क्या बेडरूम में अक्सर पार्टनर के साथ होता है झगड़ा, तो अपनाएं ये 10 वास्तु उपाय

25 जून 2020

विवाह एक दिव्य बंधन है, जो दो अलग-अलग विचार वाले लोगों को आपस में जोड़ता है। फिर चाहे ये आरेंज मैरिज पर आधारित हो या लव मैरिज पर। कई बार नवविवाहित जोड़े अपने सुखी वैवाहिक जीवन का आनंद नहीं ले पाते हैं। इसका कारण सुखी वैवाहिक जीवन में वास्तु का पालन नहीं किया जाना भी हो सकता है। वैसे तो हर कोई चाहता है कि उसका दांपत्य जीवन शांतिपूर्ण और खुशहाल गुजरे। लेकिन कुछ बाधाएं आपकी मैरिड लाइफ में परेशानियां पैदा कर देती हैं इसलिए इन पर पहले से ही ध्यान रखना चाहिए। वास्तु शास्त्र की जानकारी पाने के लिए आपको अनुभवी वास्तु विशेषज्ञ की मदद लेनी चाहिए, जो कुछ सुझाव देते हैं जिससे आप आनंदमय वैवाहिक जीवन बिता सकते हैं। 

 

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए वास्तु का महत्व

कहावत है कि जोड़िया स्वर्ग से बनकर आती है लेकिन धरती को यही जोड़ियां स्वर्ग नहीं बना पाती हैं। अक्सर विवाहित जोड़ें के पास एक बेडरूम होता है, जहां पर उनको गोपनीयता मिलती है। लेकिन प्रत्येक स्थान वास्तुशास्त्र के नियमों द्वारा बनाए गए हैं, इसलिए वैवाहिक जीवन को सफल बनाने के लिए वास्तु दिशानिर्देशों को लागू करना बहुत महत्वपूर्ण है।

 

  • बेडरूम का स्थान

विवाहित जोड़े का बेडरूम घर के दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम दिशा में बनाया गया हो।

 

  • बिस्तर की दिशा

बिस्तर को इस तरह से रखा जाना चाहिए कि पति-पत्नी अपने सिर को दक्षिण दिशा की ओर करके सोएं क्योंकि यह उत्तर दिशा से सकारात्मक ऊर्जा के मुक्त प्रवाह को बढ़ाएगा।

 

  • लकड़ी के फर्नीचर का उपयोग करें 

मैरिड कपल के कमरे को केवल लकड़ी से बने फर्नीचर से भरा होना चाहिए। बिस्तर, ड्रेसिंग टेबल, स्टडी टेबल, आदि - सब कुछ लकड़ी और कांच से बना होना चाहिए और धातु के सामान से बचना चाहिए।

 

  • एक गद्दे का प्रयोग करें 

विवाहित जोड़े को एक ही गद्दे पर सोना चाहिए क्योंकि यह विचारों और भावनाओं में एकता का प्रतिनिधित्व करता है। यह प्यार को बढ़ावा देता है और उनके वैवाहिक जीवन में सकारात्मकता लाता है।

 

  • बेडरूम को तनाव मुक्त रखें 

तनाव एक विवाहित जोड़े के सामंजस्य के लिए एक बड़ा खतरा है। यह अक्सर रिश्ते को खराब करता है और अलगाव और तलाक की ओर ले जाता है। इसलिए, दंपति को एक-दूसरे को पर्याप्त समय देना चाहिए और तनाव को कभी भी अपने वैवाहिक बंधन में बाधा नहीं बनने देना चाहिए।

 

  • हल्के रंगों का उपयोग करें 

मैरिड कपल के बेडरूम को गुलाबी, हरे और नीले रंग के हल्के और सुखदायक रंगों से चित्रित किया जाना चाहिए। हर कीमत पर गहरे रंगों से बचें क्योंकि वे नकारात्मक ऊर्जाओं को आकर्षित करते हैं और एक जोड़े के विवाहित जीवन में बाधाएं पैदा करते हैं।

 

  • कृपया कोई तराज की डंडी नहीं 

दंपत्ति के बिस्तर के ठीक ऊपर यदि छत का बीम है तो पलंग को शिफ्ट कर लें। बीम के नीचे सोने से सेहत पर बुरा असर पड़ता है। साथ ही यह नकारात्मकता और पीड़ा को आमंत्रित करता है।

 

  • दर्पण से बचें 

बेडरूम में दर्पण रखने से दंपत्ति के बीच झगड़े और बहस होती है क्योंकि माना जाता है कि आईना बुरी शक्तियों को आकर्षित करता है। इसलिए, आपको बिस्तर से दूर दर्पण रखना चाहिए और इसे रात के समय में कपड़े से ढक देना चाहिए।

 

  • कमरे की सजावट 

विवाहित युगल के कमरे को उनके परिवार की तस्वीरों और युगल तस्वीरों के साथ सजाया जाना चाहिए जो उनके चेहरे पर मुस्कान लाते हैं क्योंकि वे उन सुखद क्षणों से संबंधित होते हैं।

 

  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को ना कहें 

बेडरूम में कोई भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स जैसे कि टेलीविजन, लैपटॉप, मोबाइल फोन आदि रखने से बचें। अगर ऐसा संभव नहीं है, तो आपको उन्हें बिस्तर से दूर रखना चाहिए। गैजेट की इलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणें स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होती हैं और इससे दंपत्ति के बीच तनाव भी पैदा हो सकता है।

 

ये कुछ वास्तु टिप्स आपकी बेरंग वैवाहिक जीवन में रंग भर सकते हैं। यदि आप अपने रिश्ते में गंभीर परेशानियों से पीड़ित हैं, तो आप एक वास्तु विशेषज्ञ से परामर्श कर सकते हैं जो आपको व्यक्तिगत समाधान प्रदान करेगा, जो आपकी शादी को आनंदमय और शांत बनाने में आपकी मदद कर सकता है।

 

संबंधित लेख

जीवन में वास्तु का महत्व । वास्तु के नियम वास्तु शास्त्र एवं दिशाएं

एस्ट्रो लेख

नौकरी की चिंता है तो इसे पढ़ें राहत मिल सकती है!

बजट 2020 - कैसा रहेगा आपके लिये 2020 का आम बजट

साल 2020 नौकरी करने वालों के लिए कैसा रहेगा? जानिए राशिनुसार

किस राशि को मिलती है अच्छी नौकरी?

Chat now for Support
Support