बुद्ध पूर्णिमा 2019 - महात्मा बुद्ध पूर्णिमा तिथि व मुहूर्त 2019

वैशाख मास की पूर्णिमा को गौतम बुद्ध की जयंती के रूप में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है| इसलिए वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है| कहते है इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी| जहां विश्वभर में बौध धर्म के करोड़ों अनुयायी और प्रचारक है वहीँ उत्तर भारत के हिन्दू धर्मावलंबियों द्वारा बुद्ध को विष्णुजी का नौवा अवतार माना कहा गया है|

शांति की खोज में कपिलवस्तु के राजकुमार सिद्धार्थ 27 वर्ष की उम्र में घर-परिवार, राजपाट आदि छोड़कर चले गए थे| भ्रमण करते हुए सिद्धार्थ काशी के समीप सारनाथ पहुंचे जहाँ उन्होंने धर्म परिवर्तन किया| यहाँ उन्होंने बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचें कठोर तप किया| कठोर तपस्या के बाद सिद्धार्थ को बुद्धत्व ज्ञान की प्राप्ति हुई और वह महान सन्यासी गौतम बुद्ध के नाम से प्रचलित हुए और अपने ज्ञान से समूचे विश्व को ज्योतिमान किया|

बुध पूर्णिमा पर सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

वर्ष 2019 में बुद्ध पूर्णिमा या बुद्ध जयंती 18 मई को है। इस दिन गौतम बुद्ध की 2581वीं जयंती मनाई जाएगी।

बुद्ध पूर्णिमा के शुभावसर पर मंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है| सभी बुद्ध की प्रतिमा का जलाभिषेक करते है और फल, फूल, धुप इत्यादि चढाते हैं| बौध श्रद्धालु इस दिन ज़रुरतमंदों की सहायता करते हैं और कुछ श्रद्धालु इस दिन जानवरों-पक्षियों को भी पिंजरों से मुक्त करते है और विश्वभर में स्वतंत्रता का सन्देश फैलाते हैं|

 

बुद्ध पूर्णिमा तिथि व मुहूर्त 2019

बुद्ध पूर्णिमा तिथि – 18 मई 2019

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ –  04:10 बजे, 18 मई 2019

पूर्णिमा तिथि समाप्ति –  02:41 बजे, 19 मई 2019

 

संबंधित लेख :   पूर्णिमा 2019  |   पौष पूर्णिमा    |  माघ पूर्णिमा   |   फाल्गुन पूर्णिमा  |  चैत्र पूर्णिमा   |   ज्येष्ठ पूर्णिमा    

                       आषाढ़ पूर्णिमा   |   श्रावण पूर्णिमा   |   भाद्रपद पूर्णिमा   |   शरद पूर्णिमा   |   कार्तिक पूर्णिमा

एस्ट्रो लेख

सावन अमावस्या 2...

अमावस्या तिथि बहुत मायने रखती है। हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष का यह अंतिम दिन होता है। अमावस्या की रात्रि को चंद्रमा घटते-घटते बिल्कुल लुप्त हो जाता है। सूर्य ग्रहण जैसी खगोल...

और पढ़ें ➜

सावन शिवरात्रि ...

 सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते है...

और पढ़ें ➜

सावन का दूसरा स...

सावन का पूरा महिना भगवान शिव की अराधना का महिना होता है। इस महिने में शिव पूजा, जलाभिषेक करने से अत्यंत लाभदायक फल इंसान को मिलते हैं। जिनका अपना अपना महत्व होता है। 2019 के सावन क...

और पढ़ें ➜

सावन 2019 में ब...

हिन्दू पंचांग में श्रावण मास सबसे पवित्र मासों में से एक है। यह माह प्रभु शिव को समर्पित है और इस पावन अवसर पर बड़ी तादात में शिव भक्त देश-विदेश के शिव मंदिरों में जाकर उनके शिवलिंग...

और पढ़ें ➜