2016 - क्या खेलों में चमकेगा भारत

क्रिकेट हो या कुश्ती ओलिंपिक हों या राष्ट्रमंडल, खेलों के मामले में भारत का अपना एक स्थान है। ओलिंपिक खेलों में कड़ी प्रतिस्पर्धा होने के कारण भारत के हिस्से में मेडल भले ही इक्का-दुक्का आते हों लेकिन ओलिंपिक में अपना रुतबा कायम करने के भरसक प्रयास किए जाते हैं। हॉकी में तो सालों तक एकछत्र राज होने के बाद आज भारतीय टीम को ओलिंपिक में क्वालिफाई करने में ही काफी संघर्ष करना पड़ता है। ऐसे में 2016 में ग्रहों का भारत के लिए क्या योग रहेगा ? क्या ग्रह खिलाड़ियों के पक्ष में हैं या फिर गर्दिश में रहेंगें सितारे ? आइए एक नजर डालते हैं।

चूंकि इस वर्ष भारत पर चंद्रमा की महादशा और अंतर्दशा चल रही है। चंद्रमा सकारात्मक रुप से अति बलशाली है इसलिए खेलों के मामले में भारत इस साल काफी उपलब्धियां हासिल कर सकता है। अंक ज्योतिष के अनुसार भी मंगल की कृपा बनी रहेगी, उस लिहाज से भी खिलाड़ी उत्साहित व ऊर्जावान रहेंगें, जिससे उनके सफल होने की प्रबल संभावनाएं हैं। खास तौर पर तब जब उन्होंनें मुकाबले के लिए कड़ी मेहनत और लग्न से तैयारी की हो।

यह भी पढ़ें - 2016 - क्या कहते हैं आपके सितारे

रियो ओलिंपिक, पैरालिंपिक, आईसीसी टी-20 क्रिकेट विश्व कप आदि कई प्रतियोगिताएं इस वर्ष होंगी जिसमें भारतीय खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा सकती है। चंद्रमा का बलशाली होना कहीं न कहीं खेलों में महिला खिलाड़ियों को ज्यादा सफलता मिलने के संकेत कर रहा है।

लेकिन काल सर्प दोष के कारण खेल-जगत में बहुत परेशानी भी होगी खासकर जीत के करीब पंहुचकर हार का सामना करना पड़ सकता है। मसलन स्वर्ण की जगह रजत या कांस्य पदक से भी संतुष्ट होना पड़ सकता है।

कुल मिलाकर 2016 में भारत के सितारे बुलंद हैं। खिलाड़ियों से भी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा सकती है विशेषकर महिला खिलाड़ी देश का नाम रोशन कर सकती हैं।

अन्य एस्ट्रो लेख पढ़ने के लिए इस पर क्लिक करें

एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜