Skip Navigation Links
सूर्य का मेष राशि में परिवर्तन - जानें कैसा रहेगा आपका राशिफल


सूर्य का मेष राशि में परिवर्तन - जानें कैसा रहेगा आपका राशिफल

14 अप्रैल रात्रि 2 बजकर 4 मिनट पर सूर्य मीन राशि से परिवर्तित होकर मेष राशि में आ गये हैं। सूर्य का राशि परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस दिन को स्नान-दान-तर्पण आदि के लिये बहुत शुभ माना जाता है। मेष राशि में सूर्य का आना तो और भी शुभ होता है क्योंकि यह दिन सौर वर्ष का पहला दिन होता है। यानि सौर वर्ष का आरंभ मेष संक्राति के साथ होता है। ज्योतिष शास्त्र में भी सूर्य को क्रूर ग्रह माना जाता है और यह जातक के जीवन में कई शुभाशुभ प्रभाव डालता है। ऐसे में मेष राशि में सूर्य का दाखिल होना आपके भविष्यफल के लिये कैसा है आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि में ही सूर्य ने प्रवेश किया है। मेष जातकों के लिये सूर्य का यह परिवर्तन बहुत बढ़िया रहने के आसार हैं। इस समय आपके भाग्य में वृद्धि हो सकती है। विद्यार्थियों के लिये भी समय काफी अच्छा है इस समय अध्ययन में भी आपकी रूचि हो सकती है। संतान पक्ष की ओर से भी कोई सुखद समाचार आपको मिलने के आसार हैं। सूर्य के प्रभाव से आपका स्वास्थ्य बेहतर रहेगा, मान-सम्मान में वृद्धि होगी व धन प्राप्ति के योग भी बनेंगें।

वृषभ – आपके लिये भी सूर्य का मेष में गोचर धन प्राप्ति के योग लेकर आ सकता है। परिजनों की ओर से कोई शुभ समाचार भी मिल सकता है। इस समय आपका आत्मविश्वास अपने चरम पर रहने के आसार हैं साथ ही आप अपने मन में एक नई उमंग भी महसूस करेंगें। लेकिन आपके लिये एक सलाह भी है कि आत्मविश्वास तक तो बात ठीक है अपने पर अतिविश्वास करने से अवश्य बचें।

मिथुन - सूर्य का आपके लाभ घर में विराजमान होना आपके लिये काफी शुभ का संकेतक है। इस समय आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने के आसार हैं। कार्यक्षेत्र में भी आपको उन्नति मिल सकती है। यदि कोई नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या फिर नई नौकरी पाने की आपकी इच्छा है तो आपके प्रयास सफल होने की संभावनाएं भी बलवती हैं।

कर्क - कर्क राशि वालों के लिये सूर्य कर्मक्षेत्र में स्थित है। यह आपके लिये सूर्य का मेष में आना सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं। यदि कोई नया कार्य आरंभ करना चाहते हैं तो उसके लिये बहुत ही शुभ समय है। आप इस दौरान सुख का अनुभव करेंगें और आपके मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी।

सिंह – सूर्य आपके भाग्य स्थान में आये हैं। इस समय धर्म-कर्म में आपकी रूचि अधिक रह सकती है। यदि पिछले कुछ समय से अपने स्वास्थ्य को लेकर आप चिंतित रहे हैं तो सूर्य के प्रभाव से आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से निजात मिल सकती है। आपके लिये यात्रा के योग भी बन सकते हैं। आपकी यात्राएं भी सुखद व मंगलमयी रहने के आसार हैं।

कन्या – गर्मी से खुद को बचाकर रखें, अपनी सेहत के प्रति आपको सचेत रहने की सलाह दी जाती है। उदर संबंधी समस्याओं का विशेष रूप से ध्यान रखें। हो सकता है सूर्य के इस परिवर्तन के कारण आपको घर के बड़े-बुजूर्गों का सहयोग न मिले। कार्यक्षेत्र के लिहाज से यह समय आपके लिये सामान्य बने रहने के आसार हैं।

तुला – तुला राशि के जातकों के लिये सूर्य का परिवर्तन लाभकारी रहने के आसार हैं। इस समय व्यवसाय से संबंधित नये-नये विचार आपके ज़हन में आ सकते हैं। आपका दांपत्य जीवन भी खुशहाल रहने की संभावनाएं हैं। विवाहित पुरूष जातकों के लिये शुभ संकेत है कि पत्नी के कर्मक्षेत्र में यदि कोई समस्या गत दिनों से चल रही है तो उसका समाधान होने के आसार हैं। कुल मिलाकर सूर्य के इस परिवर्तन से आप अपने जीवन में बेहतरी की उम्मीद कर सकते हैं।

वृश्चिक – यदि आप पिछले कुछ समय से अपने कार्य अपने व्यवसाय में प्रतिद्वंदियों का सामना कर रहे हैं तो इस समय आपका पलड़ा भारी रहने के आसार हैं। विरोधी पर आप अपना दबदबा कायम कर सकते हैं। जो विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग ले रहे हैं उन्हें भी इस समय सफलता मिलने की संभावनाएं काफी प्रबल हैं। आपके लिये सलाह है कि अति आत्मविश्वास से बच कर चलें।

धनु – सूर्य का मेष राशि में आना आपके मान-सम्मान में वृद्धि लाने वाला रह सकता है। विद्यार्थियों को अपने लक्ष्यों में सफलता मिलने के आसार हैं। संतान पक्ष से भी सुखद समाचार मिलने के योग बन रहे हैं। कुल मिलाकर सूर्य के राशि परिवर्तन को आप सकारात्मक परिणामों के रूप में अपने जीवन में देख सकते हैं।

मकर – मकर जातकों के लिये भी सूर्य का मेष राशि में गोचर करना खुशखबरी लाने वाला हो सकता है। लंबे समय से यदि किसी सपने को साकार करने का मन बना रहे हैं तो इस समय वह पूरा होने की संभावनाएं बन सकती हैं। आप अपने लिये खुद का आशियाना बनाने का प्रयास कर सकते हैं। परिजनों का भी अटूट प्रेम आपको प्राप्त हो सकता है। सगे-संबंधियों से भी आपके संबंध मैत्रीपूर्ण रहने के आसार हैं। किसी पुराने दोस्त से भेंट करने का मन भी इस दौरान आप बना सकते हैं।

कुंभ – सूर्य का यह परिवर्तन आपके पराक्रम में वृद्धि करने वाला है। इस समय आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने के आसार हैं। हालांकि इस दौरान आपको नई चुनौतियों का सामना भी करना पड़ सकता है। ज्यादा मेहनत से शारीरिक थकावट भी आप महसूस कर सकते हैं अपनी सेहत का ध्यान रखें। इस समय आपमें से कुछ जातक किसी विशेष उपलब्धि से व्यापक रूप से ख्याति प्राप्त करने में सक्षम हो सकते हैं।

मीन – मीन जातकों के लिये धन प्राप्ति के योग बन सकते हैं। परिजनों का भरपूर सहयोग आपको प्राप्त होगा। लंबे समय से यदि आपका पैसा किसी के पास रूका हुआ है तो उसे निकलवाने के प्रयास करें सफलता मिल सकती है। आपके लिये धन वृद्धि के योग सूर्य के इस राशि परिवर्तन से बन सकते हैं। किसी सुदूर क्षेत्र में यात्रा पर जाने के लिये भी यह सम उचित है। स्वास्थ्य भी अनुकूल रहने के आसार हैं। 

यह एक सामान्य भविष्यफल है अपनी कुंडली में सूर्य की स्थिति व सटीक शुभाशुभ प्रभाव जानने के लिये परामर्श करें एस्ट्रोयोगी पर देशभर के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों। अभी रजिस्ट्रेशन करने के लिये आप 100 रूपये तक का ज्योतिषीय परामर्श पा सकते हैं बिल्कुल फ्री। बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख 

मंगल का राशि परिवर्तन - क्या प्रभाव डालेगा सभी राशियों पर   |   मेष राशि में वक्री हुए बुध क्या पड़ेगा प्रभाव?   |   चार ग्रहों की वक्री चाल क्या होगा हाल?

शनि वक्री - शनि की फिर बदलेगी चाल, जानें राशिनुसार अपना हाल   |   सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |  

 बुध का गोचर - मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल   |   15 अप्रैल तक शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?

सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?   |   बुध बदलेंगे राशि - क्या होगा असर? जानें राशिफल   |   बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर

शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर  




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...