Skip Navigation Links
हथेली के वो निशान जो बनाते हैं धनवान


हथेली के वो निशान जो बनाते हैं धनवान

जीवन में आप जो भी मुकाम हासिल करते हैं उसके पिछे आपकी कड़ी मेहनत और उस मुकाम को हासिल करने के लिये किये गये प्रयास तो होते ही हैं लेकिन आप माने या न माने कहीं न कहीं किस्मत का कनेक्शन भी इससे जुड़ा होता है। जातक के जन्म समय व स्थानानुसार ग्रह नक्षत्रों का आकलन कर ज्योतिष जहां आपके भाग्य के बारे में बताता है तो वहीं ज्योतिष की ही एक विधा में आपकी हथेली यानि हाथ पर बनी रेखाएं व चिन्ह भी आपके बारे में काफी कुछ बताते हैं कि आप अपने जीवन में क्या मुकाम हासिल करने का माद्दा रखते हैं। इस लेख में हम बात करेंगें हथेली के कुछ ऐसे ही निशानों की। यदि आपकी हथेली में इस तरह के निशान आपको दिखाई देते हैं तो आपको अपनी मंजिल, पद, पैसे और प्रतिष्ठा पाने से कोई नहीं रोक सकता। तो आपके हाथ में कौनसे हैं वो निशान जो बनाते हैं आपको भाग्यवान।

स्वस्तिक – स्वस्तिक का प्रतीक सिर्फ हिंदू ही नहीं बल्कि दुनिया के दूसरे धर्मों में भी शुभ माना जाता है। सामुद्रिक ज्योतिष शास्त्र में भी मान्यता है कि जिस जातक के हाथ में स्वस्तिक का निशान होता है उसके भाग्य में अपार धन-संपदा का मालिक होना लिखा होता है।

तराजू – तराजू यह एक ऐसा निशान है जिसे समुद्रशास्त्र या कहें हस्तरेखा शास्त्र में बहुत ही शुभ माना जाता है। मान्यता है कि जिस जातक के हाथ में यह निशान होता है उसके भाग्य में पर्याप्त संपत्ति होती है। उसे अपने जीवन में कभी भी धन की कमी महसूस नहीं होती। क्योंकि माना जाता है कि तराजू का चिन्ह हाथ में लक्ष्मी योग बनाता है। जिस कारण आपको अपने जीवन में धन की प्राप्ति होती है।

त्रिशूल – वैसे तो जिन भी देवी देवताओं के हाथ में त्रिशूल दिखाई देता है उन्होंने जगत कल्याण के लिये दुष्टों का संहार अपने त्रिशूल स किया है। भगवान भोलेनाथ की प्रतिमा त्रिशूल लिये देखी ही होगी। यदि आपकी हथेली में किसी भी स्थान पर त्रिशूल का चिन्ह बनता है तो यह बहुत ही शुभ फलदायी होता है। मंगल पर्वत में होने पर तो इससे शिवयोग बनता है। जिसका सीधा सा संकेत आपका धनवान, गुणवान, कल्याणकारी और प्रतिष्ठित होने की ओर है।

हाथी – हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार मान्यता है कि जिस भी जातक के शुक्र पर्वत जो कि हथेली में अंगूठे के पास का स्थान होता है, में हाथ का चिन्ह बनता हो उसके भाग्य में ब्रह्म योग बनता है। और जिसके भाग्य में ब्रह्म योग का निर्माण हो रहा हो ऐसा जातक धनी तो होता ही है बुद्धिमान व ज्ञानवान भी होता है।

कमल का निशान – भगवान विष्णु से लेकर ब्रह्मा तक सरस्वती से लेकर मां लक्ष्मी तक कई देवी-देवताओं को प्रतिमाओं में कमल पर विराजे हुए दिखाया जाता है। शक्ति की पूजा में कमल के फूल अर्पित किये जाते हैं। वैसे कमल को भगवान विष्णु का चिन्ह माना जाता है। जिस कारण मान्यता है कि यदि हथेली पर कमल का चिन्ह कहीं बन रहा हो तो उसकी हथेली में विष्णु योग बनता है और जिसकी हथेली में विष्णु योग बनता हो भला लक्ष्मी उससे दूर कैसे हो सकती है, ऐसे जातकों पर मां लक्ष्मी की विशेष कृपा होती है।

अपना सटीक भविष्य जानने के लिये आप परामर्श कर सकते हैं देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें

संबंधित लेख

आपके माथे पर लिखा है आपका भाग्य, बताती हैं रेखाएं   |   हस्तरेखा और विवाह - हाथ की रेखाएं खोलती हैं आपके विवाह के राज




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...