तिजोरी - घर में कहां रखें धन?, जिससे न हो कभी धन की कमी

ज्यादातर लोग अपने घर में तिजोरी यानी धन रखने की अलमारी अवश्य रखते है। लेकिन क्या आपको पता है कि तिजोरी किस दिशा व स्थान में पर रखने से धन संबंधी समस्या से बचा जा सकता है? इसके अलावा सही स्थान पर तिजोरी रखने से आप पर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी। जिससे आपके धन में कई गुना वृद्धि हो सकती है। तो आइए जानें हैं, तिजोरी रखने के संबंध में कुछ जरूरी बातें...

कहां स्थापित करें तिजोरी

वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर तिजोरी को सही दिशा और सही मुहूर्त में रखा जाए तो धन में वृद्धि होती है। इसलिए तिजोरी की स्थापना कमरे के दक्षिण दीवार से एक इंच आगे की ओर और आग्नेय व नैऋत्य कोण को छोड़कर करना चाहिए। ध्यान रहे तिजोरी का पीछला हिस्सा दक्षिण की तरफ होना चाहिए और दरवाजा उत्तर की ओर खुलना चाहिए।

तिजोरी के कमरे की वास्तु

वास्तु के अनुसार धन के कमरे में दरवाजे अगर पूर्व या उत्तर दिशा में होते हैं तो अत्यंत शुभ हैं। ध्यान दें कि उत्तर की तरफ के दरवाजे के सामने तिजोरी नहीं स्थापित करनी चाहिए, कुछ हटकर रखना लाभकारी है। तिजोरी के कमरे में पूर्व या उत्तर की तरफ कुछ ऊंचाई पर एक छोटी सी खिड़की जरूर बनवाना चाहिए। कमरा चौकोर या आयताकार तथा इसकी ऊंचाई अन्य कमरों के मुकाबले कम नहीं होना चाहिए। तिजोरी के कमरे में काले, लाल या नीले रंग का टाइल्स भूल कर भी न लगवाएं।

तिजोरी स्थापित करने का शुभ दिन

घर में तिजोरी की स्थापना करने के लिए वारों में सोम, बुध, बृहस्पतिवार और शुक्रवार उत्तम माने जाते हैं। तिजोरी के कमरे के लिए सबसे शुभ रंग पीला माना जाता है। जैसा कि आपको ज्ञात है कि तिजोरी उत्तर दिशा में स्थापित करना है। हम आपको बता दें कि उत्तर दिशा के प्रमुख देवता कुबेर है। कृष्णपक्ष के बुधवार को सुबह या शाम तिजोरी की पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है। मार्गशीर्ष महीने के प्रत्येक बृहस्पतिवार और शुक्रवार को तिजोरी की पूजा होनी चाहिए।  क्या आप आर्थिक समस्या से हैं परेशान ?  तो हो सकता है आपकी कुंडली में दोष, अभी परामर्श करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

तिजोरी में रखें अक्षत

तिजोरी में हम अपना बहुमूल्य वस्तु व धन रखते हैं। हर किसी की चाह होती है कि वह अपने तिजोरी में धन ज्यादा डाले और उसमें से कम से कम निकाले। आमतौर पर हम सभी के घर में तिजोरी होती है परंतु तिजोरी में धन की बरकत तभी होती है, जब वह वास्तु के अनुसार हो। हम आपको तिजोरी के वास्तु के संबंध में पहले ही जानकारी दे चुके हैं। कुल मिलाकर सब यही चाहते है की उनकी तिजोरी उनके लिए शुभफलदायी हो। इसके लिए आप तिजोरी में अक्षत रखें और इस पर विशेष ध्यान दें कि अक्षत कभी खत्म ना हो। चाहे वो आपके घर में रखी हो या व्यापारिक स्थल पर। मान्यता है कि तिजोरी में अक्षत रखने से मां लक्ष्मी और कुबेर की कृपा बनती है।

किन बातों का रखें ध्यान

वास्तु के अनुसार तिजोरी कैसे स्थापित की जाए इस बारे में हम आपको जानकारी दें चुके हैं, लेकिन इसके अलावा और किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है यह हम यहां जानेंगे।

सबसे पहले आप यह सुनिश्चित कर लें कि तिजोरी का दरवाजा दक्षिण दिशा में नहीं खुल रहा है। यदि आपके तिजोरी का दरवाजा दक्षिण दिशा में खुल रहा है तो तिजोरी में रखे धन के चोरी होने का खतरा बना रहता है। अगर तिजोरी या धन रखने वाली अलमारी दीवार में फिक्स है, तो घर में दूसरी अलमारी ले आएँ और कीमती सामान व धन उसमें रखें। ऐसा न करने पर आपको धन हानि का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप ने किसा कारण के चलते तिजोरी दक्षिण दिशा में स्थापित किया है तो तिजोरी का दरवाजा उत्तर दिशा की ओर ही खुलना चाहिए। तिजोरी में लाल रंग का कपड़ा बिछा कर धन रखें। मांगलिक कार्यों और शुभ दिनों पर यह कपड़ा बदलें।

यह भी पढ़ें- 

आर्थिक पक्ष मजबूत करना है तो अपनाएं ये उपाय । 

एस्ट्रो लेख

बुध का वृश्चिक ...

इस 05 दिसंबर को बुध सुबह10 बजकर 46 मिनट पर राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। इस समय बुध तुला राशि में हैं परंतु 05 दिसंबर 2019 को यह राशि बदलकर वृश्चिक राशि में आ जाएंगे। जिसका आपके ऊ...

और पढ़ें ➜

स्कंद षष्ठी 201...

यदि आपके घर में कोई बहुत लंबे समय से बीमार है? आपको हमेशा पैसों की तंगी बनी रहती है? कड़ी मेहनत के बाद भी आपके संतान को सफलता नहीं मिलती है तो आपको हर माह हिंदू कैलेंडर के अनुसार. ...

और पढ़ें ➜

विवाह पंचमी 201...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-धर्ता भगवान श्र...

और पढ़ें ➜

विनायक चतुर्थी 2019

इस व्रत का भी उतना ही महत्व है जितना की हिंदू धर्म के अन्य व्रतों का है। यह व्रत भगवान गणेश को समर्पित है। इस तिथि को गणेश जी का जन्मदिन माना जाता है। गणेश चतुर्थी के अलावा हर महीन...

और पढ़ें ➜