Skip Navigation Links
2016 का मूलांक 7 मानें या 9 क्या कहते हैं ज्योतिषाचार्य


2016 का मूलांक 7 मानें या 9 क्या कहते हैं ज्योतिषाचार्य

साल 2016 का आगमन हुआ तो ज्योतिष शास्त्र के विद्वान भी ज्योतिष की अलग-अलग विद्याओं से इस साल के भविष्य का अनुमान लगाने लगे। ज्योतिष शास्त्र का ही एक संभाग है, अंक ज्योतिष। इसके अनुसार जिस प्रकार हम वर्ष को लिखते हैं, उसी प्रकार उसके अंकों की गणना कर मूलांक ज्ञात किया जाता है। मूलांक के अनुसार ही ग्रहों की दशा पर विचार कर भविष्य के अनुमान लगाए जाते हैं। 2016 का भी अंक ज्योतिष के अनुसार विद्वानों ने अनुमान लगाया है, लेकिन मूलांक पर ज्योतिष शास्त्रियों में मतभेद हैं। कुछ ज्योतिष विद्वानों ने 2016 को 2016=9 के रुप में गणना कर मूलांक 9 माना है, तो कुछ ने सिर्फ 2016 के सिर्फ अंतिम 16 अंकों का योग कर मूलांक 7 मानकर वर्ष के भविष्य को बताया है। आइए एक नजर डालते हैं अंक 9 व 7 पर, क्या है ज्योतिषाचार्यों की राय ? भारत के प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से बातचीत कर अपनी शंकाओं का समाधान जानें। आज ही डाऊनलोड करें एस्ट्रोयोगी एप्प

कुछ ज्योतिष शास्त्रियों ने माना है कि 2016 का मूलांक 9 ही शुभ है। 9 का स्वामी मंगल है, जिसका इस साल अच्छा असर रहेगा। चूंकि मंगल का रंग लाल है और यह अत्यधिक उर्जा पैदा करने वाला ग्रह है, ऐसे में इस वर्ष गुस्से पर काबू रखने की सलाह दी जाती है। मूलांक 9 मानने वाले विद्वानों ने हिदायत भी दी है कि 2016 को 2016 ही लिखें, सिर्फ 16 लिखने का महत्व अच्छा नहीं है, बल्कि यह दुर्घटना एवं आपदाओं का सूचक है।

वहीं 2016=9 की बजाय 16=7 मूलांक मानने वाले विद्वानों ने 7 अंक को कल्याणकारी बताते हुए कहा है कि 7 अंक केतू का है। चूंकि केतू छाया ग्रह है, इसलिए यह जिस भी ग्रह से साथ होता है उसी के अनुसार फल देता है।

हालांकि मंगल का केतु के साथ सैद्धांतिक रुप से शत्रुता का संबंध होता है। लेकिन अंक ज्योतिष के कुछ विद्वान नव वर्ष की कुंडली के अनुसार केतू को उच्च राशि मीन में और मंगल शुक्र की राशि तुला में गोचर बताए हैं, जिससे 2016 में मूलांक 9 स्वामी मंगल का केतू से षडाष्टक संबंध बनता है।

फिर भी अधिकतर विद्वानों ने इस साल को मंगल का साल माना है। 9 अंक वालों के लिए यह बहुत ही शुभ, उत्साह और उर्जा से भरपूर साल रहने वाला है। लेकिन अपने क्रोध पर नियंत्रण व अपनी उर्जा को सकारात्मक एवं रचनात्मक कार्यों में इस्तेमाल कर, आप अपने कार्यों को मुकाम तक पंहुचा सकते हैं। राष्ट्रीय स्तर पर 2016 में हमें दुर्घटनाओं एवं विस्फोटों के प्रति सचेत रहते हुए अपनी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करना होगा। इस पर क्लिक कर आप एस्ट्रोयोगी के अन्य लेख भी पढ़ सकते हैं।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गौरी हब्बा – गणेश चतुर्थी से पहले दिन मनाया जाता है यह पर्व

गौरी हब्बा – गणेश ...

सावन को शिव की आराधना का माह माना जाता है तो भाद्रपद माह जन्माष्टमी के कारण भगवान श्री कृष्ण की आराधना का माह माना जाता है। लेकिन भाद्रपद मास...

और पढ़ें...
हरतालिका तीज – इस दिन सखियों ने किया था पार्वती का हरण

हरतालिका तीज – इस ...

भाद्रपद यानि भादों मास की शुक्ल तृतीया तिथि को हरतालिका तीज के रूप में मनाया जाता है। हरतालिका तीज और हरियाली तीज में अंतर है इन्हें समान न स...

और पढ़ें...
वराह जयंती – कब और क्यों लिया भगवान विष्णु ने वराह अवतार?

वराह जयंती – कब और...

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ।।श्रीमदभगवद्गीता के इस श्लोक का भावार्थ है कि जब जब धर्म हानि ...

और पढ़ें...
गणेश चतुर्थी 2017 - कब है गणेश चतुर्थी की तिथि व मुहूर्त ?

गणेश चतुर्थी 2017 ...

गणेश चतुर्थी जिसे कि विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है, हिन्दु धर्म में एक बहुत ही शुभ पर्व माना जाता है। यह पर्व हिन्दी कैलेन्डर के भ...

और पढ़ें...
जानें गणेश चतुर्थी की व्रत कथा

जानें गणेश चतुर्थी...

हिंदू कैलेंडर के अनुसार वैसे तो भाद्रपद मास को भगवान श्री कृष्ण की पूजा का महीना माना जाता है लेकिन भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के बाद त...

और पढ़ें...