Skip Navigation Links
वृषभ संक्रांति – वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल


वृषभ संक्रांति – वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन से सौर वर्ष के मास की गणना भी की जाती है। सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहा जाता है। मेष राशि से वृषभ राशि में सूर्य का संक्रमण वृषभ संक्रांति कहलाता है जो कि 15 मई को हो रहा है। वृषभ राशि में आने पर सूर्य किस राशि के जातकों के लिये लाभदायक रहेगें तो किन जातकों को जरूरत रहेगी संभलने की आइये जानते हैं।


वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल


मेष – मेष राशि वालों के लिये सूर्य का राशि परिवर्तन धन भाव में होने से यह समय आपके लिये शुभ रहने के आसार हैं। सूर्य आपके लिये धन प्राप्ति के योग बना रहा है। करियर के मामले में भी आपके लिये कार्योन्नति के योग बन सकते हैं। पर्सनल लाइफ में भी सोहार्द कायम रह सकता है। स्वास्थ्य भी सामान्य बने रहने के आसार हैं।

वृषभ – सूर्य आपकी राशि में ही प्रवेश करेंगें जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा हालांकि अपनी सेहत के प्रति आपको सचेत रहने की आवश्यकता है। रोगोत्पत्ति के योग बन सकते हैं। कामकाज के लिये यह समय ठीक-ठाक रहने के आसार हैं। हालांकि जो लोग डेस्क जॉब में हैं उन्हें शानदार परिणाम भी मिल सकते हैं। कृषि एवं मार्केटिंग वालों के लिये भी अच्छा समय है। स्वास्थ्य बेहतर रहने के आसार हैं। इस समय आपको अपनी रोमांटिक लाइफ में थोड़ी बहुत परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है।

मिथुन – मिथुन जातकों के लिये सूर्य का परिवर्तन हो सकता है उत्साहजनक न रहे। 12वें भाव में सूर्य आपके लिये धन हानि के संकेत कर रहे हैं। आपकी यात्राएं भी बढ़ सकती हैं। इस समय अपनी सेहत का ध्यान अवश्य रखें विशेषकर स्किन व गले संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

कर्क – कर्क जातकों के लिये सूर्य का वृषभ में आना बहुत ही अच्छा रहने के आसार हैं। आपकी राशि से सूर्य लाभ स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। इस समय आप धन लाभ की उम्मीद कर सकते हैं, साथ ही आपके मान-सम्मान में भी वृद्धि होने के आसार हैं। नया व्यवसाय, नई नौकरी शुरु करने के अवसर मिल सकते हैं। कार्योन्नति के भी संकेत आपके लिये बन रहे हैं। रोमांटिक लाइफ में भी पार्टनर की सपोर्ट आपको मिल सकती है। इस दौरान कहीं घुमने की योजना भी पार्टनर के साथ बना सकते हैं।


सिंह – सूर्य परिवर्तित होकर आपके कर्म क्षेत्र में आ रहे हैं जो कि आपके लिये बहुत अच्छी उन्नति के संकेत कर रहे हैं। इस समय आप आत्मविश्वास से लबरेज रह सकते हैं। वरिष्ठ अधिकारियों से भी आपको अपने कार्य के लिये प्रशंसा सुनने को मिल सकती है। जो जातक नौकरी बदलने के इच्छुक हैं उन्हें बेहतर अवसर मिल सकते हैं। व्यवसायी जातक भी अपने व्यवसाय को विस्तार देना चाहते हैं तो यह समय आपके लिये सही रहने के आसार हैं। लाइफ पार्टनर की पूरी सपोर्ट आपको रहेगी। इस पूरे समय आपको अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्याकता है। स्वास्थ्य सामान्य बने रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

कन्या – सूर्य का यह परिवर्तन आपके भाग्य स्थान में होने से भाग्योन्नति के संकेत हैं। पूर्व में यदि आप किसी छोटी-मोटी शारीरिक अस्वस्थता से झूझ रहे हैं तो उससे निजात मिल सकती है। आत्मबल मजबूत बना रहेगा। पैतृक संपत्ति से भी आपको लाभ मिलने के आसार हैं। रोमांटिक लाइफ में भी पार्टनर से आपकी खूब पटेगी। रोमांस का लुत्फ उठा सकते हैं। जो जातक विवाह करने के इच्छुक हैं खासकर प्रेम विवाह उनके लिये भी उचित समय रह सकता है। कुल मिलाकर सूर्य का वृषभ राशि में आना आपके जीवन में सुख समृद्धि आने के संकेत कर रहा है।

तुला – तुला जातकों के लिये सूर्य का वृषभ में प्रवेश करना शुभ संकेत नहीं है। अष्टम भाव के सूर्य आपके मनोबल में कमी के संकेत कर रहे  हैं। तन मन और धन यानि हर तरफ से आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। घर से लेकर दफ्तर तक किसी से भी उलझने का प्रयास न करें। शांत बने रहने में ही भलाई है। ध्यान व योग क्रियाएं आपकी सहायक हो सकती हैं।

वृश्चिक – वृश्चिक जातकों को भी सप्तम भाव में सूर्य का राशि परिवर्तन होने से परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। विशेषकर अपने प्रेमजीवन के प्रति आपको अतिरिक्त सावधान रहने की जरुरत है। अपने साथी के साथ मतभेद पैदा हो सकते हैं। विवाहित जातकों के घरेलू जीवन में भी अशांति का वातावरण हो सकता है। अपने साथी की भावनाओं की कद्र करें व उन पर विश्वास करें व उन्हें भी अपने दिल के करीब लाने के प्रयास करें। जो जातक जॉब में चेंज के इच्छुक हैं उनके लिये समय अच्छा है। हां व्यवसायी जातक अपने बिजनेस में किसी भी तरह के बदलाव से इस समय बचें तो बेहतर रहेगा।

धनु – छठे स्थान में सूर्य का यह परिवर्तन धनु जातकों के लिये मिले जुले परिणाम लेकर आ सकता है। इस समय आपको सफलता पाने के लिये काफी पसीना बहाने की आवश्यकता रहेगी। अथक मेहनत के बावजूद अपेक्षित परिणाम न मिलने से निराशा का भाव भी आपमें उत्पन्न हो सकता है। लेन-देने के मामलों में सतर्कता बरतें। यदि कोई मामला अदालत में चल रहा है तो माहौल आपके पक्ष में हो सकता है। पर्सनल लाइफ में आपको थोड़ी राहत महसूस हो सकती है। हालांकि स्वास्थ्य के मामले में गरमी के कारण उदर संबंधी समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है।

मकर – सूर्य का पंचम भाव में परिवर्तन आपके लिये शुभ कहा जा सकता है। विशेषकर संतान पक्ष की ओर से आपको कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है। शिक्षा प्राप्ति के लिये संतान को आपसे दूर जाना पड़ सकता है। वहीं कार्यक्षेत्र में भी आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने के आसार हैं। धन प्राप्ति के योग भी बन रहे हैं। राजनीति से जुड़े जातकों के लिये भी समय अच्छा है। स्वास्थ्य लाभ मिलने के आसार भी हैं।

कुंभ – सुख भाव में सूर्य का आना माता की सेहत को लेकर आपकी चिंता बढ़ा सकता है। हालांकि दोस्तों परिजनों की मदद से आपको राहत मिलेगी। जो जातक लंबे समय से वाहन खरीदने के लिये प्रयासरत हैं वे नई गाड़ी लेकर घर आ सकते हैं। स्वास्थ्य व रोमांटिक लाइफ भी बेहतर बनी रहने के आसार हैं।

मीन – आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन तीसरे स्थान में हो रहा है। यह समय आपके पराक्रम में वृद्धि करने वाला है। अपने भाई-बहनों के साथ भी आपके संबंध बेहतर रहने की उम्मीद है। पिता द्वारा मान-सम्मान मिल सकता है। कुल मिलाकर भाग्य की अगर बात की जाये आपके लिये सूर्य का यह परिवर्तन सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं। प्रोफेशनल लाइफ सामान्य बनी रहने के आसार हैं। रोमांटिक लाइफ में भी रिश्ते मधुर बने रहेंगें। हालांकि अपनी सेहत का आपको थोड़ा ध्यान रखने की आवश्यकता रहेगी।

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। अपनी कुंडली के अनुसार सूर्य व अन्य ग्रहों के प्रभाव जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलोजर्स से ऑनलाइन परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें। 


यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2018   |   मिथुन संक्रांति   ।   कर्क संक्रांति   ।   मकर संक्रांति   ।   कुंभ संक्रांति   ।   मीन संक्रांति

मेष संक्रांति   ।   सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |   आरती श्री सूर्य जी   ।   श्री सूर्य देव चालीसा   ।   रविवार आरती





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...