राहू है बलवान छा सकते हैं नरसिंह पहलवान

नरसिंह पंचम यादव अंतत: डोपिंग के आरोपों से मुक्त होकर रियो ओलिंपिक (Rio Olympics 2016) में हिस्सा ले रहे हैं। ओलिंपिक का टिकट मिलने के बाद से ही उनकी रास्ते की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही। इसमें खेल के भीतर का खेल तो नजर आता ही है साथ ही किस्मत या ज्योतिषशास्त्र की भाषा में कहें तो सितारों की चाल ने भी उनका यह हाल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी हालांकि सफलता के शिखर पर पहुंचने में भी यादव की मेहनत के साथ-साथ सितारों का सहयोग भी उन्हें मिला है। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उनकी जन्मकुंडली और वर्तमान में ग्रहों की जो दशा उन पर चल रही है उससे उनके जीतने की संभावना कितनी है। आइये जानते हैं क्या कहते हैं नरसिंह यादव के सितारे। यदि आप अपनी जन्मकुंडली के बारे में कोई ज्योतिषीय समाधान या राय लेना चाहते हैं तो डाउनलोड करें देश की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप और परामर्श करें अपने मनपसंद ज्योतिषाचार्य से, एप के लिये लिंक पर क्लिक करें।



नाम :       नरसिंह पंचम यादव

जन्मतिथि:   6 अगस्त 1989

जन्म स्थान:  वाराणसी, भारत

जन्म समय: प्रात:काल 06:10 बजे


उपरोक्त विवरण के अनुसार नरसिंह यादव का जन्म कर्क लग्न में हुआ। इनकी चंद्र राशि कन्या है। इस समय इन पर राहू की महादशा चल रही है एवं बुध की अंतर्दशा है, प्रत्यंतर में भी राहू विराजमान हैं।


यदि जन्म लग्न की बात करें तो लग्न में सूर्य विराजमान हैं। कर्क लग्न एक चर लग्न माना जाता है अर्थात ये किसी भी बाधा से रुकने वाले नहीं हैं निरंतर आगे बढ़ते रहने वाले हैं। वहीं कन्या राशि के जातकों का स्वभाव थोड़ा हठी माना जाता है ये जो ठान लेते हैं उसे पूरा करके ही दम लेते हैं। इनकी पत्रिका के अनुसार इनका कर्मेश पंचमेश मंगल है जो कि मित्र राशि सिंह के साथ विराजमान है। यह पैसा और प्रतिष्ठा दोनों के लिये योगकारी ग्रह माना जाता है। साथ ही गजकेसरी योग, कर्तरी योग, वरिष्ठ योग, सरल योग आदि कई शुभ योग इनके जन्म के समय बने थे। वहीं दूसरे स्थान पर मंगल, शुक्र और बुध भी शरीर और वाणी का धनी इन्हें बनाते हैं। इस तरह के योग वाले जातकों को शेर के समान माना जाता है ये सैन्य एवं खेल के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त करते हैं। वर्तमान में गोचर अवस्था में इनका यह जन्म माह भी चल रहा है। इनकी वर्षकुंडली का अध्ययन करने पर ज्ञात होता है कि तुला राशि की मुंथा चल रही है। मुंथाधिपति भी वही योग बना रहे हैं जो इनके जन्म के समय बन रहे हैं हालांकि ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है। इसलिये यह समय इनके लिये बहुत शुभ कहा जा सकता है और नरसिंह यदि खेल पाते हैं तो पदक की उम्मीद की जा सकती है।


राहू की दशा – घर में परेशानी पर विदेश में हो सकती है मेहरबानी


लेकिन इनके लिये सबसे बड़ी चिंता का विषय राहू की दशा का होना है। इसी के चलते इन्हें सफलता के शिखर पर पहुंचने के बाद भी अपने हक के लिये इतना झूझना पड़ा, मिथ्यारोपों का सामना करना पड़ा, रियोओलिंपिक का टिकट मिलने पर भी इनकी राह में इतने रोड़े अटके। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि नरसिंह यादव को राहू की दशा के चलते परेशानी भले आई हो लेकिन जन्मस्थान से दूर होने पर राहू मेहनत का फल अवश्य देता है। अत: उम्मीद की जा सकती है कि रियो में अगर नरसिंह यादव को खेलने का मौका मिला तो सितारों के साथ से यह खिलाड़ी विदेशी खिलाड़ियों को मात देने में कामयाबी हासिल करे।


चूंकि 6 अगस्त को नरसिंह का जन्मदिवस भी है। एस्ट्रोयोगी की ओर से नरसिंह यादव को जन्मदिन की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं। हम दुआ करते हैं कि रियो ओलिंपिक में नरसिंह भारत के तिरंगे को लहराते हुए भारत का नाम रोशन करे।


यह भी पढ़ें

रियो ओलिंपिक 2016 - क्या भारतीय खिलाड़ियों को मिलेगा सितारों का साथ

2016 - क्या खेलों में चमकेगा भारत

2016 - क्या कहते हैं भारत के सितारे

2016 - क्या कहते हैं आपके सितारे

युवाओं के लिए कुछ खास है 2016

एस्ट्रो लेख

शरद पूर्णिमा 20...

पूर्णिमा तिथि हिंदू धर्म में एक खास स्थान रखती है। प्रत्येक मास की पूर्णिमा का अपना अलग महत्व होता है। लेकिन कुछ पूर्णिमा बहुत ही श्रेष्ठ मानी जाती हैं। अश्विन माह की पूर्णिमा उन्ह...

और पढ़ें ➜

बुलंदियों पर है...

बॉलीवुड के महानायक अभिनेता अमिताभ बच्चन किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रसिद्ध लेखक और कवि हरिवंश राय बच्चन के पुत्र होने से लेकर 5 दशक तक अपने अभिनय से दर्शकों का मनोरंजन करने वा...

और पढ़ें ➜

शरद पूर्णिमा 20...

हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का अपना एक अलग महत्व है। इस बार 13 अक्टूबर 2019 रविवार को शरद पूर्णिमा पड़ रही है। ज्योतिष के अनुसार 13 अक्टूबर रविवार की रात 12.36 बजे से 14 अक्टूबर सो...

और पढ़ें ➜

नारियल - क्यों...

हिंदू धर्म और भारतीय परपंरा में श्रीफल यानि नारियल का अपना ही एक अलग महत्व है। किसी भी पूजा में श्रीफल का होना अनिवार्य माना जाता है वरना पूजा अधूरी मानी जाती है। वहीं ज्योतिष के क...

और पढ़ें ➜