाएं सौंपकर 24 जून 1881 को लाहौर में श्रद्धा राम फिल्लौरी हम से विदा ले गए। 





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...
सर्वपितृ अमावस्या – इस दिन करें सभी पितरों के लिये श्राद्ध

सर्वपितृ अमावस्या ...

आश्विन मास वर्ष के सभी 12 मासों में खास माना जाता है। लेकिन इस मास की अमावस्या तिथि तो और भी महत्वपूर्ण मानी जाती है। इसकी सबसे बड़ी वजह है प...

और पढ़ें...
शुक्र परिवर्तन 15 सितंबर 2017 – क्या रहेगा आपका राशिफल?

शुक्र परिवर्तन 15 ...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली...

और पढ़ें...