Skip Navigation Links
मेष संक्रांति - मेष राशि में सूर्य का गोचर जानें अपना राशिफल


मेष संक्रांति - मेष राशि में सूर्य का गोचर जानें अपना राशिफल

14 अप्रैल को सुबह 8 बजकर 28 मिनट पर सूर्य मीन राशि से परिवर्तित होकर मेष राशि में आ रहे हैं। सूर्य का राशि परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस दिन को स्नान-दान-तर्पण आदि के लिये बहुत शुभ माना जाता है। मेष राशि में सूर्य का आना तो और भी शुभ होता है क्योंकि यह दिन सौर वर्ष का पहला दिन होता है। यानि सौर वर्ष का आरंभ मेष संक्राति के साथ होता है। ज्योतिष शास्त्र में भी सूर्य को क्रूर ग्रह माना जाता है और यह जातक के जीवन में कई शुभाशुभ प्रभाव डालता है। ऐसे में मेष संक्राति आपके लिये कैसी रहेगी? सौर वर्ष के पहले माह में कैसा रहेगा आपका राशिफल? आइये आइये जानते हैं।

मेष

सूर्य का परिवर्तन आपकी ही राशि में हो रहा है। इस समय आपकी सोच में एक सकारात्मकता आ सकती है। यह आपके लिये उमंग व उत्साह वाला समय रह सकता है। आपका आत्मबल मजबूत रहने के आसार हैं। जो जातक अपने कामकाजी जीवन में किसी मौके की तलाश में हैं उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर सुलभ हो सकता है। रोजगारशुदा जातक भी अपने काम से सहकर्मियों व उच्चाधिकारियों की नज़र में हीरो बन सकते हैं।

वृषभ

मेष संक्रांति के साथ ही सूर्य आपकी राशि से 12वें स्थान में गोचर करेंगें। यह समय आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने के संकेत कर रहा है। आपके लिये सलाह है कि अपनी फाइनेंशियल कंडीशन को कंट्रोल में रखने के लिये अपने खर्चों पर थोड़ा अंकुश लगायें। नेत्र संबंधी समस्याओं के प्रति भी सचेत रहें। तमाम परिस्थितियों में परिजनों का सहयोग आपके हौसले को बढ़ाने वाला रहेगा।

मिथुन

सूर्य की संक्रांति आपकी राशि से लाभ घर में हो रही है। यह समय आपके लिये काफी शानदार कहा जा सकता है। आप पूरे आत्मविश्वास के साथ अपने कार्यों को अंजाम दे सकते हैं। इस समय आप अपने अंदर एक नई ऊर्जा महसूस कर सकते हैं। कार्यस्थल पर सहकर्मियों का अपेक्षित सहयोग भी आपको मिल सकता है। फाइनेशियल कंडीशन बेहतर रहने की उम्मीद कर सकते हैं। पर्सनल लाइफ में भी रिश्ते मधुर बने रहने की संभावना है। स्वास्थ्य बेहतर बना रहेगा।

कर्क

आपकी राशि से दसवें स्थान में सूर्य का राशि परिवर्तन हो रहा है। यह समय पर्सनल लाइफ की अपेक्षा प्रोफेशनल लाइफ की ओर अधिक ध्यान देने का आग्रह कर रहा है। इस समय अपने काम से आप सीनियर्स को इंप्रेस कर सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं, साक्षात्कार आदि में सूर्य का यह परिवर्तन आपके लिये सकारात्मक परिणाम लेकर आ सकता है।

सिंह

सूर्य आपकी राशि के स्वामी भी हैं। आपकी राशि से भाग्य स्थान में सूर्य का यह परिवर्तन हो रहा है जो कि आपके लिये सौभाग्यशाली कहा जा सकता है। किस्मत हर कदम पर आपका साथ देगी। पैतृक संपत्ति से लाभ मिलने की अपेक्षा रख सकते हैं। धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। आध्यात्म की ओर भी आपका झुकाव हो सकता है।

कन्या

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन अष्टम भाव में हो रहा है। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता पड़ सकती है। आपमें आत्मविश्वास की कमी भी हो सकती है। संभव है सामर्थ्य के बावजूद भी आप किसी काम को अंजाम देने में हिचाकिचाहट महसूस करें। कार्यस्थल पर आपमें एकाग्रता की कमी भी हो सकती है। यदि अपनी दिनचर्या में ध्यान व योग आदि क्रियाओं के लिये भी समय निकालें तो आप थोड़ा बेहतर महसूस कर सकते हैं।

तुला

सूर्य का राशि परिवर्तन आपकी राशि से सातवें स्थान में हो रहा है। यह समय आपकी रोमांटिक लाइफ में कुछ परेशानियां लेकर आ सकता है। आपको अपनी सेहत के प्रति भी सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। खास कर मानसिक रुप से थोड़ा तनावग्रस्त हो सकते हैं। खान-पान और विश्राम का बराबर ध्यान रखें। पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में संतुलन व दूरी बनाकर चलना आपके लिये लाभकारी रह सकता है।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि वालों के लिये सूर्य का राशि परिवर्तन छठे स्थान में हो रहा है जो कि आपके रोग व शत्रु का घर है। यदि पिछले कुछ समय से स्वास्थ्य संबंधी छोटी मोटी समस्या से परेशान हैं तो राहत मिल सकती है। कामकाजी जीवन की बात करें तो प्रोफेशनल लाइफ में आप अपने प्रतिद्वंदियों पर भारी पड़ सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षा अथवा साक्षात्कार में शामिल होने वाले जातकों के लिये भी समय अच्छा कहा जा सकता है। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ रिश्ते मधुर रहने के आसार हैं।

धनु

सूर्य का परिवर्तन आपकी राशि से पांचवें स्थान में हो रहा है। यह समय आपको नाम व शोहरत दिलाने के योग बना रहा है। संतान को लेकर चिंतित चल रहे हैं तो इस समय राहत मिल सकती हैं। संतान पक्ष की ओर से आपको कोई शुभ समाचार भी मिल सकता है। आप अपनी संतान की उपलब्धियों से गौरवान्वित महसूस कर सकते हैं। कामकाजी जीवन में भी यह समय आपके लिये सफलता के योग बना रहा है। भाग्य का साथ भी आपको मिलने के आसार बन रहे हैं। गत दिनो आपने जो मेहनत की है उसका परिणाम अब देखने को मिल सकता है। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ रिश्ते मधुर रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

मकर

सूर्य आपकी राशि से चौथे स्थान में शुक्र के साथ आ रहे हैं। सूर्य के इस परिवर्तन के पश्चात आप अपनी लाइफ में एक बदलाव महसूस कर सकते हैं। यह चेंज आपकी घरेलू लाइफ से लेकर कामकाजी जीवन तक में आ सकता है। हो सकता है आपको जॉब चेंज का बेहतर ऑफर मिल जाये, संभव यह भी है कि आप अपने घर में किसी तरह के बदलाव करना चाहें। इस समय आप महत्वपूर्ण निर्णय लेने में भी कोन्फिडेंट रहेंगें। हालांकि आपको अपने काम को पूरी एकाग्रता के साथ करने की आवश्यकता रहेगी जिसमें आपको थोड़ी परेशानी हो सकती है।

कुंभ

मेष राशि में संक्रांति करने के साथ सूर्य का आपकी राशि से तीसरे स्थान में गोचर होगा जो कि आपके पराक्रम का क्षेत्र है। आपके कामकाजी जीवन में सूर्य का यह परिवर्तन तेजी लेकर आ सकता है। जो जातक अभी तक रोजगार से वंचित हैं उन्हें इस समय अपने करियर की शुरुआत करने का एक मौका मिल सकता है। आपका मूड इस समय रोमांटिक रहने के आसार हैं। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

मीन

सूर्य का परिवर्तन आपकी ही राशि से हो रहा है। आपकी राशि से सूर्य इस परिवर्तन के साथ दूसरे स्थान में आ जायेंगें जो कि धन के स्थान को दर्शाता है। यह समय आपके लिये धन लाभ के संकेत कर रहा है। यदि व्यवसाय में किसी तरह का बदलाव करने के इच्छुक हैं तो निर्णय ले सकते हैं। इसके लिये यह सही समय है क्योंकि इस समय आपका आत्मबल मजबूत रहने की उम्मीद कर सकते हैं। रोमांटिक लाइफ भी अच्छी रहने के आसार हैं। पार्टनर के साथ कोई टूर निकाल सकते हैं। हेल्थ के मामले में भी समय बढ़िया कहा जा सकता है।

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के साथ केवल मेष संक्रांति के प्रभाव को दर्शाता है। व्यापक और सटीक मूल्यांकन के लिये अन्य ग्रहों स्थिति भी निर्भर करती है। हमारी सलाह है कि अपनी कुंडली के अनुसार ग्रहों के प्रभाव को जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लें।


संबंधित लेख 

शनि वक्री - शनि की फिर बदलेगी चाल, जानें राशिनुसार अपना हाल   |   सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |  

बृहस्पति वक्री 2018 - क्या होगा आपकी राशि पर असर   |   शनि परिवर्तन 2018 - क्या होगा असर  




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सीता नवमी 2018 – जानें जानकी नवमी की व्रत कथा व पूजा विधि

सीता नवमी 2018 – ज...

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को भगवान राम का प्राकट्य हुआ तो माता सीता वैशाख शुक्ल नवमी को प्रकट हुई थी। यही कारण है कि हिंदू धर्मानुयायी विशेषकर वैष्णव संप्रदाय ...

और पढ़ें...
मोहिनी एकादशी 2018 – जानें मोहिनी एकादशी की व्रत कथा व पूजा विधि

मोहिनी एकादशी 2018...

वैशाख मास को भी पुराणों में कार्तिक माह की तरह ही पावन बताया जाता है इसी कारण इस माह में पड़ने वाली एकादशी भी बहुत ही पुण्य फलदायी मानी जाती है। वैशाख शुक्ल एकादशी क...

और पढ़ें...
शनि वक्री 2018 - शनि की वक्री चाल क्या होगा हाल? जानें राशिफल

शनि वक्री 2018 - श...

शनि वक्री 2018 - 18 अप्रैल 2018 को जैसे ही शनि की चाल बदलेगी उसके साथ हमें भी अपने आस-पास बहुत कुछ बदलता हुआ दिखाई देगा। यह चेंज हमें अपनी पर्सनल, प्रोफेशनल से लेकर ...

और पढ़ें...
शुक्र का वृषभ राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

शुक्र का वृषभ राशि...

20 अप्रैल को शुक्र मेष राशि को छोड़कर स्वराशि वृषभ में प्रवेश कर रहे हैं। शुक्र को मीन राशि में उच्च तो कन्या में नीच का माना जाता है। उच्च राशि व स्वराशि के होने पर...

और पढ़ें...
जपमाला - जप माला में 108 दाने क्यों होते हैं? जानें रहस्य।

जपमाला - जप माला म...

हिन्दू धर्म में हम मंत्र जप के लिए जिस माला का उपयोग करते है, उस माला में दानों की संख्या 108 होती है। शास्त्रों में इस संख्या 108 का अत्यधिक महत्व होता है । माला मे...

और पढ़ें...