प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स

आजकल घरों में आप लव बर्ड, लॉफिंग बुद्धा, क्रिस्टल, कछुआ, कैंडल, विंड चाइम आदि अनेक चीजों को देखते हैं। कुछ लोग इन्हें सजावट के लिए ले आते हैं, लेकिन इसके पिछे किसी तरह का विश्वास या मान्यता भी होती हैं, इस बारे में शायद नहीं जानते।  दरअसल ये सभी चीजें चीनी वास्तु शास्त्र फेंग शुई के अनुसार शुभ व सकारात्मक उर्जा का सृजन करने वाली मानी जाती हैं। फेंगशुई के वास्तु उपाय दिन ब दिन लोकप्रिय होते जा रहे हैं। यहां आपको कुछ ऐसी ही फेंगशुई की लव टिप्स बताने जा रहे हैं, जिससे आपके संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी व आपके घर में सकारात्मक उर्जा संचरित होगी। यदि भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से अपनी शंकाओं के समाधान जानना चाहते हैं तो अभी डाऊनलोड करें एस्ट्रोयोगी एप्प।


फेंगशुई के लव टिप्स

फेंगशुई के अनुसार यदि आप विवाहित हैं तो ध्यान रखिए, टी.वी या कंप्यूटर आपसी संवाद की प्रक्रिया में बाधक हो सकते हैं जो कि रिश्तों को संभालने के लिए बहुत जरुरी है। इसलिए बेहतर होगा यदि आप टी.वी कंप्यूटर आदि को अपने शयनकक्ष से बाहर रखें।

बैडरुम में किसी भी तरह का विभाजन चाहे वह छत को दो हिस्सों में दिखाती बीम हो या फिर आपके बिस्तर को दो हिस्सों में करते गद्दे। फेंगशुई आपको डबल बेड पर भी सिंगल गद्दे के इस्तेमाल की सलाह देता है। इससे आपका प्यार और बढ़ेगा व नकारात्मकता की जो रेखा आपके बीच थी मिट जाएगी। नदी, तालाब, झरना और जल संग्रह आदि की तस्वीरें भी सोने वाले कमरे में नहीं लगानी चाहिए।

बिस्तर के सामने टॉयलेट का दरवाजा न हो, यदि हो तो हमेशा बंद रखें। शयनकक्ष में लगे दर्पण में भी आपका बिस्तर नजर नहीं आना चाहिए, फेंगशुई के अनुसार इससे संबंधों में तकरार होने की संभावना बनी रहती है। यदि उसे हटाना संभव न हो तो इस पर पर्दा डालकर रखें। आपके बैड का सिरा खिड़की या दिवार से सटा नहीं होना चाहिए। इससे भी नकारात्मक उर्जा आती है जो आपके संबंधों में तनाव पैदा कर सकती है। अपने बैडरुम में फ्लावर पोट या लव-बर्ड रख सकते हैं।

अविवाहितों को सलाह दी जाती है, अपने घर की सजावट पर थोड़ा समय लगाए, इससे सकारात्मक उर्जा मिलेगी। इसके साथ ही सिंगल कुर्सी, पक्षी या जानवरों की मूर्तियां जो अकेलेपन को दर्शाती हों घर में न रखें। जोड़े वाले पक्षियों की तस्वीर या मूर्ति लगाएं।

घर के दक्षिण-पश्चिम हिस्से को फेंगशुई में प्यार के लिए बहुत ही उपयुक्त स्थान माना जाता है। इसलिए इस हिस्से को जितना हो सके सजा कर रखें। दिवारों पर गुलाबी, हल्का नीला आदि रोमांटिक रंगों का इस्तेमाल करने से भी सकारात्मक उर्जा मिलती है।

कुल मिलाकर फेंगशुई आपको व्यवस्थित रुप से रहने की और ईशारा करता है। आप जितने व्यवस्थित व साफ-सुथरे तरीके से रहते हैं, उसी आधार पर सकारात्मक व नकारात्मक उर्जा आप पर प्रभाव डालती है।

उम्मीद है फेंगशुई के ये टिप्स आपके दांपत्य जीवन को सुखी व एकांत जीवन में प्रेम के बीजारोपण में सहायक सिद्ध होंगी। एस्ट्रोयोगी पर अन्य ज्ञानवर्धक लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜