Skip Navigation Links
हनुमान जी के इस मंदिर में मांगी हर मुराद होती है पूरी- गारंटी से


हनुमान जी के इस मंदिर में मांगी हर मुराद होती है पूरी- गारंटी से

क्या आपने कभी सुना या पढ़ा है कि भगवान भी अपने भक्त को किसी मांग के पूरा होने की गारंटी दे सकते हैं। जी हाँ, अपने ऐसा कभी सोचा भी नहीं होगा। लेकिन कर्नाटक राज्य के गुलबर्गा क्षेत्र में स्थित कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर, आपको यह गारंटी प्रदान करता है।

कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर,  यहाँ जाने वाले हर व्यक्ति को वरदान है कि अगर आपकी मांग सही है और आप पवित्र दिल से यहाँ जाते हैं तो हनुमान जी आपको गारंटी देते हैं कि आपका काम और आपकी मांग जरूर पूरी हो जाएगी। हनुमान जी के इस मंदिर का निर्माण सन 1957 में हुआ है।

हनुमान जी के इस मंदिर का यह नाम, पास ही के स्थित मेडिकल कालेज की वजह से पड़ा है। इस मेडिकल कालेज में पढ़ने वाले बच्चे, अपने पास होने की प्रार्थना लेकर आते थे और यहाँ आने वाले सभी बच्चे पास भी हो जाते थे। धीरे-धीरे मंदिर की महिमा का पता लोगों को पता चला और अपनी-अपनी प्रार्थना लेकर लोग यहाँ आने लगे। जब सभी ज़ायज मांगें पूरी होने लगी तो अंत में मंदिर का नाम ही ‘कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर’ रख दिया गया।

मंदिर की महिमा के बारे में लोग और मंदिर के पुजारी जी बताते हैं कि अगर कोई व्यक्ति अपनी मांग यहाँ लेकर आता है और ‘घंटा-आधा घंटा’ मंदिर में बैठकर, हनुमान चालीसा का निरंतर पाठ करता है तो भगवान हनुमान जी व्यक्ति की जरुर सुनते हैं और सही मांग को जल्द ही पूरा भी कर देते हैं।

यहाँ आने वाले लोग, धन, व्यवसाय, नौकरी, पारिवारिक कलेश, संतान प्राप्ति आदि से लेकर अपनी हर तरह की समस्या का समाधान प्राप्त करने यहाँ आते हैं।


पास ही में है किष्किन्धा पर्वत

वैसे रामायण से जुड़े कई धार्मिक स्थल भी आपको यहाँ देखने को प्राप्त हो सकते हैं। कुछ 6 घंटे की दुरी पर कौप्पल और बेल्लारी में स्थित किष्किन्धा पर्वत भी है। कहा जाता है कि हनुमान जी की माता जी ने यहीं पुत्र प्राप्ति के लिए तपस्या की थी। यहाँ एक पर्वत पर हनुमान जी का मंदिर भी है जो खुद अपने आप में अनोखी महिमा धारण किये हुए हैं।

तो अगर आपको भी भगवान हनुमान जी से गारंटी चाहिए तो जरुर जाए, कोरनटी गारंटी हनुमान मंदिर।


यह भी पढ़ें





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

देवशयनी एकादशी 2018 – जानें देवशयनी एकादशी की व्रतकथा व पूजा विधि

देवशयनी एकादशी 201...

साल भर में आषाढ़ महीने की शुक्ल एकादशी से लेकर कार्तिक महीने की शुक्ल एकादशी तक यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह, दीक्षाग्रहण, ग्रहप्रवेश, यज्ञ आदि धर्म कर्म से जुड़े जितने ...

और पढ़ें...
आषाढ़ पूर्णिमा 2018 – जानें गोपद्म व्रत व पूजा की विधि

आषाढ़ पूर्णिमा 201...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा तिथि धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण होती है लेकिन आषाढ़ माह की पूर्णिमा और भी खास होती है। आषाढ़ पूर्णिमा को ही गुरु पूर्णिमा के ...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
कर्क संक्रांति - जानें राशिनुसार कैसा रहेगा कर्क राशि में सूर्य का परिवर्तन

कर्क संक्रांति - ज...

सूर्य ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही प्रभावी ग्रह माने जाते हैं। सूर्य का राशि परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है। 17 जुलाई को सूर्य मिथनु राशि से कर्क में आ गये हैं। कर्...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...