Skip Navigation Links
वृषभ संक्रांति – 14 मई को सूर्य करेंगें वृषभ राशि में प्रवेश जानें राशिफल


वृषभ संक्रांति – 14 मई को सूर्य करेंगें वृषभ राशि में प्रवेश जानें राशिफल

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन से सौर वर्ष के मास की गणना भी की जाती है। सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहा जाता है। मेष राशि से वृषभ राशि में सूर्य का संक्रमण वृषभ संक्रांति कहलाता है जो कि 14 मई को रात्रि 10:57 मिनट पर हो रहा है। वृषभ राशि में आने पर सूर्य किस राशि के जातकों के लिये लाभदायक रहेगा तो किन जातकों को जरूरत रहेगी संभलने की आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि वालों के लिये सूर्य का राशि परिवर्तन करना शुभ रहने के आसार हैं। सूर्य आपके लिये धन प्राप्ति के योग बना रहा है। कार्योन्नति के योग बन सकते हैं।

वृषभ – सूर्य आपकी राशि में ही प्रवेश करेंगें जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा हालांकि अपनी सेहत के प्रति आपको सचेत रहने की आवश्यकता है। रोगोत्पत्ति के योग बन सकते हैं। कामकाज के लिये यह समय ठीक-ठाक रहने के आसार हैं। यदि आप अपने घर के सपने को पूरा करने के इच्छुक हैं तो यह इच्छा आपकी पूरी होने की संभावना है हालांकि इसके लिये आपको ऋण लेना पड़ सकता है।

मिथुन – मिथुन जातकों के लिये सूर्य का परिवर्तन हो सकता है उत्साहजनक न रहे। आपके लिये धन हानि के योग बन सकते हैं। आपकी यात्राएं भी बढ़ सकती हैं। इस समय अपनी सेहत का ध्यान अवश्य रखें विशेषकर आखों में किसी भी प्रकार की जलन या अन्य दिक्कत को नज़रंदाज न करें।

कर्क – कर्क जातकों के लिये सूर्य का वृषभ में आना बहुत ही अच्छा रहने के आसार हैं। आपकी राशि से सूर्य लाभ स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। इस समय आप धन लाभ की उम्मीद कर सकते हैं, साथ ही आपके मान-सम्मान में भी वृद्धि होने के आसार हैं। नया व्यवसाय, नई नौकरी शुरु करने के अवसर मिल सकते हैं। कार्योन्नति के भी संकेत आपके लिये बन रहे हैं।

सिंह – सूर्य परिवर्तित होकर आपके कर्म क्षेत्र में आ रहे हैं जो कि आपके लिये बहुत अच्छी उन्नति के संकेत कर रहे हैं। इस समय आप आत्मविश्वास से लबरेज रह सकते हैं। वरिष्ठ अधिकारियों से भी आपको अपने कार्य के लिये प्रशंसा सुनने को मिल सकती है। इस समय आप अपने नये घर में भी प्रवेश कर सकते हैं या फिर किसी बेहतर अवसर के कारण आपको अपना स्थान परिवर्तित करना पड़ सकता है।

कन्या – सूर्य का यह परिवर्तन आपके भाग्य स्थान में होने से भाग्योन्नति के संकेत हैं। पूर्व में यदि आप किसी छोटी-मोटी शारीरिक अस्वस्थता से झूझ रहे हैं तो उससे निजात मिल सकती है। किसी धार्मिक स्थल की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी आप बना सकते हैं। कुल मिलाकर सूर्य का वृषभ राशि में आना आपके जीवन में सुख समृद्धि आने के संकेत कर रहा है।

तुला – तुला जातकों के लिये सूर्य का वृषभ में प्रवेश करना शुभ संकेत नहीं है इस समय आपके मनोबल में कमी का सामना करना पड़ सकता है। तो वहीं तन मन और धन यानि हर तरफ से सावधान रहने की आवश्यकता है।

वृश्चिक – वृश्चिक जातकों को भी सूर्य का राशि परिवर्तन होने से परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। विशेषकर अपने प्रेमजीवन के प्रति आपको अतिरिक्त सावधान रहने की जरुरत है। अपने साथी के साथ मतभेद पैदा हो सकते हैं। विवाहित जातकों के घरेलू जीवन में भी अशांति का वातावरण हो सकता है। वहीं दफ्तर से भी आपको आराम मिलने की संभावना नहीं है काम का बोझ बढ़ सकता है। धैर्य और कड़ी मेहनत के बल पर आप इन परिस्थितियों का सामना कर सकते हैं।

धनु – सूर्य का यह परिवर्तन धनु जातकों के लिये शुभ कहा जा सकता है। शारीरिक रूप से अस्वस्थ जातक अपने स्वास्थ्य में बेहतरी की उम्मीद कर सकते हैं लेकिन दांये पैर या पेट संबंधी परेशानी के प्रति थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है। व्यावसायिक रूप से आप प्रतिस्पर्धियों का मुंह बंद करने में कामयाब हो सकते हैं।

मकर – सूर्य का यह परिवर्तन आपके लिये शुभ कहा जा सकता है। विशेषकर संतान पक्ष की ओर से आपको कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है। शिक्षा प्राप्ति के लिये संतान को आपसे दूर जाना पड़ सकता है। वहीं कार्यक्षेत्र में भी आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने के आसार हैं। धन प्राप्ति के योग भी बन रहे हैं।

कुंभ – यदि किसी नये वाहन को खरीदने की फिराक में हैं तो बात बन सकती है। पैतृक संपत्ति से भी आपको धन प्राप्ति के योग हैं। यदि आपने हाल ही में किसी प्रतियोगी परीक्षा में भाग लिया है और परिणाम आने के इंतजार में हैं तो इस समय नतीज़ा आपके पक्ष में हो सकता है। व्यावसायिक रूप से भी आप अपने प्रतिस्पर्धियों को मात देने में कामयाब हो सकते हैं।

मीन – यह समय आपके पराक्रम में वृद्धि करने वाला है। अपने भाई-बहनों के साथ भी आपके संबंध बेहतर रहने की उम्मीद है। पिता द्वारा मान-सम्मान मिल सकता है। कुल मिलाकर भाग्य की अगर बात की जाये आपके लिये सूर्य का यह परिवर्तन सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं। 

सूर्य सहित नवग्रहों के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिये सरल ज्योतिषीय उपाय आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर जान सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...